• Hindi News
  • Mp
  • Hoshangabad
  • कचरा प्लांट नहीं इसलिए नंबर 1 का ख्वाब टूटा, ओडीएफ के बाद जनता के भरोसे नपा
--Advertisement--

कचरा प्लांट नहीं इसलिए नंबर 1 का ख्वाब टूटा, ओडीएफ के बाद जनता के भरोसे नपा

कचरा प्रबंधन स्वच्छता सर्वेक्षण में अव्वल आने की पहली डिमांड है, लेकिन शहर में कचरा प्रबंधन के लिए ट्रीटमेंट...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:00 PM IST
कचरा प्लांट नहीं इसलिए नंबर 1 का ख्वाब टूटा, ओडीएफ के बाद जनता के भरोसे नपा
कचरा प्रबंधन स्वच्छता सर्वेक्षण में अव्वल आने की पहली डिमांड है, लेकिन शहर में कचरा प्रबंधन के लिए ट्रीटमेंट प्लांट ही नहीं है। कचरा प्रबंधन में फिसड्‌डी होने से होशंगाबाद नपा का नंबर 1 आने का ख्वाब टूटते दिख रहा है। ओडीएफ के बाद जनता के भरोसे ही नपा की रैंकिंग है। संभागीय कचरा प्रबंधन प्लांट बनने की योजना होने के कारण जिले की नगर पालिकाओं को ट्रेचिंग ग्राउंड की जमीन पर प्लांट लगाने के लिए शासन से राशि नहीं मिल रही है। ठेका होने के बाद भी ठेकेदार ने कचरा प्रबंधन प्लांट पर काम शुरू नहीं किया है। ऐसे में अब नपा स्वच्छता सर्वेक्षण में अव्वल आने के लिए केवल सिटीजन फीडबैक पर ही निर्भर है। कचरा प्रबंधन प्लांट नहीं लगने से डी-कंपोस्टिंग की आधी-अधूरी तैयारी के कारण मार्किंग घट सकती है।

कैसे सुंदर और स्वच्छ बनेगा होशंगाबाद

डी-कंपोस्टिंग के 176, कचरा प्रबंधन के 200 अंक जुटाना होगा मुश्किल

Àपार्क

जैविक कंपोस्टिंग पर 28 नंबर हैं। पार्क के जैविक कचरे से खाद बनाकर इसकी उपयोगिता पर भी अंक हैं।

स्थिति : नेहरू पार्क, मिश्र पार्क में कंपोस्ट पिट तैयार किए हैं लेकिन कंपोस्टिंग की प्रक्रिया अधूरी है।

Àसंस्थाएं

मैरिज गार्डन, अस्पताल जैसे बड़े कचरा उत्पादकों को नाडेप तकनीक से कंपोस्टिंग करने और उसके उपयोग के लिए 48 अंक है।

स्थिति : बड़े कचरा उत्पादकों ने प्रक्रिया नहीं अपनाई है।

Àकंपनी

औद्योगिक क्षेत्र के कचरा प्रबंधन और उपचार के लिए 50 अंक हैं। औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाला पानी भी उपचारित होना चाहिए।

स्थिति : औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाले कचरे और पानी काे बिना उपचार के निस्तारित किया जा रहा है।

Àखाद

शहर के कंपोस्ट उत्पाद को मिनिस्ट्री ऑफ फर्टीलाइजर पोर्टल पर पंजीकृत करने पर 20 अंक हैं। इससे जुलाई के पहले खाद बनाकर बेची है तो उस पर 30 अंक मिलेंगे।

स्थिति : नपा में ट्रेचिंग ग्राउंड की उपयुक्त व्यवस्था नहीं होने के कारण यह प्रक्रिया अधूरी है। ऐसा उपक्रम शहर में नहीं है।

