• Hindi News
  • Mp
  • Hoshangabad
  • Shotgun shooter Priti won silver in Finland; Calling Mother Itarsi and said First International Competition was the be

इटारसी / शूटर प्रीति ने फिनलैंड में जीता सिल्वर; मां को कॉल कर कहा- पहला इंटरनेशनल कॉम्पिटिशन बेस्ट रहा



फिनलैंड में पहला शूटिंग टूर्नामेंट खेल रहीं इटारसी की प्रीति रजक। फिनलैंड में पहला शूटिंग टूर्नामेंट खेल रहीं इटारसी की प्रीति रजक।
प्रीति की बड़ी बहन शेफाली भी शॉटगन शूटर हैं। प्रीति की बड़ी बहन शेफाली भी शॉटगन शूटर हैं।
X
फिनलैंड में पहला शूटिंग टूर्नामेंट खेल रहीं इटारसी की प्रीति रजक।फिनलैंड में पहला शूटिंग टूर्नामेंट खेल रहीं इटारसी की प्रीति रजक।
प्रीति की बड़ी बहन शेफाली भी शॉटगन शूटर हैं।प्रीति की बड़ी बहन शेफाली भी शॉटगन शूटर हैं।

  • फिनलैंड में 10वे इंटरनेशनल शॉटगन शूटिंग कप में न्यास कॉलोनी की प्रीति रजक ने किया भारत का नेतृत्व 
  • मिडिल क्लास फैमिली की बेटियां इंटरनेशल शूटर, बड़ी बहन शैफाली भी शाॅटगन शूटर 

Dainik Bhaskar

Jun 10, 2019, 01:54 PM IST

इटारसी. 17 वर्षीय शॉटगन शूटर प्रीति रजक अभी फिनलैंड में है। 10वें इंटरनेशनल कप शॉटगन शूटिंग में प्रीति ने भारत का नेतृत्व करते हुए रजत पदक पाया। देर शाम इटारसी की न्यास कॉलोनी में अपने घर काॅल कर कहा - मम्मी, मुझे सिल्वर मेडल मिल गया है। गोल्ड मेडल लेने में दो पाइंट से चूक गए। लेकिन मेरा पहला इंटरनेशनल कांपिटिशन बेस्ट रहा। प्रीति निशानेबाजी में पहली बार विदेश गई हैं।

 

जयपुर में हुए ट्रायल में बेहतर प्रदर्शन कर भारतीय टीम में जगह बनाई। प्रीति महावीर जैन हायर सेकंडरी स्कूल में 12वीं की काॅमर्स स्टूडेंट हैं। फिनलैंड के लिए चयन के बाद दिल्ली में हुए ट्रायल में प्रीति फिर से इंडिया शूटिंग टीम में दूसरे नंबर पर आ गईं। 

 

प्रीति की बड़ी बहन शैफाली भी शॉटगन शूटर 
प्रीति के पिता दीपक रजक की ड्राई क्लीन शॉप और मां ज्योत्सना रजक सोशल वर्कर हैं। बड़ी बहन शैफाली भी इंटरनेशनल शॉटगन शूटर है। अब प्रीति ने फिनलैंड में सिल्वर हासिल किया है। मां ज्योत्सना रजक के मुताबिक बेटियों के सपने को समझना जरूरी है। हमें उम्मीद थी प्रीति कुछ न कुछ जरूर हासिल करेगी। शाम लगभग 7.30 बजे प्रीति का कॉल आया। तब पता चला कि उसने सिल्वर मेडल जीत लिया है। यह सुनकर बहुत खुशी हुई। वजह यह है कि किसी इंटरनेशनल टूर्नामेंट में हासिल किया प्रीति का यह पहला पदक है। 

 

प्रीति के पिता दीपक रजक की ड्राई क्लीन शॉप और मां ज्योत्सना रजक सोशल वर्कर हैं। बड़ी बहन शैफाली भी इंटरनेशनल शॉटगन शूटर है। अब प्रीति ने फिनलैंड में सिल्वर हासिल किया है। मां ज्योत्सना रजक के मुताबिक बेटियों के सपने को समझना जरूरी है। हमें उम्मीद थी प्रीति कुछ न कुछ जरूर हासिल करेगी। शाम लगभग 7.30 बजे प्रीति का कॉल आया। तब पता चला कि उसने सिल्वर मेडल जीत लिया है। यह सुनकर बहुत खुशी हुई। वजह यह है कि किसी इंटरनेशनल टूर्नामेंट में हासिल किया प्रीति का यह पहला पदक है। 

 

भोपाल, दिल्ली की खिलाड़ी भी साथ थीं 
पहले नंबर पर इटली और तीसरे नंबर पर फिनलैंड टीम थी। भारतीय टीम में मेरे साथ दिल्ली कीर्ति गुप्ता और भोपाल की मनीषा कीर थी। हम तीनों ने जो स्कोर किया उसे जोड़कर तीन सिल्वर मैडल व एक शील्ड मिली। 

 

मिट्‌टी की बर्ड पर लगाना होता है निशाना 
फिनलैंड में 10वें इंटरनेशनल कप शॉटगन शूटिंग में आठ देशों की टीमें आई हुई थीं। हमें हवा में उड़ती मिट्‌टी की एक बर्ड पर निशाना लगाना होता है जो 75 मीटर दूरी पर गिरती है। अब वर्ल्ड कप चैंपियनशिप इटली में ज्यादा कड़ा मुकाबला होगा। 

 

अब इटली-जर्मनी में निशाना लगाएंगी प्रीति 
वह वर्ल्ड कप चैंपियनशिप में चयनित हुई है जो 30 जून से 11 जुलाई तक इटली के लोनांटो में होगी। इसके बाद प्रीति 11 से 20 जुलाई तक चलने वाले वर्ल्ड कप में जर्मनी के शूल जाएगी। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना