• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Hata
  • झारखंडी की प्राकृति छठाएं देखकर आनंदित हुए छात्र छात्राएं
--Advertisement--

झारखंडी की प्राकृति छठाएं देखकर आनंदित हुए छात्र-छात्राएं

Dainik Bhaskar

Jan 08, 2018, 05:00 AM IST

Hata News - वन विभाग की टीम ने बच्चों को झारखंडी के प्राकृ़तिक स्थल दिखाए भास्कर संवाददाता| फतेहपुर नववर्ष के उपलक्ष्य...

झारखंडी की प्राकृति छठाएं देखकर आनंदित हुए छात्र-छात्राएं
वन विभाग की टीम ने बच्चों को झारखंडी के प्राकृ़तिक स्थल दिखाए

भास्कर संवाददाता| फतेहपुर

नववर्ष के उपलक्ष्य में वन परिक्षेत्र अधिकारी हटा के मार्गदर्शन में फतेहपुर बरी कनोरा लिधोरा भिलौनी सहित अनेक गांव के बच्चों को झारखंडी की प्राकृतिक छटाओं के दर्शन कराए गए। इस दौरान प्राकृतिक छटाएं देखकर बच्चे आनंदित हुए। इस मौके पर बच्चों को ज्ञानवर्धक जानकारी प्रदान की गई साथ ही अनुपम दृश्यों से अवगत कराया गया। साथ ही सहभोज कर पिकनिक का लुत्फ उठाया गया। ऐतिहासिक इमारतों के बीच जहां बड़ी बड़ी शिलाओं के बीच बहते झरने के अनुपम दृश्यों का बच्चों ने जमकर आनंद लिया। वहीं महिलाओं ने बाटियां बनाकर आनंद लिया। साथ ही स्कूली बच्चों ने पहली बार अनुपम दृश्यों को देखकर खुशी व्यक्त की। ख्रासबात यह है कि वन विभाग के कुछ अधिकारियों ने भी इस स्थल का पहली बार नजारा देखा और पुरातत्व संपदाओं के बारे में जाना।

अमावस्या को मेला लगता है: बताया गया है कि यहां कभी राजा महाराजा यहां बैठकर राज्य चलाते थे जिन्होंने यहां पर स्थित विशाल किले का निर्माण कराया था। लेकिन यह धरोहरें आज खंडहर होती जा रही हैं। किले के पत्थरों का उत्खनन चल रहा है। पुरातत्व विभाग के अधीन रहकर भी यह किला अपना अस्तित्व खोता जा रहा है। बच्चों ने झारखंडी में दिनभर घूमकर यहां के नजारों का आनंद उठाया सैकडों वर्स पुराने किले की ऐतिहासिकता को भ्रमण कर समझा। झारखंड के पास स्थित लगभग 11 सौ वर्ष पुराने किले को क्षेत्र के बच्चों ने घूमकर यहां के ऐतिहासिक महत्व को समझा।

लोगों के अनुसार यहां कई राजाओं ने राज्य किया राजा बखतबली यहां के राजा रहे। लगभग 5 सौ वर्ष पहले राजा बखत बली की मौत हो गई। पहले यह झारखंड कहलाता था यहां बस्ती भी थी किंतु बीमारी फैलने से यह स्थल वीरान हो गया। अब यह पुरातत्व विभाग के अधीन है। झारखंडी का नाला सुनार नदी से जाकर मिला है बटियागढ़ जनपद के ग्राम भिलौनी से झारखंडी स्थल महज 3 किमी है। जहां अमावस्या को मेला लगता है। यहां क्योरी माता शंकर जी का मंदिर एवं हनुमान जी का मंदिर है। जिनके दर्शनों को लोग आते रहते हैं। पिकनिक मनाने के बाद यहां गीत संगीत का कार्यक्रम हुआ। वहीं बच्चों ने राष्ट्रीय गीत गाए वन परिक्षेत्र अधिकारी प्रदीप शुक्ला ने बताया कि विभाग की तरफ से यहां बच्चों व सभी लोगों को पुरी सब्जी भोज का कार्यक्रम भी रखा। जहां लोगों ने पिकनिक का आनंद लिया।

इस मौके पर वन परिक्षेत्र अधिकारी हटा श्री शुक्ला सहायक वन परिक्षेत्र अधिकारी सतीश पाराशर परिक्षेत्र अधिकारी फतेहपुर जेपी दुबे वनपाल वर्मा चौरसिया जिला पंचायत सदस्य परमानंद कुशवाहा नीरज तिवारी व क्षेत्र की सभी वीटों के वन रक्षक मौजूद थे।

फतेहपुर। झारखंडी में बच्चों किया भ्रमण। सहभोज किया।

X
झारखंडी की प्राकृति छठाएं देखकर आनंदित हुए छात्र-छात्राएं
Astrology

Recommended

Click to listen..