• Home
  • Mp
  • Hoshangabad
  • जज व चोर के बीच संवाद में भावनात्मक पहलुओं के साथ हास्य-व्यंग भी दिखा
--Advertisement--

जज व चोर के बीच संवाद में भावनात्मक पहलुओं के साथ हास्य-व्यंग भी दिखा

रविवार की रात प्रसिद्ध व्यंगकार हरिशंकर परसाई की जन्म स्थली जमानी गांव में जयंती प्रसंग का आयोजन किया गया। इस...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 05:15 AM IST
रविवार की रात प्रसिद्ध व्यंगकार हरिशंकर परसाई की जन्म स्थली जमानी गांव में जयंती प्रसंग का आयोजन किया गया। इस दौरान संजय श्रोती नाट्य समूह ने शंकर शेष रचित नाटक आधी रात के बाद का मंचन किया। यह आयोजन नर्मदांचल कलमकार संस्थान और जिला प्रेस क्लब होशंगाबाद के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित साहित्य सप्ताह में किया गया। नाटक शुरू होने के पहले कार्यक्रम में मौजूद सुनील वाजपेयी, साहित्यकार ममता वाजपेई , प्रमोद शर्मा, गांव के हेमंत दुबे, सरपंच माखन युवने, शंभूदयाल दुबे, अश्विनी दुबे, राजेश गौर, सुभाष दुबे, आरबी चौधरी, पिंटू चौधरी, आनंद पटेल, अश्विन जोजफ, सुरेंद्र चौहान, पंकज दीवान, सुखराम कमरे, सचिव ज्योति एवं ललित ने हरिशंकर परसाई के चित्र पर माल्यार्पण किया। कार्यक्रम के आयोजन में एमपीडब्लूपीसीएल जमानी सहित अन्य लोगों का सहयोग रहा।

मंचित नाटक में एक जज और एक चोर के माध्यम से समाज में विद्यमान कई अहम मुद्दों को उठाया गया। जज और चोर के बीच हुए संवाद में कई भावनात्मक पहलुओं के अलावा हास्य और व्यंग भी भरपूर था।