--Advertisement--

एसडीएम ने सेव खिलाकर तुड़वाया नेताओं का अनशन

गुरूवार से नगर पालिका सीएमओ के विरुद्ध लामबंद नगर पालिका अध्यक्ष अरुणा तंतवाय, पुष्पेंद्र हजारी, उपाध्यक्ष बृजेश...

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2018, 05:55 AM IST
गुरूवार से नगर पालिका सीएमओ के विरुद्ध लामबंद नगर पालिका अध्यक्ष अरुणा तंतवाय, पुष्पेंद्र हजारी, उपाध्यक्ष बृजेश दुबे सहित अन्य समर्थकों द्वारा जारी अनशन शनिवार को समाप्त हो गया।

कलेक्टर के निर्देश पर एसडीएम नारायण सिंह, तहसीलदार ज्योति ठाकुर, टीआई प्रदीप सोनी ने अनशन स्थल पर पहुंच कर उनकी जायज मांगों को मानते होंगे आश्वासन दिया कि आपकी जो भी उचित मांगे हैं उसे तत्काल कलेक्टर के समक्ष भेजकर पूर्ण की जाएंगी। इसके बाद एसडीएम ने अनशन पर बैठे सभी लोगों को सेव खिलाकर अनशन तुड़़वाया एवं आगामी माह में आयोजित बुंदेली मेला भरवाने की तैयारियों के लिए कहा। उन्होंने सभी को आश्वस्त किया की मेला की प्रभारी अधिकारी सीएमओ प्रियंका झारिया नहीं होंगी।

उल्लेखनीय है कि नगर पालिका सीएमओ एवं कांग्रेस शासित अध्यक्ष एवं पार्षदों के बीच काफी समय से तनातनी एवं मनमुटाव का माहौल चल रहा था। साथ ही एक दूसरे की शिकवा शिकायतों का दौर जारी था, जो विगत महीनों से पूरे जिले की सुर्खियां में छाया रहा। वहीं 4 दिसंबर को नगरपालिका में बुंदेली मेला के आयोजन के लिए बैठक का आयोजन अध्यक्ष व सीएमओ द्वारा किया गया था। जिसमें सर्वसम्मति से मेला के सूत्रधार पुष्पेंद्र सिंह हजारी के नेतृत्व में मेला भरवाने एवं व्यवस्था के लिए प्रस्ताव पारित किया गया था, लेकिन सीएमओ प्रियंका झारिया द्वारा उसी प्रस्ताव में कुछ दिन बाद छेड़खानी की गई। जिसके विरोध में अध्यक्ष एवं कुछ पार्षदों द्वारा कलेक्टर से शिकायत की गई थी। जिसमें उन्होंने कार्रवाई का आश्वासन दिया था, लेकिन अध्यक्ष एवं पार्षदों ने आरोप लगाते हुए कहा था कि सीएमओ पर सत्ताधारी नेताओं का संरक्षण होने के कारण अधिकारी द्वारा कार्रवाई नहीं की गई, जिसके विरोध में गुरूवार से भूख हड़ताल सत्याग्रह पर बैठने को मजबूर होना पड़ा। दो दिन बीत जाने के बावजूद सभी के स्वास्थ्य में गिरावट होने लगी थी लेकिन इसके बावजूद भी अधिकारियों द्वारा उनकी मांगें मानने पर ध्यान नही दिया गया ।

मामला

सीएमओ प्रियंका झारिया नहीं होंगी मेला अधिकारी, हटा बंद के दौरान दोनों पक्षों में हुई झड़प, मामला पुलिस थाना पहुंचा

हटा। अनशन पर बैठीं नगर पालिका अध्यक्ष व कांग्रेस नेता पुष्पेंद्र हजारी।

हटा बंद का किया आह्वान हुई

दोनों पक्षों में झड़प

अनशन पर बैठने के बावजूद भी मांगे नहीं सुनी जाने से शुक्रवार की रात्रि को हटा बंद करने का एलाउंस करा दिया। सुबह से सभी व्यापारी, दुकानदारों से अपनेे प्रतिष्ठान स्वेच्छा से बंद करने का निवेदन किया जा रहा था। इसी दौरान बड़ा बाजार में नाश्ता की दुकान पर दोनों पक्षों में विवाद हो गया और मामले ने इतना तूल पकड़ा कि दोनों पक्षों के वरिष्ठ नेता एवं समर्थक रिपोर्ट लिखवाने थाने पहुंचे। जहां पर मामले को गंभीरता से लेते हुए एसडीओपी कमल कुमार जैन टीआई प्रदीप सोनी ने दोनों पक्षों पर मामला दर्ज कर लिया। इस दौरान नगर में बलवे जैसी स्थिति निर्मित हो गई थी लेकिन पुलिस ने मोर्चा संभाल लिया। इस दौरान विधायक उमादेवी, लालचंद खटीक, जिपं अध्यक्ष शिवचरण पटेल, विजय सिंह राजपूत, दीपक जैन, मनोज सराफ अपने सैकड़ों भाजपा समर्थकों सहित पुलिस थाने में उपस्थित रहे। वहीं अनशन पर बैठे पुष्पेंद्र हजारी के भी सैकड़ों समर्थक थाने में मौजूद रहे। दोनों पक्षों पर मामला दर्ज होने के बावजूद अपने अपने नेताओं के साथ नगर में दुकानें खुलवाने एवं बंद करने का आव्हान करते हुए देखे गए। इस दौरान नगर में ऐसा माहौल पहली बार देखा गया कि जहां एक ओर नेता दुकान बंद करने का आव्हान व निवेदन कर रहे हैं वही पीछे से सत्ताधारी नेता व्यापारियों से अपने-अपने प्रतिष्ठान खोलने का निवेदन कर रहे थे । इस दौरान नगर के व्यापारियों में असमंजस की स्थिति निर्मित थी।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..