Hindi News »Madhya Pradesh »Hata» अस्पतालों में लचर सुरक्षा पर तत्कालीन सीएमएचओ का इंक्रीमेंट रोका

अस्पतालों में लचर सुरक्षा पर तत्कालीन सीएमएचओ का इंक्रीमेंट रोका

जिले में चिकित्सालयों की सुरक्षा में लापरवाही बरतने पर तत्कालीन सीएमएचओ डॉ. एके तिवारी की एक वार्षिक वेतन वृद्धि...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 06, 2018, 04:50 AM IST

जिले में चिकित्सालयों की सुरक्षा में लापरवाही बरतने पर तत्कालीन सीएमएचओ डॉ. एके तिवारी की एक वार्षिक वेतन वृद्धि रोकी गई है। चिकित्सालयों में ड्यूटी करने वाले सिक्योरिटी गार्ड भर्ती प्रक्रिया का टेंडर न करना डॉ. तिवारी को भारी पड़ गया। संचालनालय स्वास्थ्य सेवा विभाग के उपसंचालक डॉ. जेपी खरे ने 30 जनवरी 2016 को कारण बताअो नोटिस जारी किया है। नोटिस में डॉ. तिवारी के कार्यकाल के दौरान कई अनियमिताओं का जिक्र था। जिसके संबंध में डॉ. ने अपना जवाब संचालनालय के सामने प्रस्तुत किया था, लेकिन जवाब संतोषजनक न होने के कारण उनके खिलाफ कार्रवाई की गई है। इसके पहले भी डॉ. तिवारी के कार्यकाल पर अधिकारियों ने प्रश्नचिन्ह लगाया था। कोर्ट ने 2009 में 7 एमपीडब्ल्यू को हटाया था। जिसके बाद मामला कोर्ट में चला। कोर्ट के स्टे आर्डर के बाद कुछ एमपीडब्ल्यू को 2013 और कुछ 2014 में फिर से वापस काम पर रखा गया था। जिनके 2009 से 2014 तक बाहर रहे एमपीडब्ल्यू के वेतनमान को बिना वरिष्ठ अधिकारियों के सीएमएचओ डॉ.एके तिवारी ने अपने मनमर्जी से आहरण कर लिया। जिसकी जांच अभी चल रही है। काम में लापरवाही और मुख्यालय पर निवास न करने का दोषी मानते हुए तत्कालीन जतारा बीएमओ डॉ. लखनलाल चंदेरिया की भी संचालनालय स्वास्थ्य विभाग के उपसंचालक ने दो वार्षिक वेतन वृद्धि रोकी है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Hata

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×