• Hindi News
  • Mp
  • Hoshangabad
  • शुद्ध आहार लेने से हमारे जीवन में शुद्ध विचार आते हैं, जो जरूरी हंै: आचार्य पुष्कर
--Advertisement--

शुद्ध आहार लेने से हमारे जीवन में शुद्ध विचार आते हैं, जो जरूरी हंै: आचार्य पुष्कर

भास्कर संवाददाता | होशंगाबाद जगदीश मंदिर धर्मशाला में चल रही श्रीमद्भागवत कथा के पांचवे दिन आचार्य पुष्कर...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:00 PM IST
भास्कर संवाददाता | होशंगाबाद

जगदीश मंदिर धर्मशाला में चल रही श्रीमद्भागवत कथा के पांचवे दिन आचार्य पुष्कर परसाई ने भगवान की बाल लीलाओं का वर्णन किया।

कथा में आचार्य ने अच्छे जीवन में सात्विक भोजन का महत्व बताया। उन्होंने कहा भगवान से अच्छे संबंध स्थापित होने चाहिए। ग्वाल बालों ने मित्रता से भगवान को पा लिया, गोपियों ने प्रेम, शिशुपाल कंस ने द्वेष व शत्रुवत भगवान को प्राप्त कर लिया इसलिए भगवान से संबंध अवश्य स्थापित करें। उन्होंने कहा जो व्यक्ति जन्म लेकर भगवान का श्रवण नहीं करते उनका जीवन बेकार होता है। जिन लोगों ने कथा को जीवन में उतार लिया उन्होंने अपने माता-पिता और दोनों ही कुल का उद्धार कर दिया।

कथा में दिया सात्विक भोजन का संदेश

कथा में आचार्य ने अच्छे जीवन में सात्विक भोजन का महत्व बताया। उन्होंने कहा अच्छे खाने का विचार मनुष्य को अवश्य करना चाहिए। सादे भोजन से जीवन में सात्विकता आती है। शुद्ध आहार से शुद्ध विचार आते हैं।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..