हटा

  • Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Hata News
  • सड़क पर अितक्रमण और अव्यवस्थित वाहन पार्किंग से आवागम में परेशानी
--Advertisement--

सड़क पर अितक्रमण और अव्यवस्थित वाहन पार्किंग से आवागम में परेशानी

हटा। सड़क के दोनों ओर वाहन खड़े होने से दिन भर जाम के हालात बने रहते हैं। भास्कर संवाददाता| हटा नगर के मुख्य मार्ग...

Dainik Bhaskar

Jan 06, 2018, 03:50 AM IST
हटा। सड़क के दोनों ओर वाहन खड़े होने से दिन भर जाम के हालात बने रहते हैं।

भास्कर संवाददाता| हटा

नगर के मुख्य मार्ग दिनोंदिन सकरे होते जा रहे हैं। मुख्य मार्ग कचहरी तिराहा से बजरिया, मंदिर मस्जिद चौराहा से तिराहा मार्ग, सोसायटी मार्ग, एमएलबी मार्ग सर्वाधिक चलने वाले मार्ग हैं। इन मार्गों की वर्तमान में यह स्थिति है कि यहां से पैदल निकलना भी किसी जंग लड़ने से कम नहीं है। नगर के लिए नासूर बन चुकी इस समस्या से कोई छुटकारा दिलाने वाला नहीं है। बैठकों में इस मुद्दे को कई बार उठाया गया, लेकिन इस मूल समस्या की ओर कोई भी प्रशासनिक अधिकारी ध्यान नहीं देता है।

बस स्टैंड से नगर का प्रवेश द्वार एटीएम के सामने सर्वाधिक वाहनों का जमावड़ा रहता है। जहां हर पल जाम की स्थिति बन जाती है। प्रदीप जोगी, संतोष पटेल, गोलू रैकवार, कालू जैन ने बताया कि बस स्टैंड पर कई बार जाम की स्थिति बन जाती है। जिसमें कई बार तो वीआईपी अधिकारियों के वाहन, फायर बिग्रेड 108, 100 नंबर जैसे इमरजेंसी वाहन भी फंसे रहते हैं। मुकेश प्रजापति, राकेश पटेल ने बताया कि बजरिया जाने वाले मार्ग पर सड़कों पर दुकानें लगाई जाती हैं। बड़े बड़े दुकानदार अपनी दुकानों का समान आधी से ज्यादा सड़क पर फैलाएं हुए हैं। नगर पालिका वाले केवल अपनी पर्ची काटकर कर्तव्य पूर्ण होना मानते हैं। नगर पालिका के द्वारा बाजार को व्यवस्थित करने का प्रयास भी नहीं किया जा रहा है। विवेक जैन, नरेन्द्र, सुनील अठ्या ने बताया कि बाजार में ही इतना स्थान है कि यदि बाजार को सही तरीका से लगाया जाए तो सड़कों पर दुकानें नहीं लगेंगी। नगर पालिका की हॉकर्स जोन योजना भी फाइलों में सिमट कर रह गई।

दो दशक से उठ रही बाजार व्यवस्थित करने की मांग: नीरज विश्वकर्मा, रमेश साहू, कपिल पटेल ने बताया कि नगर पालिका के द्वारा स्वच्छता का संदेश दिया जा रहा है, लेकिन मुख्य बाजार में बिन बरसात के मचे कीचड़ को अलग नहीं कर पा रही है। बाजार में बना शापिंग कांप्लेक्स की सीढिय़ां प्रसाधन का कार्य कर रही है। दिन ढलते ही यहां शराबियों का उत्पात प्रारंभ हो जाता है। बाजार को व्यवस्थित करने की मांग विगत दो दशक से उठाई जा रही है, लेकिन जनप्रतिनिधियों ने अपनी वोट की राजनीति के कारण इस ओर कोई ठोस कदम नहीं उठाया है। जब भी किसी अधिकारी ने इसे सुधार करने का प्रयास किया तो जनप्रतिनिधियों ने इसमें अपना हस्तक्षेप किया है। अब यह समस्या बढ़ती जा रही है।

जल्द सुधारी जाएंगी व्यवस्थाएं


X
Click to listen..