Hindi News »Madhya Pradesh »Hoshangabad» 110 पौधे और कॉलेज में तैयार 20 औषधि से होगा अतिथियों का स्वागत, मिलेगा परामर्श

110 पौधे और कॉलेज में तैयार 20 औषधि से होगा अतिथियों का स्वागत, मिलेगा परामर्श

प्रकृति में स्वास्थ्य के ऐसे रहस्य हैं जो रोग को दूर रखने और उनके उपचार में सहयोगी है। शरीर को निरोग रखने के लिए...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 05:50 AM IST

प्रकृति में स्वास्थ्य के ऐसे रहस्य हैं जो रोग को दूर रखने और उनके उपचार में सहयोगी है। शरीर को निरोग रखने के लिए प्राकृतिक औषधियाें के सेवन से कोई दुष्प्रभाव भी नहीं होता। इसी बात को ध्यान में रखते हुए युवा पीढ़ी को दादी नानी के नुस्खे और पारंपरिक औषधीय की जानकारी देने गर्ल्स कॉलेज में शनिवार को औषधीय पौधों का महत्व और उनका स्वास्थ्य पर प्रभाव बताने राष्ट्रीय शोध संगोष्ठी होगी। 3 से 5 फरवरी तक कॉलेज में औषधीय मेला लगेगा। मेले में औषधियों, औषधीय पौधों के स्टॉल लगेंगे। औषधीय चिकित्सा का परामर्श देने चिकित्सक उपलब्ध रहेंगे जो जांच के बाद परामर्श देंगे। प्राचार्य डॉ. कामिनी जैन ने बताया कि औषधीय चिकित्सा और महत्व का लाभ युवाओं और परिवार को मिले इसके लिए जिले के स्कूल कॉलेजों को आमंत्रित किया गया है। संगोष्ठी संयोजक डॉ.रश्मि श्रीवास्तव और डॉ. संगीता अहिरवार ने बताया कि कॉलेज में 110 प्रजाति के पौधे और 20 औषधियां तैयार की गई हैं।

अतिथियों को देंगे हर्बल प्रोडक्ट के गिफ्ट हैंपर

संगोष्ठी 3 फरवरी को सुबह 11 बजे शुरू होगी। मुख्य अतिथि हंस राय, जनभागीदारी अध्यक्ष संध्या थापक रहेंगी। कृषि महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. डीके पहलवान, जबलपुर कृषि कॉलेज के विशेषज्ञ ज्ञानेंद्र तिवारी, ग्वालियर के विकास श्रीवास्तव औषधीय पौधों का महत्व बताएंगे।

अतिथियों का स्वागत औषधीय पौधों से होगा। कॉलेज में तैयार हर्बल प्रोडक्स के गिफ्ट हैंपर दिए जाएंगे।

मेले में प्राकृतिक और आयुर्वेद चिकित्सा परामर्श के लिए विशेषज्ञ उपलब्ध रहेंगे।

110 प्रजाति के औषधीय पौधे तैयार

कॉलेज की हर्बल वाटिका में 110 प्रजाति के औषधीय पौधे लगाए हैं। स्टॉल पर पौधे और बीज उपलब्ध रहेंगे। इनमें ग्रीन टी, लेमन ग्रास, एलोवेरा, हल्दी, 50 तरह के कंद शामिल हांेगे।

भास्कर संवाददाता|होशंगाबाद

प्रकृति में स्वास्थ्य के ऐसे रहस्य हैं जो रोग को दूर रखने और उनके उपचार में सहयोगी है। शरीर को निरोग रखने के लिए प्राकृतिक औषधियाें के सेवन से कोई दुष्प्रभाव भी नहीं होता। इसी बात को ध्यान में रखते हुए युवा पीढ़ी को दादी नानी के नुस्खे और पारंपरिक औषधीय की जानकारी देने गर्ल्स कॉलेज में शनिवार को औषधीय पौधों का महत्व और उनका स्वास्थ्य पर प्रभाव बताने राष्ट्रीय शोध संगोष्ठी होगी। 3 से 5 फरवरी तक कॉलेज में औषधीय मेला लगेगा। मेले में औषधियों, औषधीय पौधों के स्टॉल लगेंगे। औषधीय चिकित्सा का परामर्श देने चिकित्सक उपलब्ध रहेंगे जो जांच के बाद परामर्श देंगे। प्राचार्य डॉ. कामिनी जैन ने बताया कि औषधीय चिकित्सा और महत्व का लाभ युवाओं और परिवार को मिले इसके लिए जिले के स्कूल कॉलेजों को आमंत्रित किया गया है। संगोष्ठी संयोजक डॉ.रश्मि श्रीवास्तव और डॉ. संगीता अहिरवार ने बताया कि कॉलेज में 110 प्रजाति के पौधे और 20 औषधियां तैयार की गई हैं।

20 हर्बल औषधियां तैयार

अमृतधारा:
सिरदर्द, जुकाम के लिए

एडीवेक्स: कटी फटी एड़ियों और त्वचा के लिए

दर्द निवारक तेल: जोड़ दर्द के लिए

उबटन: स्वस्थ त्वचा के लिए

शैंपू: स्वस्थ बालों के लिए

त्रिफला: पेट संबंधी बीमारी के लिए

हर्बल परफ्यूम: एंटीबायोटिक उपयोग के लिए

मशरूम प्रोडक्ट: पोषण आहार

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Hoshangabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×