• Hindi News
  • Mp
  • Hoshangabad
  • Hoshangabad News mp news bhaskara investigation rs25 lakh for water harvesting in 229 government buildings the government gives 60 billion taka in the rain water descends into the ground

भास्कर पड़ताल : 229 सरकारी भवनों में वाटर हार्वेस्टिंग के लिए ‌‌25 लाख रु. देती सरकार तो बारिश में 60 अरब ली. पानी जमीन में उतरता..

Hoshangabad News - भास्कर संवाददाता | होशंगाबाद भवनों की छत से बारिश का पानी जमीन में उतारने यानी रूफ रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:40 AM IST
Hoshangabad News - mp news bhaskara investigation rs25 lakh for water harvesting in 229 government buildings the government gives 60 billion taka in the rain water descends into the ground
भास्कर संवाददाता | होशंगाबाद

भवनों की छत से बारिश का पानी जमीन में उतारने यानी रूफ रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम के लिए सरकारी दावे हर साल किए गए पर हकीकत यह है कि होशंगाबाद नगरीय क्षेत्र में एक भी दफ्तर या सरकारी आवास में ही रूफ वाटर रिचार्ज सिस्टम नहीं है। विधानसभा में विधायक के सवाल पर एक दिन पहले सरकार ने यह जानकारी दी है। भास्कर की पड़ताल के अनुसार शहर में 229 सरकारी भवन (दफ्तर और आवास) हैं जिनकी छत करीब 4.58 लाख वर्गफीट है। यदि यहां करीब 25 लाख रु. खर्च कर सबसे सस्ता ग्रेवल गड्‌ढे वाला रूफ रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगा दिया तो हर साल बारिश में करीब 60 अरब लीटर पानी बचेगा। विशेषज्ञों के अनुसार एक हजार वर्गफीट की छत से दो इंच बारिश होने पर ही 9 हजार लीटर पानी जमीन में उतार जा सकता है। एक सामान्य घर की छत पर महज 5 से 6 हजार रु. में टॉप रूफ (सीधे बोरिंग से) सिस्टम लगा सकते हैं।

होशंगाबाद नपा ने अनिवार्य किया पर नहीं लगे वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम

होशंगाबाद में कागजों पर नपा वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाना अनिवार्य कर चुकी है लेकिन उसे जमीन पर लाने में पिछड़ गई है। पिछले तीन साल में 262 लाेगों ने भवन निर्माण परमिशन लेते समय वाटर रिचार्जिंग सिस्टम लगाने के लिए धरोहर जमा की पर मात्र 28 जगह लगी। 234 बिल्डिंग बगैर सिस्टम के ही बनते चली गई या निर्माण जारी है।

जन जागरुकता की स्थिति




कैसे बढ़ेगा भू-जल जब... होशंगाबाद, इटारसी, पिपरिया, बनखेड़ी, माखननगर, सिवनी मालवा, सोहागपुर शहरी क्षेत्रों में कुल 62782 निजी और सरकारी भवन हैं। इनमें से मात्र 565 भवनों में रूफ वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लग पाया है। इनमें भी 552 निजी जबकि 13 ही सरकारी बिल्डिंग है। यह कुल संख्या का 1 प्रतिशत भी नहीं है।

इटारसी नपा का दावा- सभी 47 ने लगा लिए सिस्टम : दूसरी तरफ नगर पालिका इटारसी ने वाटर हार्वेस्टिंग की जानकारी में कहा है कि तीन साल में 47 लोगों द्वारा धरोहर जमा की थी और सभी जगह सिस्टम लगा दिए हैं। उसी के साथ 5 लोगों को राशि वापस करना भी बताया है। इधर, अन्य नगर पालिकाओं मंें न लोगों ने सिस्टम लगवाए, न ही नपा ने जमा धरोहर रािश के माध्यम से लगवाने की पहल की।

सरकारी सिस्टम और पीछे





X
Hoshangabad News - mp news bhaskara investigation rs25 lakh for water harvesting in 229 government buildings the government gives 60 billion taka in the rain water descends into the ground
COMMENT