Hindi News »Madhya Pradesh »Hoshangabad» इन 5 खेलों के 22 गोल्ड पर मजबूत है हमारी दावेदारी...

इन 5 खेलों के 22 गोल्ड पर मजबूत है हमारी दावेदारी...

इन 5 खेलों के 22 गोल्ड पर मजबूत है हमारी दावेदारी... कुश्ती: पिछले 3 गेम्स में 15 गोल्ड; साक्षी, सुशील पर इस बार...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 03:20 AM IST

इन 5 खेलों के 22 गोल्ड पर मजबूत है हमारी दावेदारी...
इन 5 खेलों के 22 गोल्ड पर मजबूत है हमारी दावेदारी...

कुश्ती:पिछले 3 गेम्स में 15 गोल्ड; साक्षी, सुशील पर इस बार जिम्मा

हमारा रिकॉर्ड: पिछले 3 कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत ने कुश्ती में 15 गोल्ड सहित 32 मेडल जीते हैं। 2010 में दिल्ली में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में 10 गोल्ड मेडल सहित 19 मेडल जीते थे।

इस बार 7 मेडल की उम्मीद: इस बार सुशील कुमार, बजरंग कुमार, साक्षी मलिक, विनेश फोगाट की मौजूदगी में 7 पदक पर दावा मजबूत।

शूटिंग:3 बार में 34 गोल्ड दिलाए

हमारा रिकॉर्ड: पिछले 3 कॉमनवेल्थ गेम्स में 34 गोल्ड जीते हैं, जो किसी भी खेल में सबसे ज्यादा हैं। 2006, 2010 में सबसे ज्यादा गोल्ड शूटिंग ने ही दिलाए।

इस बार 4 मेडल की उम्मीद: युवा सनसनी मनु भाकर के अलावा, जीतू राय, हीना सिद्धू, गगन नारंग के रूप में कई दावेदार।

बैडमिंटन:3 साल में 10 मेडल, इस बार 4 जीत सकते हैं

हमारा रिकॉर्ड: पिछले 3 कॉमनवेल्थ में भारत ने 3 गोल्ड समेत 10 पदक जीते हैं। ग्लासगो में एक गोल्ड, एक सिल्वर और दो ब्रॉन्ज जीते थे।

इस बार 4 मेडल की उम्मीद: इस बार 4 मेडल की आस। एचएस प्रणय, किदांबी श्रीकांत, साइना, सिंधु की मौजूदगी से टीम मजबूत है।

बॉक्सिंग:मेडल दिलाएगा मेरीकॉम का कमबैक!

हमारा रिकॉर्ड: भारत ने पिछले 3 कॉमनवेल्थ में बॉक्सिंग के 4 गोल्ड जीते हैं। ब्रॉन्ज, सिल्वर मिलाकर संख्या 18 हो जाती है। टीम में कुल 12 खिलाड़ी हैं। वापसी कर रहीं मेरीकॉम पर सबसे ज्यादा नजरें होंगी।

इस बार 5 मेडल की उम्मीद: एल सरिता देवी, पिंकी रानी, विकास कृष्णन, मनोज कुमार, मेरीकॉम से आस।

एथलेटिक्स:जेवलिन और डिस्कस थ्रो में 2 मेडल दांव पर

हमारा रिकॉर्ड: एथलेटिक्स में भारत ने पिछले 3 कॉमनवेल्थ में 18 मेडल जीते हैं। इनमें 4 गोल्ड मेडल भी शामिल हैं। 2014 में विकास गौड़ा ने भारत को गोल्ड दिलाया था। इस बार भी भारत की 28 सदस्यीय टीम एथलेटिक्स में दमखम दिखाएगी।

इस बार 2 मेडल की उम्मीद: नीरज चोपड़ा पुरुषों के जेवलिन थ्रो में, सीमा अंटिल पूनिया महिला डिस्कस थ्रो में इस बार देश को मेडल दिला सकती हैं।

|आजादी के बाद पहली भागीदारी में पाकिस्तान से भी पीछे था भारत

पाकिस्तान ने अब तक जितने गोल्ड जीते, भारत एक गेम्स में उससे अधिक जीतता है

पिछले 18 साल में 4 गेम हुए, भारत ने कुल 105 गोल्ड जीते

आजादी के बाद भारत ने 1954 में पहले कॉमनवेल्थ गेम्स खेले थे। भारत ने एथलेटिक्स के कुछ इवेंट में हिस्सा लिया लेकिन खाली हाथ रह गया। वहीं, पाकिस्तान ने इसमें एक गोल्ड सहित छह मेडल जीते। ये अतीत था। वर्तमान ये है कि पाकिस्तान ने अपने कॉमनवेल्थ गेम्स के इतिहास में 12 गोल्ड सहित कुल 69 पदक जीते हैं। करीब इतने ही पदक भारत एक इवेंट में ही जीत लेता है। ग्लासगो कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत ने 15 गोल्ड सहित 64 मेडल जीते थे। यानी किसी जमाने में पाकिस्तान से पीछे रहा भारत अब एक गेम्स में इतने मेडल जीतता है जितने पाक ने अपने पूरे इतिहास में जीते हैं। इन गेम्स में अब भारत की चुनौती पाकिस्तान, श्रीलंका जैसे देश नहीं हैं। हम अब ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और कनाडा जैसे विकसित देशों को टक्कर देते हैं। नई सदी में चार कॉमनवेल्थ हो चुके हैं। इसमें भारत ने 105 गोल्ड सहित 284 मेडल जीते हैं। भारत ने पहली बार 1934 में इस इवेंट में हिस्सा लिया था। 1998 तक 12 भागीदारी में हम 50 गोल्ड सहित 154 मेडल जीते थे। 21वीं सदी में भारत के गोल्ड की संख्या में करीब 300% और कुल मेडल की संख्या में 150% इजाफा हुआ। ऐसी ग्रोथ 10 से ज्यादा मेडल जीतने वाले किसी और देश की नहीं रही है।

पहली बार

भारत ने 1934 से 1998 तक 12 गेम्स में जितने गोल्ड जीते थे, उसका तीन गुना इस सदी के चार इवेंट में जीत लिए

24 साल में भारत के मेडल जीतने की रफ्तार 150% बढ़ी

388 दिन में 2.30 लाख किमी की यात्रा करने के बाद अब गोल्ड कोस्ट पहुंचा क्वींस बेटन

कॉमनवेल्थ गेम्स का प्रतीक क्वींस बेटन गोल्ड कोस्ट पहुंच गया है। बेटन ने 388 दिनों में 2.30 लाख किमी की यात्रा की है। यह कॉमनवेल्थ में शामिल सभी 53 देशों से गुजरा है। वॉलेंटियर लिही गोल्ड कोस्ट की धरती पर बेटन को हाथ में लेने वाली पहली शख्स बनीं। ऑस्ट्रेलिया में 3800 लोग इस बेटन रिले का हिस्सा बन चुके हैं। बुधवार को बेटन की स्टेडियम में ग्रैंड एंट्री होगी।

1934

में भारत ने पहली बार काॅमनवेल्थ गेम्स में शिरकत की थी।

25

25

1934

में पहला मेडल मिला। कुश्ती में राशिद अनवर ने कांस्य पदक जीता।

कनाडा

69

भारत

 होशंगाबाद, सोमवार 2 अप्रैल, 2018

ब्रिटेन

50

ऑस्ट्रेलिया

101

द. अफ्रीका

1958

में पहला गोल्ड मेडल मिला। कुश्ती में लीला राम सांगवान को।

64

पाकिस्तान

भारतीय टीम

इस बार 15 खेलों में 218 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं

खेल पुरुष महिला कुल

एथलेटिक्स 16 12 28

बैडमिंटन 5 5 10

बास्केटबॉल 12 12 24

बॉक्सिंग 8 4 12

साइक्लिंग 4 5 9

जिम्नास्टिक्स 3 4 7

हॉकी 18 18 36

लॉन बॉल्स 5 5 10

शूटिंग 15 12 27

स्क्वॉश 4 2 6

स्वीमिंग 3 0 3

टेबल टेनिस 5 5 10

वेटलिफ्टिंग 8 8 16

कुश्ती 6 6 12

पैरा स्पोर्ट्स 3 5 8

कुल 115 103 218

सबसे कम उम्र की खिलाड़ी: मनु भाकर (शूटिंग) उम्र सिर्फ 16 साल।

सबसे अधिक उम्र के: मानवजीत सिंह संधु (शूटिंग) उम्र 41 साल।

सबसे ज्यादा मेडल जीतने वाले: गगन नारंग (शूटिंग) 8 गोल्ड सहित 10 मेडल।

2010

में भारत को मेजबानी मिली। पहली बार।

सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 38 गोल्ड सहित 101 पदक, टैली में नंबर-2

8

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Hoshangabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×