--Advertisement--

यूनिवर्सिटी के साढ़े चार सौ कर्मचारी 7 से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर, ठप हो जाएंगे कई काम

ठप हो जाएगी व्यवस्था, 9 को होने वाली कार्यपरिषद की बैठक पर भी पड़ेगा असर, मेडिकल, लॉ की कई परीक्षाओं पर भी संकट।

Danik Bhaskar | Mar 05, 2018, 10:42 AM IST

इंदौर। देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी के नियमित और दैनिक वेतनभोगी करीब साढ़े चार सौ कर्मचारी 7 मार्च से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जा रहे हैं। इससे काम पूरी तरह ठप हो जाएगा। इसका सीधा असर न केवल कार्यपरिषद की 9 मार्च को होने वाली अहम बैठक पर पड़ेगा, बल्कि लॉ, नर्सिंग और मेडिकल की परीक्षाओं पर भी होगा। यूनिवर्सिटी के सामने इस हड़ताल के चलते कई परेशानियां होंगी, क्योंकि 30 मार्च को दीक्षांत समारोह होना है। उसकी तैयारियों में कर्मचारियों की भूमिका सबसे अहम है। फिलहाल यूनिवर्सिटी प्रबंधन की तैयारी है कि सेल्फ फाइनेंस कर्मचारियों की मदद से कुछ जरूरी काम पूरे किए जाएं, लेकिन हकीकत यह है कि अगर हड़ताल लंबी चलती है तो स्थिति बहुत खराब हो सकती है।

कर्मचारी बोले- सातवां वेतनमान चाहिए, दैनिक वेतनभोगी कब नियमित होंगे?
इधर, कर्मचारी संघ का कहना है हड़ताल पूरे प्रदेश की सभी यूनिवर्सिटी में होगी। सातवां वेतनमान अहम मुद्दा है। वह हमारा हक है, मिलना ही चाहिए। संघ के महासचिव चैनसिंह यादव के अनुसार सालों से काम कर रहे दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों को नियमित किए जाने पर भी ध्यान नहीं दिया गया है। संघ के अध्यक्ष अनिल यादव और उपाध्यक्ष रमेश कुशवाह का कहना है तीन हजार रुपए भत्ते पर भी निर्णय नहीं लिया गया है। यह भी हमारे अधिकार के साथ खिलवाड़ है। कोषाध्यक्ष महेश श्रीवास, राकेश सिलावट और संतोष रघुवंशी का कहना है लगातार कर्मचारी रिटायर हो रहे हैं, लेकिन नए पद नहीं लाए गए। एक-एक कर्मचारी तीन-तीन लोगों के हिस्से का काम करने को मजबूर हैं।

क्या दिक्कतें आएंगी?
कार्यपरिषद की बैठक पर असर पड़ेगा। फाइलों को लाने-ले जाने तथा व्यवस्था करने में दिक्कतें आएंगी। दीक्षांत समारोह की तैयारी में 100 कर्मचारियों को जुटना है, तैयारियों पर सीधा असर पड़ेगा। मेडिकल परीक्षाओं के रिजल्ट 31 मार्च तक देना है, सबसे ज्यादा असर इसी पर पड़ेगा।

कुलपति बोले- अपने स्तर पर करेंगे प्रयास
कुलपति प्राे. नरेंद्रकुमार धाकड़ का कहना है हड़ताल से काम प्रभावित तो होगा। अधिकारी और सेल्फ फाइनेंस कर्मचारियों के सहयोग से काम पूरे करेंगे। कार्यपरिषद की बैठक का काम अधिकारियों से मिलकर करेंगेे।