हटा

  • Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Hata News
  • सालाें से नहीं हुअा मेंटेनेंस, झूलते ताराें के नीचे से गुजरती हैं अनेक यात्री बसें
--Advertisement--

सालाें से नहीं हुअा मेंटेनेंस, झूलते ताराें के नीचे से गुजरती हैं अनेक यात्री बसें

नगर के सबसे ज्यादा भीड़ वाले क्षेत्र बस स्टैंड पर बिजली के खुले तार हादसा को न्यौता दे रहे हैं। जहां पीवीसी केवल...

Dainik Bhaskar

Apr 06, 2018, 04:15 AM IST
सालाें से नहीं हुअा मेंटेनेंस, झूलते ताराें के नीचे से गुजरती हैं अनेक यात्री बसें
नगर के सबसे ज्यादा भीड़ वाले क्षेत्र बस स्टैंड पर बिजली के खुले तार हादसा को न्यौता दे रहे हैं। जहां पीवीसी केवल वायर लगना थे वहां आज तक पोलों पर खुले बिजली के तारों का जाल फैला हुआ है। गर्मी के कारण जो बिजली के तार फैल रहे हैं वे अब झूला बनकर लटक रहे हैं। बिजली विभाग के द्वारा बांस की डंडियों के सहारे उनकी दूर बनाई रखी जा रही है, लेकिन केबल बदलने को लेकर कोई पहल नहीं हो रही है।

स्थानीय निवासी विनोद नेमा, कंचन चौरसिया, कमलेश वर्मन, मुश्ताक खान में बताया कि कई बार तो हम लोगों को बस के ऊपर चढ़े लोगों को चिल्लाकर बताना पढ़ता है कि ऊपर बिजली तार हैं दूर रहना वरना हादसा हो जाएगा। उन्होंने बताया कि पूरे नगर में पीवीसी केबिल डली है लेकिन बस स्टैंड पर बिजली विभाग की उदासीनता बनी हुई है। संभवतः किसी हादसा के बाद ही यहां की केबिल बदली जाएगी। बांस के सहारे तारों की दूरी बनाई गई है। कभी-कभी तो जब दोनों बिजली तार स्पर्श करते हैं तो आग जलती रहती है। प्रशासन को तार तत्काल बदलना चाहिए। इससे कभी भी कोई गंभीर हादसा हो सकता है। स्थानीय लोगों ने इस मामले में जल्द से जल्द कार्रवाई करने और इस ओर ध्यान देने की बात कही।

बिजली के मीटर बाक्स में शार्ट-सर्किट से लगी आग, केबल जली

बनवार| विद्युत वितरण केंद्रों के तहत गांव-गांव में बिजली के खंबों में लगे खुले मीटर बॉक्सों में चिड़ियों के घोसला में शार्ट सर्किट से भीषण आग लग गई। जिससे देखते ही देखते आग ने उग्र रूप ले लिया और मीटर बाक्स में लगे कनेक्शनों की केवल पूरी तरह से जल गई। जिससे आसपास के लोगों की बिजली गुल हो गई।

जानकारी के अनुसार सुबह बिजली के मीटर बाक्स अचानक फाल्ट बनने से बाक्स के आसपास लगे चिड़ियों के घोंसले में आग लग गई। जिससे करीब आधा दर्जन लोगों के घरों की बिजली बंद हो गई और देखते ही देखते तारों की केबल लाइन जल गई। स्थानीय लोगों ने बिजली विभाग को फोन कर सूचित किया। गौरतलब है कि बिजली विभाग के कर्मचारियों की लापरवाही के कारण मीटर बाक्स खुले रहते हैं, जिसके कारण उनमें पक्षी अपना घोंसला बना लेते हैं। जिससे शार्ट सर्किट के कारण जरा सी चिंगारी के कारण पूरा मीटर बाक्स खराब हो जाता है।

बस के ऊपर चढ़कर यात्री उतारते हैं सामान

बस स्टैंड पर एक साथ कई बसें रुकती हैं, जिसके कारण कुछ बसें तो बिजली तार के नीचे ही खड़ी कर दी जाती हैं। यहीं से बस के ऊपर चढ़कर यात्री अपनी सामान उतारते हैं। बस की छत पर जब कोई व्यक्ति खड़ा होता है तो उसका सदैव बिजली तार में स्पर्श होने का भय बना रहता है। इन बिजली के तारों में तो कई बार यात्रियों की सामग्री स्पर्श कर जाती है और हादसा होते-होते बच जाता है।

भास्कर संवाददाता| हटा

नगर के सबसे ज्यादा भीड़ वाले क्षेत्र बस स्टैंड पर बिजली के खुले तार हादसा को न्यौता दे रहे हैं। जहां पीवीसी केवल वायर लगना थे वहां आज तक पोलों पर खुले बिजली के तारों का जाल फैला हुआ है। गर्मी के कारण जो बिजली के तार फैल रहे हैं वे अब झूला बनकर लटक रहे हैं। बिजली विभाग के द्वारा बांस की डंडियों के सहारे उनकी दूर बनाई रखी जा रही है, लेकिन केबल बदलने को लेकर कोई पहल नहीं हो रही है।

स्थानीय निवासी विनोद नेमा, कंचन चौरसिया, कमलेश वर्मन, मुश्ताक खान में बताया कि कई बार तो हम लोगों को बस के ऊपर चढ़े लोगों को चिल्लाकर बताना पढ़ता है कि ऊपर बिजली तार हैं दूर रहना वरना हादसा हो जाएगा। उन्होंने बताया कि पूरे नगर में पीवीसी केबिल डली है लेकिन बस स्टैंड पर बिजली विभाग की उदासीनता बनी हुई है। संभवतः किसी हादसा के बाद ही यहां की केबिल बदली जाएगी। बांस के सहारे तारों की दूरी बनाई गई है। कभी-कभी तो जब दोनों बिजली तार स्पर्श करते हैं तो आग जलती रहती है। प्रशासन को तार तत्काल बदलना चाहिए। इससे कभी भी कोई गंभीर हादसा हो सकता है। स्थानीय लोगों ने इस मामले में जल्द से जल्द कार्रवाई करने और इस ओर ध्यान देने की बात कही।

दिए जाएंगे निर्देश


X
सालाें से नहीं हुअा मेंटेनेंस, झूलते ताराें के नीचे से गुजरती हैं अनेक यात्री बसें
Click to listen..