--Advertisement--

14 साल की बच्ची से मुंहबोला भाई 11 महीने से कर रहा था रेप, बेड़ियों से बांध रखे थे पैर, काउंसलिंग के दौरान मूवी देख बच्ची को गलत होने का पता चला

मूवी दिखा बच्ची की काउंसलिंग की, तब उसने अपने साथ हुई हरकतों के बारे में इशारे से बताई पूरी घटना।

Dainik Bhaskar

Dec 07, 2018, 06:27 PM IST

इंदौर 14 साल की बच्ची से तंत्र क्रिया की आड़ में मुंहबोला भाई 11 महीने से रेप कर रहा था। वह उसे नानी से पूजा-पाठ करने का बोलकर ले जाता फिर नशे की दवा मिलाकर मतरा हुआ (सिद्ध) पानी पिलाने का बोलकर बेसुध कर देता था और रेप करता था। होश में आने के बाद बालिका को जब भी आभास होता था कि कुछ गलत हुआ है तो वह उसे ये बोलकर डरा देता था कि मुझे शेर की सवारी आती है। मेरे खिलाफ कुछ भी गलत बोलेगी तो नष्ट हो जाएगी।

गांधीनगर टीआई नीता देअरवाल ने बताया, बांगड़दा मल्टी में रहने वाले आरोपी अजय, उसकी मां सुनीता, दादी गीताबाई और तांत्रिक उखल्दा को गिरफ्तार कर जेल भेजा है। अजय ने बताया कि कई लोगों को बच्ची के पग पायली (पैर के बल पैदा होना) होने का बताकर तंत्र क्रिया करवाने, सट्टे के नंबर देने, पीठ पर लात लगवाने और धन की बारिश के लिए जादू-टोना कर खेतों में चौकियां बैठाने के लिए साथ ले जाता था।


नशे से बच्ची की मानसिक स्थिति भी गड़बड़ा गई


बाल कल्याण समिति की अध्यक्ष माया पांडे ने बताया- 11 महीने से नशीला पदार्थ देने से बच्ची की शारीरिक व मानसिक स्थिति भी गड़बड़ा गई। कई बार बालिका को बेहोश देख उसकी नानी ने अजय से पूछताछ भी लेकिन वह खुद को शेर की सवारी आने का बोल बालिका को बाहरी हवा (भूत-प्रेत) का साया बता देता।


मूवी दिखा काउंसलिंग की, तब इशारों में बताई घटना


चाइल्ड लाइन के कोआर्डिनेटर जितेंद्र परमार ने बताया- टोल फ्री नंबर 1098 पर सूचना मिलते ही मंजू चौधरी व संतोष सोलंकी काउंसलिंग के लिए गांधीनगर में बच्ची के घर पहुंचे थे। परिवार वालों ने कोई खास जानकारी देने से इनकार कर दिया था। काउंसलिंग के दौरान अकेले कमरे में बैठाकर मंजू चौधरी ने कोमल नाम की मूवी दिखाई तब जाकर बच्ची ने अपने साथ हुई गलत हरकतों के बारे में उन्हें इशारे से बताया।

बच्ची रोते हुए बोली- मैं उसे राखी बांधती थी, लेकिन उसने इस भरोसे को चकनाचूर कर दिया

बाल कल्याण समिति की अध्यक्ष माया पांडे को और थाने में दी गई लिखित शिकायत में पीड़िता ने बताया, ''मेरी उम्र 14 साल है। मैं गांधीनगर बस्ती में रहती हूं। वह मेरे घर के पास ही रहता है, उसे मैं राखी बांधती थी। मुंहबोला भाई होने के नाते मैं और मेरा परिवार उस पर पूरा भरोसा करते, लेकिन 13 नवंबर को भाई ने इस भरोसे को चकनाचूर कर दिया। उस दिन वह मेरे घर आया था, उसे पता चला था कि मैं पग पायली हूं। इस पर उसने मुझे साथ चलने को कहा। पहले तो वह मुझे अकेले छत पर ले गया और नशीली दवा देकर रेप किया। जब होश में आई तो बोला- तेरे साथ जो भी हुआ है वह तू किसी को बोलेगी तो तेरी ही बदनामी होगी। मेरा कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता। मैं तांत्रिक बाबा के साथ रहता हूं। तुझे तांत्रिक से नष्ट करवा दूंगा। इस पर मैं डर गई। इसके बाद तो सिलसिला शुरू हो गया। इस काम में उस दरिंदे की मां और दादी भी साथ देते। वह दरिंदा और एक तांत्रिक घर में मोमबत्तियां, कटे नींबू, लोहे की कीलें, गोबर के लेप व सिंदूर से हार फूल लगाकर मुझे निर्वस्त्र कर तंत्र क्रियाएं करते। तंत्र क्रियाओं से पहले वह मेरे साथ रेप करता था।''

बच्ची बोली- मुझे लोहे की कीलों वाले चाबुक से मारते, अगरबत्ती से पूरे शरीर को दाग देते थे ये लोग


''श्मशान में मुझे चिता की भस्म लगाकर प्रेत आत्माओं के साथ मिलन करवाने का बोलकर वे घंटों तक क्रियाएं करते थे। मुझे नशे की गोलियां भी खिलाई। क्रियाओं के दौरान ये लोग मुझे लोहे की कीलों वाले चाबुक से मारते, अगरबत्ती से पूरे शरीर को दाग देते। कई बार बदहवास हालत देख मेरी मां और नानी ने मुझसे पूछा भी, लेकिन डर के मारे बोल नहीं पाती थी। लगातार नशा दिए जाने से मेरी मानसिक स्थिति कमजोर होने लगी। शरीर पर तंत्र क्रियाओं की यातना से डरी-सहमी रहने लगी।''

मेरी मां जब दरिंदे से पूछती तो वह भूत-प्रेत का साया बताकर डरा देता था

''मेरी हालत देख मां उस दरिंदे से पूछती तो वह उसे भूत-प्रेत का साया होना बताकर डरा देता था। चौकी बैठाना, जिन्न पैदा करना और पग पायली होने की शक्ति का अहसास करवाकर मुझसे सट्टे के नंबर खुलवाने जैसी हरकतों के लिए ये लोग तंत्र क्रियाएं करते थे। ये सब उसने धन के लालच में किया। बुधवार को मेरे सौतेले पिता, मां और नानी मुझे बेसुध और बेड़ियों में जकड़ी हालत में बाल कल्याण समिति के ऑफिस लेकर गए। वहां पूरा मामला बताया। इसके बाद पुलिस में शिकायत की।''

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended