--Advertisement--

बीएनपी में नोट चोरी मामला : जनरल मैनेजर छुट्‌टी खत्म होने से 3 दिन पहले लौटे

अफसरों को चेतावनी जारी करते हुए उन्होंने सेक्शन के प्रमुखों को तलब किया और घटना पर दुख जताया।

Danik Bhaskar | Jan 21, 2018, 07:01 AM IST

देवास (इंदौर). बैंक नोट प्रेस से डिप्टी कंट्रोलर मनोहर वर्मा द्वारा द्वारा की जा रही नोट चोरी की घटना के खुलासे के बाद बीएनपी के महाप्रबंधक एमसी बैलप्पा आनन-फानन में बीच अवकाश खत्म होने से तीन दिन पूर्व देवास लौट आए हैं। उन्होंने आते ही सख्ती शुरू कर दी है और जमकर अफसरों की क्लास ली। सभी अफसरों को चेतावनी जारी करते हुए उन्होंने सेक्शन के प्रमुखों को तलब किया और घटना पर दुख जताया।

- इधर, बीएनपी पुलिस दिनभर आरोपी डिप्टी कंट्रोलर वर्मा से पूछताछ करती रही। शनिवार को जांच अधिकारी ने सबसे पहले उसने पत्र भेजकर सीआईएसएफ से उस पत्र की मांग की कि जिसमें निर्देश हैं कि बीएनपी में अधिकारी स्तर के लोगों के जूतों की जांच नहीं होगी। ऐसे में फैसले लेने की वजह और कानून के तौर पर भी अनुसंधान किया जाएगा।

- पुलिस सूत्रों ने कहा कि जब तक हमें यह रिपोर्ट नहीं मिलेगी कि जब्त हुए 90.5 लाख रु. के सभी नोट असली हैं या नकली, या मिसप्रिंट हैं। किस सिरिज के कहां छापे गए हैं तब तक जांच में आगे कैसे बढ़ पाएंगे वर्ना कोर्ट में दिक्कत आ सकती है। पुलिस ने आरोपी वर्मा के संपर्क जानने के लिए छह माह की मोबाइल कॉल डिटेल रिकॉर्ड मांगी है।
- सूत्रों के अनुसार, बीएनपी में महाप्रबंधक के लौटने के बाद पूरी तरह सन्नाटा छा गया। मिसप्रिंट नोट में छेद करने वाली मशीन का इस्तेमाल पूरी तरह नहीं होने के खुलासे को भी अफसरों ने संज्ञान में लिया है। यह प्रकिया फिर शुरू की जा सकती है।

यह भी जानिए
- जब देवास में बैंक नोट प्रेस शुरू हुई थी तब नोट तो यहां छपता था लेकिन उसके नंबरों की छपाई अन्य प्रेस में होने जाती थी। उसके बाद वह देशभर में रिजर्व बैंक की शाखाओं को सप्लाय होता था। अब नई मशीनों में पूरा नोट देवास में ही तैयार होता है। इंक तक यहीं बनाने की मशीन लग चुकी है।