इटारसी / जुड़वां बेटियों की मां पेड़ पर लटकी मिली; ससुराल वालों से नानी ने पूछा- चोट के निशान क्यों तो कुल्हाड़ी से मारने दौड़े



मृत मां को देखकर और स्पर्श कर ही चुप हो गईं जुड़वां बच्चियां, मासूमों को क्या पता कि छिन गई मां की ममता। मृत मां को देखकर और स्पर्श कर ही चुप हो गईं जुड़वां बच्चियां, मासूमों को क्या पता कि छिन गई मां की ममता।
X
मृत मां को देखकर और स्पर्श कर ही चुप हो गईं जुड़वां बच्चियां, मासूमों को क्या पता कि छिन गई मां की ममता।मृत मां को देखकर और स्पर्श कर ही चुप हो गईं जुड़वां बच्चियां, मासूमों को क्या पता कि छिन गई मां की ममता।

  • केसला के भरगदा गांव में खेत में संदिग्ध परिस्थिति में महिला की मौत, पति, देवर, सास और ननद पुलिस हिरासत में
  • परिजन और ग्रामीण भड़के, 6 घंटे तक पुलिस को नहीं ले जाने दिया शव

Dainik Bhaskar

May 27, 2019, 01:24 PM IST

इटारसी/सुखतवा. केसला के भरगदा गांव में खेत में नीम के पेड़ पर 6 माह की जुड़वां बच्चियों की मां गीता यादव (24) का शव लटका मिला। उसके शरीर पर खरोंच के निशान थे। जब गीता की मां विमला ने ससुराल वालों से तीखे लहजे में गीता की मौत का कारण पूछा तो मृतका का देवर कुल्हाड़ी लेकर उन्हें मारने दौड़ा। देवर की यह हरकत देखकर गांव के लोग भड़क गए। 

 

पुलिस को मृतका के परिजनों ने शव को हाथ नहीं लगाने दिया। गीता की मां व अन्य रिश्तेदार महिलाओं ने 6 माह की जुड़वां बच्चियों को पेड़ के नीचे रखे गीता के शव के पास ले गए। यह देखकर लोगों की आंखें डबडबा आईं।

 

मायके पक्ष ने पुलिस से कहा पहले मौत के लिए जिम्मेदार ससुराल पक्ष के लोगों को पकड़ो। फिर शव ले जाने देंगे। कुछ देर बाद पुलिस ने भरगदा में रहने वाले गीता के पति विनोद यादव, देवर राहुल यादव, सास मीराबाई और ननद कांति बाई को हिरासत में ले लिया। 

 

घटनास्थल मृतका के पति विनोद यादव का खेत था। वहां पर इटारसी एसडीओपी और तहसीलदार मौजूद थे। सुबह 7 बजे से तनाव की स्थिति देखकर इटारसी, पथरौटा व केसला का पुलिस बल आ गया। भरगदा सहित केसला व सुखतवा के लोग इकट्‌ठे हो गए। नीम के पेड़ के नीचे ही फंदे से उतारा गया गीता का शव रखा हुआ था। 6 घंटे तक विवाद की स्थिति बनी रही। गीता की मां और परिजनों ने पुलिस को शव ले जाने से इंकार कर दिया। उन्होंने आरोप लगाया कि गीता की हत्या हुई है। '

 

एसडीओपी उमेश द्विवेदी ने बताया गीता की आत्महत्या की सूचना पति विनोद यादव (29) ने दी थी। मकान सील कर दिया है। एफएसएल टीम बैतूल से बुलाई है। दो मोबाइल जब्त किए हैं। गीता के शरीर पर चोट के निशान हैं। मौत हैंगिग से हुई है। मौत संदिग्ध है। 

 

जुड़वां बच्चियों को नाना-नानी ने लेने से किया इंकार
छह माह की जुड़वां बच्चियों को मां के शव के पास लाए। पिता, दादी, बुआ और चाचा जेल चले गए और घर पुलिस ने सील कर दिया। बच्चियों को पालने की बारी आई तो नाना-नानी, मामा, मौसी ने ले जाने से मना करने लगे। तब पुलिस और गांव वालों ने समझाया। इसके बाद वे बच्चियों को रखने के लिए राजी हुए। 

 

गीता की मां बोली- बेटी को मारकर शव पेड़ पर लटकाया : मेरी बेटी ससुराल में परेशानी में थी। उससे आए दिन मारपीट होती थी। पुलिस की 100 डायल गाड़ी बुलाकर शिकायत की थी। मामला शांत करवा दिया था। अब हमारी लड़की को जान से मारकर पेड़ पर लटका दिया गया। पेड़ पर गीता चढ़ ही नहीं सकती थी। 

 

पति बोला- गीता मायके आई है क्या ? 
बागरा तवा के पास नया चूरना गांव के नत्थू यादव ने गीता का रिश्ता केसला के पास भरगदा गांव में दो साल पहले तय किया था। मां विमला ने सोचा था उनकी बेटी ससुराल में खुश रहेगी। रविवार सुबह पति विनोद यादव ने फोन उनसे गीता के मायके आने की बात पूछी थी। कहा था वह रात से लापता है। 


जो आपको जानना जरूरी है मौत से जुड़े पांच सवाल 

 

  1.  ससुराल में ऐसा क्या हुआ कि गीता फंदे पर लटकी मिली।
  2. गीता को पेड़ पर चढ़ना नहीं आता था और वहां कैसे पहुंची।
  3. रात में पति व अन्य सदस्य घर पर थे। फिर कैसे गई। 
  4. दुधमुंही बच्चियों को छाेड़कर कैसे फांसी लगा ली। 
  5. ससुराल में गीता परेशान क्यों थी। कारण क्या था। 
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना