हटा

  • Home
  • Madhya Pradesh News
  • Hata News
  • सुनार नदी में लबालब भरा पानी , फिर भी लोगों को चार दिन में एक बार मिल रहा
--Advertisement--

सुनार नदी में लबालब भरा पानी , फिर भी लोगों को चार दिन में एक बार मिल रहा

नगर का यह सौभाग्य है कि कई वर्षों के बाद गर्मी में भी जीवन दायनी सुनार नदी में अच्छा खासा जलस्तर है। नगर में जल...

Danik Bhaskar

May 17, 2018, 03:10 AM IST
नगर का यह सौभाग्य है कि कई वर्षों के बाद गर्मी में भी जीवन दायनी सुनार नदी में अच्छा खासा जलस्तर है। नगर में जल सप्लाई के लिए किसी भी स्तर पर पानी की कोई कमी नहीं है। लेकिन इसके बावजूद भी नगर में पुरानी परंपरानुसार चौथे दिन लोगों को पानी मिल रहा है। बस स्टैंड, एसडीएम कार्यालय तिराहा, मंदिर- मस्जिद चौराहा, बड़ा बाजार, बजरिया रोड, आजाद वार्ड, पुरानी गल्ला मंडी में जहां पाइप लाइन लीकेज होने के कारण जगह- जगह पानी सड़कों पर बह रहा है। वहीं नवोदय वार्ड, गांधी वार्ड, शास्त्री वार्ड, बालाजी वार्ड के कई हिस्सों में आज भी जल सप्लाई का पानी नहीं पहुंच रहा है। नगर पालिका के माध्यम से जो जल सप्लाई किया जा रहा है, लोग उस पानी को पीने में उपयोग करने से कतरा रहे हैं।

पानी के लिए एक किमी का सफर कर रहे हैं : इस वर्ष पंचमनगर बांध से पानी छोड़े जाने के बाद नदी को नया जीवन मिला, पानी का भराव भी अच्छा है। लेकिन इस पानी का उपयोग करने में नगर पालिका बोनी साबित हो रही है। गांधी वार्ड की पार्षद कौशल्यारानी सुम्मेर अहिरवार ने बताया कि गांधी वार्ड में 100 से अधिक परिवार के लोगों को पानी के लिए एक- एक किमी का सफर करना पड़ रहा है। टैंकर से मिलने वाला पानी पर्याप्त नहीं है। शास्त्री वार्ड के पूर्व पार्षद मनोहर शर्मा ने बताया कि गत वर्ष नगर पालिका ने राजस्व अधिकारियों सहित वार्ड में चौपाल लगाकर आश्वस्त किया था कि दो माह में वार्ड में पानी पहुंचेगा। पानी तो वार्ड में नहीं पहुंचा लेकिन अधिकारी जरूर चले गए। पानी सप्लाई की जमीनी हकीकत देखने भी कोई यहां नहीं आता है। नवोदय वार्ड की हसीना बी, मुश्ताक खान, मुकेश साहू ने बताया कि वार्ड में जहां साधन संपन्न लोग रहते वहां तक तो पानी पहुंचने लगा है। लेकिन गरीबों के घर तक आज भी पानी नहीं पहुंचा है।

बालाजी वार्ड निवासी प्रमोद सिंघई, बद्री यादव, आदित्य सोनी, अर्पित जैन, दीपक सोनी, दशरथ यादव, मनोरमा, संदीप, आलोक, रमेशचंद्र, अभिषेक ने एक ज्ञापन नगर पालिका में देकर बताया कि पुरानी अस्पताल जल सप्लाई लाइन में पानी नहीं आता है। केवल हवा आ रही है। कई बार मौखिक शिकायत की लेकिन कोई सुधार नहीं हुआ। इसके साथ जगह- जगह पाइप लाइन लीेकेज की शिकायत भी नगर पालिका के अधिकारियों से की है। नगर पालिका में जल सप्लाई का कार्य देख रहे उपयंत्री जीतेश धुर्वे ने बताया कि एक अप्रेल प्रभार लिया है, दो दिन के अंतर से नगर पानी सप्लाई किया जा रहा है। अभी ज्यादा जानकारी नहीं है, सारे लाइनमेन की बैठक कर व्यवस्था को सुधारा जाएगा।

हटा। नदी में भरपूर पानी होने के बाद भी नगर में पेयजल सप्लाई व्यवस्था ठीक नहीं हुई।

32 हजार लोगों को नहीं

मिल रहा पर्याप्त पानी

पूरे नगर को वर्तमान में तीन स्थानों से जल सप्लाई किया जा रहा है। नपा कार्यालय के बाजू वाले फिल्टर प्लांट से, गौरीशंकर वाली टंकी एवं पन्ना नाका के बूस्टर पंप से शहर में जल सप्लाई की जा रही है। तीनों योजनाओं को यदि जोड़ा जाए तो अनुमान है कि 50 हजार की जनसंख्या को सहज रूप से जल सप्लाई किया जा सकता है। लेकिन स्थाई देखरेख, पुरानी परंपराओं के चलते 32 हजार लोगों को भी पर्याप्त पानी नहीं मिल पा रहा है। कहीं दो दिन के अंतर से तो कहीं चार दिन के अंतर से पानी सप्लाई हो रहा है।

Click to listen..