पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हाइवे पर आवारा मवेशियों के जमघट से चालक परेशान

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाददाता | होशंगाबाद

इलाके में चराई के क्षेत्र घटने के कारण पशुओं के लिए चारे की किल्लत के चलते ज्यादातर पशु पालक सिर्फ दुधारू पशुओं का ही ख्याल रखते हैं। दूध देना बंद होते ही पशुओं को खुला छोड़ दिया जाता है। शहर में सैकड़ों आवारा मवेशियों के झुंड दिनरात सड़क पर घूमते दिखाई देते हैं। नपा प्रशासन आवारा मवेशियों की रोकथाम में नकारा साबित हुआ है।

सड़क पर आवारा मवेशियों के कारण आए दिन लोग हादसे का शिकार हो रहे हैं। हाईवे पर रसूलिया में बीच सड़क पर आवारा मवेशी आराम फरमाते हैं और भूख लगने प र दुकानों और घरों पर मुंह मारते हैं। बस स्टैंड से लेकर मीनाक्षी चौक तक करीब डेढ़ किमी लंबे दायरे में 100 से अधिक मवेशी खुले छाेड़ रखे हैं। अस्पताल से लेकर रेलवे स्टेशन तक मेन राेड पर फल व सब्जियों के ठेले , हाेटलाें के आसपास इधर-उधर मुंह मारते मवेशियों के झुंड लाेगाें के लिए परेशानी की वजह बन रहे हैं।

दिन में भीड़भाड़ भरे बाजार में खुले घूमते गाय, बैल, सुअर जैसे आवारा मवेशियों के कारण राहगीरों का निकलना खतरे से खाली नहीं है। सड़क पर सांडों के बीच लड़ार्इ अाैर पशुओं की धमाचौकड़ी से कई बार लाेग जख्मी हाे जाते हैं। शहर की आबादी आवारा पशुओं की समस्या से प्रभावित है। लेकिन जिम्मेदारों ने कर्तव्य की इतिश्री कर ली है।

खबरें और भी हैं...