--Advertisement--

शक था कि वो करता है प्रेमिका से बात, 400 फीट गहरी खाई में धक्का दे फेंके पत्थर

मरा हुआ मान शोक में डूबा थी फैमिली, मौत को मात दे 5 दिन बाद जिंदा निकला बीएससी स्टूडेंट।

Dainik Bhaskar

Jan 13, 2018, 02:12 AM IST
मध्य प्रदेश के इंदौर का मामला- मृदुल को इस पहाड़ी से नीचे खाई में धक्का दिया गया था। मध्य प्रदेश के इंदौर का मामला- मृदुल को इस पहाड़ी से नीचे खाई में धक्का दिया गया था।

इंदौर. शहर के परदेशीपुरा से पांच दिन पहले लापता BSC में पढ़ रहे 20 साल के स्टूडेंट मृदुल पिता मोहित भल्ला निवासी क्लर्क कॉलोनी मूल निवासी शाहगढ़ बंडा (सागर) का प्रेम प्रसंग के चलते उसी के क्षेत्र के तीन लड़कों ने अपहरण किया। उसे इंदौर से 31 किमी दूर कंपेल के उदयनगर में मुआरा घाट ले जाकर मारपीट की फिर रस्सी से हाथ बांधकर फेंक दिया। हत्या की नीयत से ऊपर से पत्थर भी फेंके। डॉक्टर भी हैरत में पड़े...

- SP अवधेश गोस्वामी और ASP प्रशांत चौबे ने बताया शुक्रवार सुबह 7 बजे ग्रामीणों के साथ पुलिस जवान पहाड़ी रास्ते से 1 किमी दूर नीचे पेड़ की डालियां व टहनियां पकड़कर घटनास्थल पर पहुंचे।

- कम्पैल चौकी प्रभारी वीरेंद्र सिंह सिकरवार ने बताया घटनास्थल से 400 फीट गहराई में मृदुल के कपड़े नजर आए। 45 मिनट का सफर तय कर खाई में उतरे तो मृदुल पहाड़ियों के बीच से बहने वाले झरने की सूखी नाली में औंधे मुंह पड़ा था।

- उसे सीधा किया तो उसके मुंह से तेजी से हवा निकली। जिंदा देख मौके पर डॉक्टरों को बुलाया। दोपहर 12 बजे ऊपर लाकर उसे इंडेक्स मेडिकल कॉलेज पहुंचाया।

- पुलिस ने जब बताया कि 7 जनवरी की दोपहर 2 बजे मृदुल को फेंका था और 12 जनवरी को उसे जीवित निकाला तो डॉक्टर भी हैरत में पड़ गए।

इसलिए बच सकी जान

- डॉक्टरों ने बताया मृदुल के हाथ-पैर ठंड से अकड़ गए थे। उसके फेफड़े, दिल, लिवर में ज्यादा चोट नहीं थी।

- पत्थर से घाव हुए लेकिन औंधा मुंह नाली में फंसने से ब्लिडिंग रुक गई थी। घावों में इंफेक्शन भी नहीं हुआ था। सांस लेने में भी परेशानी नहीं हुई। यही वजह है कि वह बच गया।

प्रेमिका का चाचा बन मिलने बुलाया

- मुख्य आरोपी आकाश पिता राजू रत्नाकर (24) क्वींस टॉवर नौलखा है। उसे शंका थी कि मृदुल उसकी प्रेमिका से बात करता है।

- उसने साथी विजय पिता सीताराम परमार (20) निवासी राजदरा कम्पैल रोड और रोहित उर्फ पीयूष पिता सुरेश परेता (23) निवासी कुशवाह नगर बाणगंगा के साथ मिलकर अपने ही भाई की स्विफ्ट कार में अपहरण किया था।

- मृदुल के रूममेट सौरभ सेन ने बताया वह 7 जनवरी को नाश्ता कर आने का बोलकर निकला था।

- उसे आकाश ने किसी दूध वाले की गाड़ी रुकवाकर उसके मोबाइल से फोन कर प्रेमिका का चाचा बनकर मिलने बुलाया था।

- वह जैसे ही बताए स्थान पर पहुंचा उसे अगवा कर लिया। पुलिस ने जांच की तो पलासिया चौराहे के कैमरे में संदिग्ध कार दिख गई।

डॉक्टर बोले सिर, दिल, फेफड़े और लिवर में गंभीर चोट नहीं आने से बची जान

- ग्रामीण राजेंद्र ठाकुर ने बताया खाई से 3 लोगों के शव निकाल चुका हूं। जहां से मृदुल को फेंका, वहां से किसी का भी जिंदा बचना नामुमकिन है। ये चमत्कार है।

आगे की स्लाइड्स में देखें फोटोज...

मृदुल का अस्पताल में इलाज चल रहा है। मृदुल का अस्पताल में इलाज चल रहा है।
घटना स्थल पर बचाव दल। घटना स्थल पर बचाव दल।
400 फीट गहरी खाई में बचाव दल 400 फीट गहरी खाई में बचाव दल
पत्थरों पर लगे खून के निशान। पत्थरों पर लगे खून के निशान।
मृदुल भल्ला। मृदुल भल्ला।
मृदुल BSC का स्टूडेंट था। मृदुल BSC का स्टूडेंट था।
X
मध्य प्रदेश के इंदौर का मामला- मृदुल को इस पहाड़ी से नीचे खाई में धक्का दिया गया था।मध्य प्रदेश के इंदौर का मामला- मृदुल को इस पहाड़ी से नीचे खाई में धक्का दिया गया था।
मृदुल का अस्पताल में इलाज चल रहा है।मृदुल का अस्पताल में इलाज चल रहा है।
घटना स्थल पर बचाव दल।घटना स्थल पर बचाव दल।
400 फीट गहरी खाई में बचाव दल400 फीट गहरी खाई में बचाव दल
पत्थरों पर लगे खून के निशान।पत्थरों पर लगे खून के निशान।
मृदुल भल्ला।मृदुल भल्ला।
मृदुल BSC का स्टूडेंट था।मृदुल BSC का स्टूडेंट था।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..