--Advertisement--

इंदौर-बैतूल नेशनल हाईवे पर नाले में गिरी कार, इंदौर के 1 युवक की मौत, 4 घायल

निजी कंपनी की मार्केटिंग कर बैतूल से इंदौर लौट रहे थे युवक, राहगीरों ने बरसाती नाले के पानी से बाहर निकाला

Danik Bhaskar | Sep 04, 2018, 05:55 PM IST

हरदा/टिमरनी। इंदौर-बैतूल नेशनल हाईवे 59 ए पर चारखेड़ा के पास पुलिया से टकराकर एक कार 20 फीट गहरे नाले में जा गिरी। दुर्घटना में इंदौर निवासी एक युवक की मौत हो गई। चार अन्य युवक घायल हो गए। इसमें से दो की हालत नाजुक है। युवक कंपनी की मार्केटिंग के लिए बैतूल गए थे। लौटते समय हाईवे पर हादसा हो गया। राहगीरों ने नाले से घायलों को बाहर निकाला और जिला अस्पताल में भर्ती कराया। इनमें से दो लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है। उन्हें प्राथमिक उपचार के बाद इंदौर रैफर कर दिया है।


पुलिस ने बताया कि इंदौर के सीतापाट निवासी नितिन पिता सत्यनारायण राठौर (26), नंदबाग कॉलोनी निवासी प्रफुल्ल पिता वासुदेव (19), सुमित पिता सुभाष (20), राहुल पिता नामदेव लोखंडे (21) व पीथमपुर निवासी ड्राइवर प्रकाश परमार (35) कंपनी के काम से बैतूल गए थे। पांचों लोग कार क्रमांक एमपी 09 सीवाय 8606 से वापस लौट रहे थे। इसी दौरान रात 10:30 बजे इंदौर-बैतूल नेशनल हाईवे पर चारखेड़ा के नाले की पुलिया से उनकी तेज रफ्तार कार टकरा गई। टक्कर के बाद पलटते हुए कार 20 फीट नीचे नाले में जा गिरी। घायलों को लोगों ने निकालकर जिला अस्पताल में भर्ती कराया। जहां इलाज के दौरान नितिन की मौत हो गई। प्रफुल्ल व सुमित गंभीर घायल हो गए। दोनों को प्राथमिक उपचार के बाद इंदौर रैफर कर दिया। राहुल व ड्राइवर प्रकाश का जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है।

कार का कांच तोड़कर बाहर निकाला

दुर्घटना के बाद राहगीरों की मौके पर खासी भीड़ जमा हो गई। हाईवे से निकलने वाले वाहनों के पहिए थम गए। लोग घायलों की मदद के लिए नाले में उतरे। मोबाइल की रोशनी में लोगों ने नाले के पानी में करीब आधी डूब चुकी कार का कांच तोड़ा इसके बाद घायलों को बाहर निकाला। उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया।

नाले का पानी भराया कार में


पुलिया से पलटी खाते हुए कार नाले में जा गिरी। नाले में जमा बारिश का पानी कार में भर गया। घायल युवाओं की चीख-पुकार सुनकर हाईवे से गुजर रहे लोग जमा हो गए। अंधेरे की वजह से किसी को कुछ सुझाई नहीं दिया। बाेरिंग मशीन पर काम करने वाले लोगों ने नाले में उतरकर घायलों को बचाने की पहल की।