अपराध / इंदौर-भोपाल के रास्ते कंटेनर से लूटे 180 मोबाइल हुए एक्टिवेट, लेकिन आरोपी अब भी फरार



180 mobile robbery criminals still out of police custody
X
180 mobile robbery criminals still out of police custody

  • 29 अप्रैल को 20 लाख रुपए के मोबाइल लूटने के मामले में नाम सामने आने के बाद भी पुलिस ने नहीं की कार्रवाई
  • कंजर गैंग का नाम सामने आते ही पुलिसकर्मियों ने छापे में जाने से मना कर दिया

Dainik Bhaskar

Jul 12, 2019, 07:28 PM IST

इंदौर. इंदौर से भोपाल भेजे गए कंटेनर से लूटे गए 20 लाख रुपए के सभी 180 मोबाइल एक्टिवेट हो चुके हैं। सारे मोबाइल एमपी और अन्य प्रदेशों में चल रहे हैं, लेकिन पुलिस अब तक एक भी मोबाइल बरामद नहीं कर पाई है। पुलिस को मोबाइल लूटने वाली गैंग का नाम पता चल चुका है, लेकिन उसके बाद भी कोई छापामार कार्रवाई नहीं हुई है।


तुकोगंज थाना क्षेत्र के एक कार्गो कंपनी के मार्फत 29 अप्रेल को कंटेनर से भोपाल के रास्ते में कंजर गैंग ने कटिंग कर 20 लाख रुपए के 180 मोबाइल लूट लिए थे। घटना के एक महीने बाद शिकायत दर्ज करने पर पुलिस ने सभी मोबाइल ट्रेसिंग पर डलवा दिए थे। 

 

पुलिस को कंपनी से मैसेज मिला है कि ये सारे मोबाइल अब एक्टिवेट हो चुके हैं। यानी लुटेरों ने सभी मोबाइल बेच दिए हैं। ये मोबाइल पुणे, मुंबई, शाजापुर, रतलाम और देवास के बरोठा सहित दूसरे प्रदेशों में चल रहे हैं। तकनीकी जांच में पता चला है कि मोबाइल चलाने वाले सभी व्यक्ति अलग अलग हैं और उन्होंने अपने नाम पर सिम बुक कर मोबाइल चालू किए हैं। इससे माना जा रहा है कि लुटेरों ने लोगों कोे कम दामों पर मोबाइल बेच दिए हैं। 


उधर, फरियादी की कंपनी से भी मैसेज आया है कि मोबाइल एक्टिवेट हो चुके हैं अब पुलिस को कार्रवाई करना चाहिए। इसके लिए फरियादी डिस्ट्रीब्यूटर्स अभिषेक व्यास थाने के चक्कर काट रहा है, लेकिन अब तक पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। पुलिस सूत्रों का कहना है कि ये सारे मोबाइल देवास की बरोठा की धानी घाटी बादल और अमर कंजर गैंग ने लूटे हैं। उनका इतना टेरर है कि कोई भी पुलिस वहां छापा नहीं मारती है। मामले में टीआई तहजीब काजी का कहना है कि अब जल्द ही सारे मोबाइल जब्त कर आरोपियों की तलाश की जाएगी। इसके लिए तकनीकी टीमों की मदद ली जा रही है।

COMMENT