--Advertisement--

उठाव न होने से सड़क किनारे रखा हजारों बोरी गेहूं

गेहूं उपार्जन केंद्रों में व्यवस्थाओं में सुधार न होने से किसान परेशान हैं। समितियों के रखे गेहूं का परिवहन न...

Dainik Bhaskar

May 11, 2018, 03:45 AM IST
गेहूं उपार्जन केंद्रों में व्यवस्थाओं में सुधार न होने से किसान परेशान हैं। समितियों के रखे गेहूं का परिवहन न होने के कारण तुलाई का काम धीमी रफ्तार से चल रहा है। जिससे किसानों को कई दिनों तक समितियों में डेरा डालना पड़ रहा है। किसानों का आरोप है कि खरीदी केंद्रों में सुविधाएं तो हैं लेकिन शासन के नियमों की आड़ में किसानों को लूटा जा रहा है।

हटा मंडी की शाखा बरौदाकला के ग्राम हारट में गेहूं उपार्जन केंद्र पर खरीदी के लिए यार्ड न होने के कारण खुली जगह मे काम चल रहा है। जिसके कारण किसानों को पर्याप्त जगह नहीं होने से माल लाने व खाली करने में परेशानी हो रही है। गेहूं का मूल्य मंडी से सही नहीं मिलने से किसान समर्थन मूल्य पर माल बेचना चाहता है, लेकिन उसे पर्याप्त सुविधा नहीं मिलने से वह हताश होकर कम कीमत में ही मंडी में माल बेच कर आर्थिक नुकसान झेल रहा है। समर्थन मूल्य पर खरीदे गए गेहूं को रखने के लिए गोदाम में जगह नहीं होने से केंद्रों पर माल का उठाव नहीं हो रहा है। यही वजह है केंद्र पर हजारों क्विंटल गेहूं जमा हो गया है। उठाव नहीं होने के कारण केंद्र के बाहर पचास मीटर क्षेत्र में बोरियां ही बोरियां नजर आ रही हैं। दूसरी ओर मौसम भी खराब चल रहा है। ऐसे में यदि बारिश हो जाती है तो हजारों बोरी गेहूं खराब हो जाएगा। नियमानुसार खरीदा गेहूं तीसरे दिन ही उठ जाना चाहिए अन्यथा ठेकेदार पर पैनाल्टी लग जाती है लेकिन ठेकेदार शुरू से ही नियम का पालन नहीं कर रहा है।

ग्राम हारट के किसान राधिका अवस्थी ने बताया की केंद्र में पर्याप्त व्यवस्था नहीं होने से किसान परेशान हैं। गेहूं का परिवहन न होने से अफरा-तफरी मची है। जगह न होने के चलते सड़क पर अपनी फसल रखनी पड़ रही है। किसानों को खाने पीने की कोई व्यवस्था नही हैं। इन सब हालातों के बारे में क्षेत्रीय विधायक लखन पटेल व सहकारिता के अध्यक्ष राजेंद्र गुरू से भी इसकी शिकायत की लेकिन इस ओर ध्यान नहीं दिया गया। वहीं किसान दर्शन सिंह ने आरोप लगाया की केंद्र प्रभारी भागीरथ पटेल 12 बजे के बाद ही दमोह से आते हैं, वहीं ऑपरेटर संदीप पटेल मनमाने तरीके से आते जाते हैं जिसके करण किसानों को समर्थन मूल्य के खरीद केंद्रों पर इंतजार करना पड़ रहा है।

कल ही दिखवाते हैं


दो दिन से सड़क पर खड़ी ट्रैक्टर- ट्रॉलियां

किसान सौरभ अवस्थी ने बताया कि दो दिनों से जगह न होने से तुलाई के इंतजार में हैं, लेकिन केंद्र पर जगह न होने से तुलाई नहीं हो रही है। जिसके कारण किसान सड़क पर ही अपने ट्रैक्टर लेकर दो दिनों से खड़े होने को मजबूर हैं। दूसरी ओर पर्याप्त जगह नहीं होने के सड़क पर वाहन और माल रखना पड़ रहा है, जिससे आवारा मवेशी इसे अपना निवाला बना रहे हैं। वहीं सड़क पर खड़े वाहनों से दुर्घटनाओं की आशंका बनी रहती है। इस संबंध में पथरिया विधायक लखन पटेल से बात करने का प्रयास किया गया लेकिन फोन रिसीव नहीं हुआ।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..