• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Indore News
  • News
  • Indore - डेंगू से डेढ़ माह से लड़ रहा 37 वर्षीय बीएसएफ जवान; रक्तस्राव, लकवा, अल्सर, निमोनिया भी, बचाई जान
--Advertisement--

डेंगू से डेढ़ माह से लड़ रहा 37 वर्षीय बीएसएफ जवान; रक्तस्राव, लकवा, अल्सर, निमोनिया भी, बचाई जान

शहर में सोमवार को पांच और मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है। जनवरी से अब तक इसके 146 मरीज मिल चुके हैं। वहीं इसका एक...

Danik Bhaskar | Sep 11, 2018, 03:31 AM IST
शहर में सोमवार को पांच और मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है। जनवरी से अब तक इसके 146 मरीज मिल चुके हैं। वहीं इसका एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें मरीज डेढ़ माह से इससे लड़ रहा है। इस दौरान उसे रक्तस्राव, लकवा, अल्सर और निमोनिया भी हो गया। हालांकि इन सब के बावजूद डाॅक्टरों ने काफी मशक्कत कर उसकी जान बचा ली। यह मामला बीएसएफ परिसर में रह रहे 37 वर्षीय जवान का है। उसे जुलाई के आखिर में बुखार आया तो उसने परिसर में ही बने अस्पताल में इलाज कराया। जांच में डेंगू की पुष्टि हुई। इस बीच उसके प्लेटलेट्स कम होकर 33 हजार पर पहुंच गए थे। 29 जुलाई की रात उसे उल्टियां होने लगीं। उसमें खून दिखा तो तत्काल उसे शैल्बी हॉस्पिटल ले जाया गया। यहां डॉ. अजय पारिख की निगरानी में इलाज शुरू हुआ। डाॅक्टर के मुताबिक, मरीज को जब रात को हॉस्पिटल लाए तो सुबह खून की उल्टियां होने लगीं। इसके दो घंटे बाद ही मिर्गी के दौरे आए। मरीज का एक साइड का धड़ लकवा ग्रस्त हो गया, जिसके कारण सबसे पहले मरीज की एंडोस्कोपी की गई। तब पता चला कि अल्सर के कारण रक्तस्राव हो रहा है। गैस्ट्रोएंट्रोलॉजिस्ट डॉ. इकबाल कुरैशी ने इंजेक्शन लगा कर रक्तस्राव को कम किया। ब्रेन के ऊपर दबाव कम करने के लिए डॉ. अंकित माथुर ने सर्जरी की। सिर के पीछे के भाग की हड्डी (डी-कम्प्रेशन सर्जरी) निकाली गई। जब मरीज का सीटी स्कैन कराया गया तो पता चला सिर की नस बंद (वस्क्यूलिटिस) होने से उसको लकवा हो गया।

बढ़ता प्रकोप

डॉक्टरों ने मशक्कत के बाद बचाई जान, बीएसएफ परिसर के कई मरीजों में डेंगू, हो रही जांच

स्कैन करने पर पता चला ब्रेन के अंदर ब्लड का लीकेज था

डॉ. पारिख बताते हैं सीटी स्कैन कराने पर पता चला ब्रेन के अंदर ब्लड का लीकेज था। उसकी वजह से ब्रेन पर प्रेशर पड़ रहा था और मरीज को वेंटीलेटर पर लेना पड़ा। दो दिन बाद उसे निमोनिया हो गया। उसे हाई एंटीबायोटिक दी गई। एंडोस्कोपी कराई, तब पेट में अल्सर का पता लगा। मरीज अब भी भर्ती है। अब वह होश में है। मूवमेंट भी करने लगा है। ऐसे में मरीज को बचाना मुश्किल होता है, लेकिन टीम वर्क के कारण हम उसे बचाने में सफल रहे।

डेंगू के 5 और मरीज मिले, इस साल अब तक 146 मरीज मिले

सोमवार को धार रोड स्थित सिरपुर क्षेत्र में 14 वर्षीय बालक, 60 वर्षीय बुजुर्ग, जगजीवन राम नगर निवासी 21 वर्षीय युवक, स्मृति नगर निवासी 29 वर्षीय युवक और शारदा नगर निवासी 21 वर्षीय युवक को डेंगू ने चपेट में लिया। एमजीएम मेडिकल कॉलेज की लैब ने इन मरीजों में पुष्टि की है। मंगलवार को जिला मलेरिया विभाग की टीम एंटी लार्वा सर्वे करने जाएगी। उधर, मूसाखेड़ी और एयरपोर्ट क्षेत्र के साथ बीएसएफ परिसर में भी डेंगू के काफी मरीज मिले हैं।