• Hindi News
  • Mp
  • Hoshangabad
  • Itarsi News mp news my concern is to say all the substances of the world mohan in reality only the soul is its own pragandh maharaj

संसार के समस्त पदार्थों को मेरा-मेरा कहना ही मोह कहलाता है, वास्तव में केवल आत्मा ही अपनी है: प्रज्ञानंद महाराज

Hoshangabad News - मम दो अक्षर डुबोते हैं, नमम तीन अक्षर तारते हैं। मम शब्द का अर्थ मेरा है यह भी मेरा है, वह भी मेरा है। इस प्रकार संसार...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 07:55 AM IST
Itarsi News - mp news my concern is to say all the substances of the world mohan in reality only the soul is its own pragandh maharaj
मम दो अक्षर डुबोते हैं, नमम तीन अक्षर तारते हैं। मम शब्द का अर्थ मेरा है यह भी मेरा है, वह भी मेरा है। इस प्रकार संसार के समस्त पदार्थों को मेरा-मेरा कहना महत्त्व या मोह कहलाता है। वास्तव में देखा जाए तो इस संसार में एक आत्मा ही अपनी है। यह बात तत्वार्थ साधना आराधना शिविर में प्रज्ञानंद महाराज ने कही। आत्मा के सिवाय शरीरादिक समस्त पदार्थ पर है। यही जीव अपनी अज्ञानता के कारण पर पदार्थों को भी अपना मानता है। यह घर मेरा है। यह सब विभूति मेरी है। इस प्रकार मेरा-मेरा करता रहता है। पर पदार्थ को अपना मानना भूल है। मम दो अक्षर से यही जीव कर्मों से बंध जाता है। और नमम इन तीन अक्षरों से छूट जाता है। इसलिए भव्य जीव को मोक्ष प्राप्त करने के लिए महत्त्व का त्याग कर देना चाहिए।बसंत महाराज ने कहा, संसार में जीव कर्म फल को भोगता है। पुण्य-पाप जिस तरह के कर्म का बंद करते हैं। उसी प्रकार फल भोगना होता है। संसार में कहावत है “जैसी करनी वैसी भरनी” इस सिद्धांत को समझकर मनुष्य को अपने मन में अच्छे विचार रखने चाहिए। इसी से जीव संसार में सुखी रह सकता है।

X
Itarsi News - mp news my concern is to say all the substances of the world mohan in reality only the soul is its own pragandh maharaj
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना