होशंगाबाद

--Advertisement--

5 जिलों का कचरा बाबई में एकत्र कर बनाएंगे खाद, किसानों को बेचेंगे

अच्छा प्रयास| बाबई के मुहासा के पास बनेगा ट्रेंचिंग ग्राउंड, दिसंबर से होगा काम शुरू

Danik Bhaskar

Sep 04, 2018, 06:03 PM IST

होशंगाबाद। पांच जिलों का कचरा एकत्र करने के लिए बाबई फार्म हाउस के पीछे ट्रेंिचंग ग्राउंड बनाया जाएगा। इसके लिए टेंडर हो चुके हैं। ट्रेंचिंग ग्राउंड का काम दिसंबर 2018 से शुरू हो जाएगा। होशंगाबाद नपा को इसका क्लस्टर बनाया है। राष्ट्रीय स्वच्छता मिशन के तहत पूरे प्रदेश में 26 ट्रेचिंग ग्राउंड बनाए जा रहे हैं। 70 किमी के दायरे में आने वाली जिले सहित हरदा, बैतूल, सीहोर, नरसिंहपुर की नगरीय निकायों का कचरा एकत्र होगा। कचरे को कंपोज कर खाद बनाई जाएगा।


दरअसल यह प्रक्रिया एक बार पहले भी हुई थी, लेकिन टेंडर निरस्त होने से अब तक काम शुरू नहीं हो सका। दोबारा टेंडर प्रक्रिया के बाद काम दिसंबर में शुरू होगा। बाबई के मुहास के पास फार्म हाउस की 20 एकड़ भूमि पर ट्रेंचिंग ग्राउंड बनाया जा रहा है। कचरे को नष्ट कर खाद तैयार किया जाएगा।

62 करोड़ रुपए से होगा प्लांट तैयार

ट्रेंचिंग ग्राउंड पर 62 करोड़ रुपए की लागत से लैंड फील आधारित इंट्रीग्रेटेड सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट क्लस्टर बनेगा। जिसमें वाहनों से क्लस्टर में शामिल सभी जिलों की निकायों से कचरा एकत्र कर उसे नष्ट किया जाएगा। फिलहाल जिले की नगर पंचायतों व नगर पालिकाओं में शहरों के आसपास बने ट्रेंचिंग ग्राउंड में कचरा एकत्र किया जाता है। जिसे नष्ट करने में परेशानी होती है। वहीं कचरे को जलाने में धुंए के कारण शहरों में प्रदूषण का खतरा बना रहता है। कचरा कंपोजिट प्लांट बनने से कचरे से फैलने वाले प्रदूषण का खतरा समाप्त होगा वहीं इसको रिसाइकल कर उपयोगिता बढ़ जाएगी।

कटनी और जबलपुर में हुआ काम शुरू

राष्ट्रीय स्वच्छता मिशन के प्रदेश प्रभारी नीलेश दुबे ने बताया पूरे प्रदेश में 26 सॉलिड वेस्ट मेनेजमेंट प्लांट बनाए जा रहे हैं। बड़े शहरों में शहर का एक ही प्लांट बनाया जा रहा है। वहीं छोटे शहरों में मध्य की बड़ी नपा को क्लस्टर बनाकर इसमें 70 किमी के दायरे की निकायों को शामिल किया जा रहा है। होशंगाबाद के लिए बाबई में ट्रेंचिंग ग्राउंड पर प्लांट लगेगा जिसमें कचरे को कंपोज कर खाद बनाया जाएगा। फिलहाल प्रदेश के जबलपुर व कटनी में काम शुरू हो गया है।


यह होगा फायदा


नगरीय क्षेत्रों से कचरा सीधा ट्रेंचिंग ग्राउंड पहुंचेगा, नगर में कहीं भी कचरा एकत्र नहीं होगा, कचरे को नष्ट करने में परेशानी होती थी वह नहीं होगी, रिसाइकल होने से इसकी उपयोगिता बढ़ेगी, निजी कंपनी के पास ठेका होने से निकायों की जवाबदारी कम होगी। सभी नगरीय क्षेत्रों में कचरा कलेक्शन वाहन चलेंगे।

खाद किसानों को दिया जाएगा


बाबई के ट्रेंचिंग ग्राउंड में नर्मदापुरम संभाग सहित सीहोर व नरसिंहपुर जिले की निकायों का कचरा पहुंचेगा। यह कचरा वाहनों से लाया जाएगा। तकरीबन 24 निकायों से कचरा ट्रेंचिंग ग्राउंड में कंपोज होगा। यह खाद सही दाम पर किसानों को दिया जाएगा।

Click to listen..