• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Hata News
  • आईटीआई में माइनस मार्किग हटने से परीक्षा परिणाम 60 प्रतिशत ज्यादा
--Advertisement--

आईटीआई में माइनस मार्किग हटने से परीक्षा परिणाम 60 प्रतिशत ज्यादा

डीजीईटी द्वारा माईनस मार्किग हटाये जाने के बाद पिछले सप्ताह में प्रांरभ हुई एनसीव्हीटी परीक्षा के परिणाम पहले से...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 04:40 AM IST
डीजीईटी द्वारा माईनस मार्किग हटाये जाने के बाद पिछले सप्ताह में प्रांरभ हुई एनसीव्हीटी परीक्षा के परिणाम पहले से ज्यादा बेहतर आ रहे है, जिससे छात्र/छात्राएँं खुश हंै। छात्रों का कहना है कि हम पढ़ाई मंे जो मेहनत करते थे माईनस मार्किग होने के कारण हमे उसका पूरा लाभ नहीें मिल पाता था।

नेगेटिव मार्किग के डर से पूरे प्रश्नों के उत्तर नहीं दे पाते थे किसी प्रश्न में थोडा सा भी संदेह होने पर उसे छोड़ना पड़ता था, परंतु अब आॅनलाईन पेपर के बाद रिजल्ट सामने आता है तो बहुत खुशी होती है।

उन्होंने बताया पहले की अपेक्षा अब रिजल्ट बहुत अच्छा आ रहा है। नव दुर्गा आईटीआई के संचालक नीलेष खरे ने बताया कि आईटीआई में अखिल भारतीय व्यवसायिक परीक्षा एनसीवीटी के अंतर्गत परीक्षा होती है जिसमें सभी प्रष्न आॅब्जेटिव आते है सबसे बड़ी बात थ्योरी का कोई भी प्रष्न नहीं पूछा जाता। आॅनलाईन पेपर होता है। अभी तक प्रावधान था कि यदि किसी प्रष्न का उत्तर गलत हो जाता है तो पूछे गए सवाल के नंबर के आधार पर 25 प्रतिषत अंक सही प्रश्न के उत्तर से काट लिया जाता था। अब फरवरी 2018 से होने वाली परीक्षाओं से केन्द्र सरकार की डीजीईटी के तहत नए नियम लागू करते हुऐ किसी प्रष्न का उत्तर गलत होने की दषा में कोई नेगेटिव मार्किग नही होगी। यह निर्णय पूर्णतः छात्र हित में है।

माईनस मार्किग हटने से, पहले की अपेक्षा मार्च में होने वाले पेपरों में छात्र/छात्राओं के परीक्षा परिणाम में लगभग 60 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है जिससे लगने लगा है कि छात्रो को उनकी मेहनत का पूरा परिणाम मिल रहा है।