Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» High Court Cancel Government Appeal Recovery After Retirement

रिटायर हो रहा कर्मचारी दबाव में देता है अंडरटेकिंग, रिटायमेंट के बाद उससे वसली नहीं की जा सकती- कोर्ट

शासन की अपील हाई कोर्ट में खारिज, 83 हजार रु. की रिकवरी नहीं होगी।

Bhaskar News | Last Modified - Mar 13, 2018, 07:14 AM IST

रिटायर हो रहा कर्मचारी दबाव में देता है अंडरटेकिंग, रिटायमेंट के बाद उससे वसली नहीं की जा सकती- कोर्ट

इंदौर. हाईकोर्ट की डिविजन बेंच ने शासन की अपील खारिज करते हुए फैसला दिया है कि रिटायरमेंट के वक्त या रिटायर होने के बाद सेवानिवृत्ति की तमाम सेवाएं देने के लिए जो अंडरटेकिंग ली जाती हैं, वह कर्मचारी मजबूरी में देता है। रिटायर होने के बाद उसे पैसों की जरूरत होती है, जिसे हासिल करने के लिए वह दबाव में अंडरटेकिंग दे देता है, जिसमें ये भी शामिल होता है कि ज्यादा भुगतान की जानकारी मिलने पर उससे रिकवरी की जा सकेगी।

डिविजन बेंच ने कर्मचारी पर निकाली गई 83 हजार 853 रुपए की रिकवरी को निरस्त किए जाने के सिंगल बेंच के फैसले को यथावत रखा है।

पिटिशन पर हुई सुनवाई में दिया फैसला

मामला एक लिपिक चंद्रेश्वर कुमार का है। उसके रिटायर होने के बाद बताया गया कि वेतन के रूप में उसे ज्यादा भुगतान किया जा चुका है। उस पर 83 हजार 853 रुपए की रिकवरी निकाल दी गई। इस पर उसने हाई कोर्ट में याचिका दायर की। सिंगल बेंच ने रिकवरी के आदेश को निरस्त कर दिया। इस पर सरकार ने अपील दायर की थी।

रिटायर होने के बाद कर्मचारी से किसी तरह की वसूली नहीं की जा सकती

डिविजन बेंच ने अपने फैसले में सुप्रीम कोर्ट के जजमेंट का उल्लेख किया। सुप्रीम कोर्ट ने रफीक मसीह के मामले में फैसला दिया था कि रिटायर होने के बाद कर्मचारी से किसी तरह की वसूली नहीं की जा सकती है। उसके नौकरी में रहते हुए ही शासन को यह सब देखना चाहिए था कि उसे भुगतान कम या ज्यादा तो नहीं किया जा रहा।

बड़ी संख्या में लंबित मामलों का निराकरण हो सकेगा

अधिवक्ता आनंद अग्रवाल के मुताबिक डिविजन बेंच के इस आदेश से बड़ी संख्या में लंबित मामलों का निराकरण हो सकेगा। वहीं कई कर्मचारी जिनसे अंडरटेकिंग लेकर वसूली की जा रही है, वह भी हाई कोर्ट का रुख कर सकेंग

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Indore News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: ritaayr ho raha karmChari dbaav mein detaa hai andarteking, ritaaymeint ke baad usse vsli nahi ki jaa skti- kort
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×