कचरा प्रबंधन में कम होंगे आधे अंक

कचरा कलेक्शन से लेकर वैज्ञानिक तरीके से कचरे के निष्पादन की प्रक्रिया के 200 अंक मिलने हैं। 33 वार्डों से 20 कचरा कलेक्शन वाहनों से कचरा ट्रेंचिंग ग्राउंड पर डंप हो रहा है। कचरा प्रबंधन प्लांट नहीं होने से नंबर कटेंगे।

सिटीजन फीडबैक

1400 अंक : स्वच्छता एप डाउनलोड करने और निराकरण में नपा आगे है। लक्ष्य से अधिक 2700 नागरिकों ने एप डाउनलोड किया है। 6 हजार से ज्यादा शिकायतों पर निराकरण कर फीडबैक लिया गया। इसके 400 अंक और सीधी बातचीत से मिले फीडबैक से 1000 अंक उपलब्ध होंगे।

देश में 18 और प्रदेश में 7वें नंबर पर

1 लाख से अधिक जनसंख्या की कैटेगरी में होशंगाबाद नपा स्वच्छता एप के आधार पर हो रहे असेस्मेंट में देशभर में 18वें और प्रदेश में 7वें नंबर पर है। प्री रैंकिंग में उज्जैन शहर देश में 30वें स्थान पर है।

इधर, 1 लाख से कम जनसंख्या वाले शहरों में इटारसी प्रदेश में अव्वल

स्वच्छता सर्वेक्षण के स्वच्छता एप आधारित प्री असेस्मेंट में पहली बार दौड़ में शामिल इटारसी नगर पालिका जिले की अन्य नगर पालिकाओं से आगे निकल गई है। एक लाख से कम जनसंख्या वाली नगर पालिका की कैटेगरी में इटारसी नगर पालिका देश में 15वें और प्रदेश में पहले नंबर पर है। सिवनी मालवा देश में 25 वें स्थान और हरदा नगर पालिका 47वें नंबर पर है। एक लाख से अधिक जनसंख्या वाली नगर पालिका में होशंगाबाद नगर पालिका प्रदेश में सातवें और देश में 18वें स्थान पर है।

इन अंकों से बेहतर होगा रिपोर्ट काॅर्ड

3 हजार से ज्यादा अंक का दावा

नपा ओडीएफ प्रमाण पत्र रिन्यू होने, सिटीजन फीडबैक और डॉक्यूमेंटेशन के बल पर 4400 में से 3000 से ज्यादा अंक पाकर टॉप करने का दावा कर रही है। एप से रैंकिंग बढ़ाने 28 फरवरी तक का समय मिल गया है। सीएमओ अमरसत्य गुप्ता ने बताया कार्वी की टीम फाइनल असेस्मेंट के लिए मार्च के पहले सप्ताह के बाद ही आएगी।

डाॅक्यूमेंटेशन

1400 अंक : अनुभवी सीएमओ के प्रयासों से 1200 से अधिक अंक मिलने की संभावना है। नपा का दावा है माइनस मार्किंग को ध्यान में रखते हुए दस्तावेजीकरण व्यवस्थित किया है।

स्वच्छता में यहां और काम की जरूरत

डी-कंपोस्टिंग के 176 अंक हैं। पार्कों में जैविक कचरे की इकाई बनाने के साथ मैरिज गार्डन, होटल जैसे बड़े कचरा उत्पादकों के प्रतिष्ठानों में कचरे से खाद बनवाना था लेकिन काम हुए। पार्कों में कंपोस्ट तैयार करने पिट तो बने लेकिन कंपोस्टिंग की प्रक्रिया अधूरी है।

ओडीएफ

110 अंक : नपा का ओडीएफ प्रमाण पत्र रिन्यू हो चुका है। इसके 110 अंक भी नपा को मिलेंगे। रिपोर्टकार्ड को दुरुस्त करने में बड़ा योगदान मिलेगा।

X
कचरा प्लांट नहीं इसलिए नंबर 1 का ख्वाब टूटा, ओडीएफ के बाद जनता के भरोसे नपा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..