Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» After The Hotel Building Demolished Manager Daughter Told True Story

4 मंजिला होटल के मलबे में दबा था मैनेजर, पत्नी- बेटी करती रही बाहर आने का इंतजार

मध्यप्रदेश: इंदौर में चार मंजिला होटल ढहने से मैनेजर समेत 10 लोगों की मौत, कई के मलबे में दबे होने की आशंका

Bhaskar News | Last Modified - Apr 01, 2018, 07:51 AM IST

  • 4 मंजिला होटल के मलबे में दबा था मैनेजर, पत्नी- बेटी करती रही बाहर आने का इंतजार
    +8और स्लाइड देखें
    हादसे की जानकारी मिलने पर होटल मैनेजर की बिलखती पत्नी, बेटी और अन्य परिजन।

    इंदौर.सरवटे बस स्टैंड के पास शनिवार रात चार मंजिला एमएस होटल 20 सेकंड में भर-भराकर ढह गया। मलबे में दबने से होटल मैनेजर सहित 10 लोगों की मौत हो गई, जबकि दो घायल हो गए। कई लोगों के मलबे में दबे होने की आशंका है। बिल्डिंग के नीचे खड़ा ऑटो रिक्शा और कार भी चकनाचूर हो गए। घटना के आधे घंटे बाद जेसीबी आई, तब मलबा हटाना शुरू किया गया। बेटी ये कहती रही और रोती रही...

    - हादसे में जान गंवाने वाले होटल के मैनेजर हरीश सोनी की बेटी किरण ने कहा कि 8 दिन पहले होटल की छत भी गिरी थी। इसके बारे में पापा ने बता दिया था, लेकिन होटल मालिक ने ध्यान नहीं दिया।

    - वह पापा से जबरदस्ती दो शिफ्ट में काम कराता था। यही नहीं इमारत गिरने के बाद मैनेजर के परिवार को सिर्फ दीवार गिरने की जानकारी दी गई थी।

    - स्कीम नंबर 51 निवासी होटल मैनेजर हरीश कुमार सोनी (70) मलबे में दब गए। घटना के बाद उनकी पत्नी लक्ष्मी, बेटी किरण पास खड़े होकर उनके बाहर आने का इंतजार कर रहे थे। जब उन्हें बाहर निकाला गया तो शव देखकर सभी हतप्रभ रह गए।

    - बेटी और पत्नी ने बताया कि हरीश होटल में तीन साल से मैनेजर थे। वे दिन-रात दोनों शिफ्ट में काम करते थे। बेटी ने कहा कि बिल्डिंग गिरने के बाद उन्हें यही बताया गया कि दीवार गिरी है।

    चौथी मंजिल कच्ची थी, बेसमेंट में भरा था पानी

    -इमारत हादसे में गंभीर लापरवाही सामने आई है। होटल एमएस की जो इमारत गिरी है, वह 80 साल पुरानी और जर्जर हो चुकी थी।

    - चौंकाने वाली बात यह है कि जिस इमारत को खतरनाक घोषित कर गिराया जाना था, उस पर कुछ समय पहले ही दो मंजिल और तान दी गई।

    - चौथी मंजिल पर तो निर्माण ही कच्चा था। बताते हैं कि होटल के बेसमेंट में भी पानी भरा था, जिससे उसकी नींव भी लगातार कमजोर हो रही थी।

    देर रात तक होटल मालिक नहीं पहुंचा

    -होटल का मालिक शंकर परवानी घटना स्थल पर नहीं पहुंचा। भास्कर ने परवानी के मोबाइल नंबर पर कई बार कॉल किए, लेकिन किसी ने नहीं उठाया।

    - पुलिस होटल मालिक पर भी कड़ी कार्रवाई की तैयारी में है। आला अफसरों ने कहा कि होटल मालिक के खिलाफ जानलेवा लापरवाही का मामला दर्ज किया जाएगा।

