Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» Industrialist Sushil Patni Got Bail After Brothe Property Attached By Court

10 लाख की बेल पर छूटे इंडस्ट्रीयलिस्ट पाटनी, भाई की 10 करोड़ की 4 दुकानें अटैच

इंदौर में 60 करोड़ के लोन की वसूली का मामला, 60 दिन के भीतर लोन सैटल करने की हिदायत।

Bhaskar News | Last Modified - Mar 02, 2018, 03:48 AM IST

10 लाख की बेल पर छूटे इंडस्ट्रीयलिस्ट पाटनी, भाई की 10 करोड़ की 4 दुकानें अटैच

इंदौर. डेब्ट्स रिकवरी ट्रिब्यूनल (डीआरटी) जबलपुर ने बुधवार को उद्योगपति सुशील पाटनी को 60 करोड़ की लोन वसूली को लेकर इंदौर स्थित उनके आवास से गिरफ्तार किया था। गुरुवार को विभाग ने उन्हें डीआरटी कोर्ट जबलपुर में पेश किया। जहां कोर्ट ने उन्हें 10 लाख रुपए जमा करने और 60 दिन के भीतर पूरा लोन सैटल करने की शर्त पर जमानत दी। वहीं कोर्ट ने उनके भाई सुमति प्रकाश की जवाहर मार्ग पर कुल 10 करोड़ की कीमत वाली चार दुकानों को अटैच करने के आदेश दे दिए।

60 करोड़ से ज्यादा राशि चुकाना है

पाटनी भाइयों पर आरोप है कि स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, इंदौर की शाखा से उन्होंने लोन लिया था। बाद में साल 2003 में कोर्ट से डिक्री ऑर्डर निकला और उन्हें सवा छह करोड़ चुकाने के आदेश हुए, लेकिन डिक्री आदेश का भी पालन नहीं किया और यह राशि बढ़कर 60 करोड़ से ज्यादा हो गई। इसी कारण डीआरटी के रेवेन्यू इंस्पेक्टर पचौरी, रिकवरी ऑफिसर एनके वर्मा व बैंक ऑफिसर ने पाटनी को गिरफ्तार किया था।

लोन सैटलमेंट नहीं किया तो अरेस्ट वारंट फिर जारी किया जाएगा

रेवेन्यू इंस्पेक्टर दीपक पचौरी ने बताया कि कोर्ट ने सुशील के दोनों भाई सुमति और सुनील के खिलाफ जारी गिरफ्तारी वारंट को बनाए रखा है। विभाग उन दोनों की गिरफ्तारी की प्रक्रिया करेगा और यदि 60 दिन के भीतर सुशील पाटनी ने भी लोन सैटलमेंट नहीं किया तो उनका भी अरेस्ट वारंट फिर जारी किया जाएगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Indore News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: 10 laakh ki bel par chhute indstriylist paatni, bhaaee ki 10 karode ki 4 dukanen ataich
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×