Hindi News »Madhya Pradesh »Hata» रतजगा के साथ 2 किमी दूर से ला रहे पानी, ग्राम पंचायत के टैंकर निजी कब्जे में

रतजगा के साथ 2 किमी दूर से ला रहे पानी, ग्राम पंचायत के टैंकर निजी कब्जे में

रनेह। गांव में प्राचीन तालाबों में नाममात्र का पानी नहीं बचा है। भास्कर संवाददाता| रनेह जनपद पंचायत हटा की...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 10, 2018, 05:30 AM IST

रतजगा के साथ 2 किमी दूर से ला रहे पानी, ग्राम पंचायत के टैंकर निजी कब्जे में
रनेह। गांव में प्राचीन तालाबों में नाममात्र का पानी नहीं बचा है।

भास्कर संवाददाता| रनेह

जनपद पंचायत हटा की ग्राम पंचायत रनेह इस समय पानी की विकराल समस्या से जूझ रही है। स्थिति यह है कि गांव के सभी हैंडपंपों ने दम तोड़ दिया है। जिससे ग्राम में जल संकट व्याप्त हो गया है। जिससे लोगों को गांव के बाहर दो किमी दूर से पानी जाना पड़ रहा है।

ग्राम में पेयजल सप्लाई के लिए ग्राम पंचायत द्वारा नल जल योजना संचालित है जो मनमानी के चलते ग्रामवासियों के लिए परेशानी का कारण बनी हुई है। ग्रामवासियों ने बताया कि पेयजल सप्लाई की मेन लाइन से निजी कनेक्शन दिए जाने से लाइन में प्रेशर न बनने के कारण ग्राम में पानी नहीं पहुंच रहा है। हालांकि पीएचई द्वारा व्यारमा नदी को स्त्रोत मानकर ग्राम बिजवार के पास आवर्धन जल प्रदाय योजना 2 करोड़ 67 लाख की योजना तैयार की गई लेकिन इस योजना में 3 प्रतिशत राशि अंशदान की करीब 8 लाख की राशि जमा न होने के कारण यह योजना अधर में लटकी है।

अंशदान की राशि के लिए ग्रामवासी सांसद प्रहलाद पटेल, विधायक उमादेवी खटीक गुहार लगा चुके हैं, लेकिन आश्वासन के सिवाय कुछ नहीं मिला। वहीं दूसरी ओर ग्रामीणों का आरोप है कि पंचायत के टैंकर प्रायवेट व्यक्तियों को देकर जनता से मनमाने पैसे वसूल कर रहे हैं जो पंचायत के टेंकरों पर अपना निजी स्वामित्व बनाए हुए हैं। वहीं जवाबदारों की इस अनदेखी के चलते रनेह थाना में पदस्थ प्रधान आरक्षक हरिश्चंद्र दुबे और आरक्षक साजिद खान ने जेसीबी मशीन से गड्‌ढा बनवाया जिसे राममनोहर तिवारी अपने निजी कुएं में मोटर लगाकर प्रतिदिन भर रहे हैं। ताकि मवेशियों को पेयजल की व्यवस्था हो जाए।

तीन बार दे चुके आवेदन

ग्राम में टैंकरों से जल प्रदाय के लिए जनपद पंचायत हटा को परिवहन राशि के लिए तीन बार आवेदन दिए मगर स्वीकृति न मिलने के कारण पंचायत द्वारा टैंकर चलाना संभव नहीं है। इस स्थिति में जिस व्यक्ति को टैंकर की आवश्यकता होती उसे टैंकर उपलब्ध करवाया जाता है।- विद्यावती व्यास, सरपंच

पेयजल परिवहन किया जाएगा

जल प्रदाय की व्यवस्था का संचालन करना पंचायत की जबाबदेही है, मेन लाइन से कनेक्शन नियम विरुद्ध हैं इसमें मैं कुछ नहीं कर सकता, जलप्रदाय के लिए परिवहन राशि की स्वीकृति एसडीएम दे सकते हैं। आरके चौबे, जनपद सीईओ

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Hata

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×