लोकसभा चुनाव / 103 साल की सरजूबाई ने 1951 के लोकसभा चुनाव में डाला था पहला वोट



103-year-old Sarajubai had cast his vote in 1951 Lok Sabha election
X
103-year-old Sarajubai had cast his vote in 1951 Lok Sabha election

  • 2018 में आंखों की रोशनी चली गई पर मतदान के लिए अब भी जोश में
  • 100 लोगों के परिवार की मुखिया और  3 बेटी और 6 बेटों की मां हैं ‘बड़ी दादी’

Dainik Bhaskar

Apr 16, 2019, 11:15 AM IST

कमल गर्ग, सुसनेर . चौथी पीढ़ी के साथ 100 से अधिक सदस्यों के परिवार की मुखिया सरजूबाई 103 साल की उम्र में भी मतदान करने के लिए उत्साहित हैं। आगर तहसील के ग्राम आवर में उनका आधार कार्ड बना हुआ है, जिसमें उनका जन्म वर्ष 1916 दर्ज है। सरजूबाई अभी सुसनेर में बड़े बेटे डॉ. रमेशचंद्र श्रोत्रिय के घर रह रही हैं। उन्होंने 1951 में सबसे पहले मतदान किया था, तब पर्चियों के माध्यम से प्रत्याशी चुने जाते थे। आज ईवीएम का दौर है। उन्होंने 2013 में ईवीएम से ही मतदान किया था। अब आगर संसदीय क्षेत्र में 19 मई को मतदान होना है। वह अपने गांव जाकर मतदान में हिस्सा लेंगी। 

 

तैयारी....सरजू को अब 19 मई का इंतजार, अपने बेटे से कहती हैं- कारे छोरा, वोट कदी पड़ेगा, म्हारे वोट डालवा ले चालेगा नी

 

उनकी 80 वर्षीय बेटी रुक्मिणी बाई बताती है कि 2018 के विधानसभा में उनकी नजरे चली गई, लेकिन वे पूरी तरह स्वस्थ है और अपना सारा काम संभवतः स्वयं कर लेती है। ठीक से काम नहीं करने पर बहुओं और पौत्र बहुओं को भी डाट फटकार लगाती रहती है। अभी चुनावी दौर है राजनीतिक दलों के द्वारा किए जा रहे प्रचार को सुनकर मालवी बोली में कहती रहती है- कारे छोरा वोट कदी पडेगा, म्हारे वोट डालवा ले चालेगा नी। 

 

पीढ़ियों का गणित, बड़ी बेटी की उम्र 80 वर्ष, बेटियों को मतदान के लिए जागरूक किया : सरजूबाई के 3 बेटी और 6 बेटे है। पति पुरुषोत्तम श्रोत्रिय सेना में डॉक्टर रहकर कई स्थानों पर तैनात रहे। पति का निधन 1980 में हो गया था। सरजू बाई की तीन बेटियां रुिक्मणीबाई  80 साल, पार्वतीबाई 77 साल और सुमन 50 साल तथा बेटे रमेशचंद्र 67 साल, कैलाशचंद 65 साल, नेमीचंद 62 साल, लक्ष्मीनारायण 59 साल, शिवनारायण 56 साल और सरोज कुमार 53 साल है। इन 9 बेटे-बेटियों के भी भरपूरा परिवार और पौत्र-पौत्रियां है जिनमें से भी कई की शादी हो गई है। सरजूबाई हमेशा अपने परिवार को मतदान के लिए जागरूक करती रही हैं। पति सेना से जुड़े रहे, इसलिए अपने बच्चों को उन्होने हमेशा देशहित को ही सर्वोपरि रखने की शिक्षा दी।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना