• Home
  • Mp
  • Hoshangabad
  • नरवाई की आग का तांडव, 9 किसानों ने आंखों के सामने देखी जलती फसल
--Advertisement--

नरवाई की आग का तांडव, 9 किसानों ने आंखों के सामने देखी जलती फसल

नरवाई की आग का तांडव रविवार को तीन गांवों में दिखा। ये गांव रैसलपुर, तारारोड़ा और सनखेड़ा हैं। नौ किसानों ने अपनी...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 03:20 AM IST
नरवाई की आग का तांडव रविवार को तीन गांवों में दिखा। ये गांव रैसलपुर, तारारोड़ा और सनखेड़ा हैं। नौ किसानों ने अपनी आंखों के सामने खाक होती फसल देखी। उनकी उम्मीदें और सपने आग का धुआं लील गया। देखते ही देखते 106 एकड़ में लगा गेहूं जल गया।

रैसलपुर से धोखेड़ा और तारारोड़ा तक हिरणों के झुंड और गाय-भैंसे नरवाई की आग से घिर गए। खेतों के आसपास लगे पेड़ों पर बैठे पक्षी भी आग व धुएं से गिरने लगे। सनखेड़ा में आग की लपटों से घिरकर तीन गायें जिंदा जल गईं। आग बुझाने की कोशिश में दो खेतिहर मजदूर मामूली रूप से झुलस गए। रात आठ बजे इटारसी और होशंगाबाद की दमकलों ने आग पर काबू तो पा लिया पर खेतों से धुआं आधी रात तक उठता रहा।

इटारसी से सात किलोमीटर के दायरे में खेतों में नरवाई धू-धू कर जल रही थी। आसमान में उठता धुंआ आेवरब्रिज से साफ नजर आ रहा था। औद्योगिक क्षेत्र खेड़ा तक यह धुंआ और घना होता गया। यह आग रैसलपुर तरफ से धोखेड़ा तक आ गई।

सुबह 11 बजे : सांवरिया एग्रो के सतीष अग्रवाल खेत के 10 एकड़ रकबे में लगी फसल कटवा रहे थे। पड़ोसी खेतों की नरवाई की आग देखकर कटाई वाला हार्वेस्टर लेकर भाग गया।

दोपहर 12:15 बजे : गेहूं के खेतों की तरफ बढ़ रही आग को नगरपालिका की दो दमकलें बारी-बारी से आग बुझाने आ रही थीं। मुनपा अधिकारी अक्षत बुंदेला ने भास्कर को बताया कि एक दमकल का ब्रेक फेल हो जाने से रिपेयरिंग करवाने भेजा गया।

दोपहर 1:20 बजे : तहसीलदार रितु भार्गव धौखेड़ा रोड पर आईं। उन्होंने नरवाई की आग देखकर खेत के किसानों से कहा हार्वेस्टर से फसल कटवा दो। जवाब मिला-हार्वेस्टर वाला आग के डर से खेत में जाने को तैयार नहीं है। 10 मिनट बाद ही आग सड़क से पार खेत तक आ गई। उस समय फायर ब्रिगेड पानी भरने गई थी।

3 गांवों में इन किसानों ने देखी आंखों से खाक होती फसल

गांव किसान एकड़ में

रैसलपुर सतीेष अग्रवाल 10

तारारोड़ा मंजीत सिंह करम सिंह 26

तारारोड़ा नन्हेंंलाल बटानीलाल 35

सनखेड़ा शारदाबाई मोतीलाल 03

सनखेड़ा भगवती प्रसाद लखनलाल 1.5

सनखेड़ा बैजनाथ बिहारीलाल 2.5

सनखेड़ा हरीश बैजनाथ 1.5

सनखेड़ा सुधीर समीरमल 22

(सिकमीदार चंद्रशेखर बैजनाथ)

सनखेड़ा विकास देवकीनंदन 05

कुल एकड़ 106.5

रोटावेटर का खर्च बचाने लगाई जा रही आग

गेहूं की कटाई के बाद मूंग बोने वाले किसान खेतों में फसल के ठूंठ (नरवाई) को खुद जला रहे हैं। वे महज 800 रुपए प्रति घंटे रोटावेटर का किराया बचाने ऐसा कर रहे हैं। हार्वेस्टर व भूसा मशीन के पत्थर के संपर्क में आने से आग लगने से आशंका रहती है पर जरूरी नहीं हर खेत में पत्थर हों। नायाब तहसीलदार एनपी शर्मा कहते हैं तीनों गांवों में नरवाई में आग लगी पर कारण पता नहीं चला। नरवाई में आग लगाने वाले का पता चलते ही केस दर्ज करवाएंगे।

मंडी ने भेजा था प्रस्ताव फायर ब्रिगेड नहीं आई

इटारसी कृषि उपज मंडी ने फायर ब्रिगेड खरीदने का एक प्रस्ताव मंडी बोर्ड को भेजा था तो छह माह से फाइल में बंद है। धोखेड़ा में नरवाई की आग देख रहे मंडी अध्यक्ष विक्रम सिंह तोमर ने भास्कर से कहा वे मंडी बोर्ड के एमडी फैज अहमद किदवई से इस बारे में बात करेंगे।