    हादसे में मृतक और घायलों के नाम

    -12 लोगों को मलबे से निकाला गया। राजू पिता रतन लाल (35) निवासी रुस्तम का बगीचा, सत्यनारायण पिता रामानंद (60) निवासी लुनियापुरा, हरीश पिता गणेश (70), आनंद पोरवाल, होटल कर्मचारी राकेश राठौर (28) और दो महिलाओं सहित 5 अज्ञात की मौत हो गई। वहीं धमेंद्र पिता देवराम (36) निवासी खंडवा, महेश पिता रामलाल (42) निवासी राजनगर घायल हैं।

    इन लापरवाहियों ने ले ली 10 जानें

    - निगम ने इसे जर्जर घोषित कर रखा था, लेकिन इसे खाली नहीं कराया।
    -बिल्डिंग में नए निर्माण पर रोक थी, इसके बावजूद छह महीने के अंदर दो और मंजिल बना दी गई। चौथी मंजिल का भी काम चल रहा था। अधिकारियों को इसकी खबर तक नहीं थी।
    - तलघर में पानी भर हुआ था। इसके कारण भी नींव कमजोर होने का अंदेशा।

  • 4 मंजिला होटल के मलबे में दबा था मैनेजर, पत्नी- बेटी करती रही बाहर आने का इंतजार
    +8और स्लाइड देखें
    प्रत्यक्षदर्शी मनीष नायक

    दोस्त को छोड़ने गए थे, 20 फीट दूर गिर गई बिल्डिंग

    दोस्त को छोड़ने बस स्टैंड गए अंकित साहू और मनीष नायक ने बताया कि वे रुके ही थे, तभी बिल्डिंग गिर गई। हादसा 9.15 से 9.30 बजे के बीच हुआ। हम लोग बिल्डिंग से 20 फीट दूर थे, अगर बिल्डिंग के पास गाड़ी रोकी होती तो वे भी चपेट में आ जाते। इमारत के सामने ही पान की दुकान पर खड़े अजय अग्रवाल ने बताया कि चंद सेकंड में ही बिल्डिंग गिर गई। चारों तरफ धूल-मिट्टी फैल गई। समझ नहीं आ रहा था कि अचानक क्या हो गया। आंखें तक नहीं खोल पा रहे थे।

  • 4 मंजिला होटल के मलबे में दबा था मैनेजर, पत्नी- बेटी करती रही बाहर आने का इंतजार
    +8और स्लाइड देखें
    प्रत्यक्षदर्शी अंकित साहू

    चारों तरफ फैला धूल का गुबार

    आगे बताया कि स्कोडा का इंजन चालू था। बिल्डिंग गिरते देखी और चारों तरफ धूल-मिट्टी थी। पूरा अंधेरा हो गया था। बिल्डिंग स्कोडा कार पर जा गिरी।

  • 4 मंजिला होटल के मलबे में दबा था मैनेजर, पत्नी- बेटी करती रही बाहर आने का इंतजार
    +8और स्लाइड देखें
    अंधेरे में मोबाइल टॉर्च की रोशनी में उन्होंने दबे हुए लोगों को मलबे से निकाला।
  • 4 मंजिला होटल के मलबे में दबा था मैनेजर, पत्नी- बेटी करती रही बाहर आने का इंतजार
    +8और स्लाइड देखें
    मलबे से निकली कार।
  • 4 मंजिला होटल के मलबे में दबा था मैनेजर, पत्नी- बेटी करती रही बाहर आने का इंतजार
    +8और स्लाइड देखें
    ये होटल की बिल्डिंग गिरी है।
  • 4 मंजिला होटल के मलबे में दबा था मैनेजर, पत्नी- बेटी करती रही बाहर आने का इंतजार
    +8और स्लाइड देखें
    मलबे में दबी हुई कार।
  • 4 मंजिला होटल के मलबे में दबा था मैनेजर, पत्नी- बेटी करती रही बाहर आने का इंतजार
    +8और स्लाइड देखें
    मलबे में बचाव कार्य करते हुए लोग।
  • 4 मंजिला होटल के मलबे में दबा था मैनेजर, पत्नी- बेटी करती रही बाहर आने का इंतजार
    +8और स्लाइड देखें
    मलबे से निकला ऑटो।
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×