--Advertisement--

DPS प्रबंधन ने प्रिंसिपल को भेजा लंबी छुट्टी पर, कलेक्टर ने कहा- सख्त कार्रवाई करेंगे

31 दिन बाद स्कूल प्रबंधन ने प्रिंसिपल सुदर्शन सोनार को लंबी छुट्टी पर भेजकर वाइस प्रिंसिपल आशा नायर को प्रभार सौंप दिया

Dainik Bhaskar

Feb 07, 2018, 07:24 AM IST
DPS management sent principal to leave

इंदौर . डीपीएस बस हादसे के 31 दिन बाद स्कूल प्रबंधन ने प्रिंसिपल सुदर्शन सोनार को लंबी छुट्टी पर भेजकर वाइस प्रिंसिपल आशा नायर को प्रभार सौंप दिया है। प्रिंसिपल को लेकर पालकों में काफी नाराजगी थी। उन्हें हटाने व प्रकरण दर्ज करने की मांग की जा रही थी। उधर, मंगलवार को कलेक्टोरेट जनसुनवाई में एक बार फिर पालक पहुंचे और दोषियों पर कार्रवाई की मांग की। कलेक्टर निशांत वरवड़े ने आश्वस्त किया कि जल्द ही सख्त कार्र‌वाई होगी। दोषियों पर प्रकरण दर्ज किया जाएगा। पालकों के साथ गए मनीष गुप्ता ने बताया कि प्रशासन ने कहा है जल्द मजिस्ट्रियल जांच रिपोर्ट दी जाएगी। कलेक्टर ने मीडिया से चर्चा में कहा प्रशासन स्कूल बसों को लेकर ठोस नीति बनाने में जुटा है, इसलिए वैधानिक तरीके से हर तथ्य को देखा जा रहा है।

पीएस ने फिर चेताया- स्कूल बसों की चेकिंग में नहीं हो लापरवाही
- किसी भी यात्री बस और खास तौर पर स्कूली बसों की जांच में कोई लापरवाही न करें। सख्ती से ऐसे सभी वाहनों की चेकिंग करें। कोई भी कमी होने पर तुरंत कार्रवाई करें। कार्रवाई की समय-समय पर मुख्यालय जानकारी भी भेजें।

- अभियान लगातार जारी रखें। यह बात परिवहन विभाग के प्रमुख सचिव मलय श्रीवास्तव ने मंगलवार दोपहर आरटीओ कार्यालय में अधिकारियों से कही। राजस्व समीक्षा के लिए इंदौर पहुंचे श्रीवास्तव ने अधिकारियों से डीपीएस हादसे की जानकारी लेते हुए कहा कोई भी लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। बसों की गति पर लगातार नजर रखें। अधिकारियों ने उन्हें बताया इंदौर को 441 करोड़ का टारगेट मिला है।

फिटनेस टेस्ट से जुड़ी गड़बड़ी : ढाई घंटे बाद अपलोड किए फोटो

- डीपीएस बस हादसे की पुलिस जांच में आरटीओ में हो रहे फिटनेस टेस्ट से जुड़ी गड़बड़ी सामने आई है। फिटनेस सेक्शन के अधिकारी देवास नाका पर वाहनों का फिटनेस टेस्ट करते हुए उसके फोटो खींचते हैं और उन्हें तुरंत अपलोड करने के बजाय कार्यालय में शाम तक पहुंचकर अपलोड करते हैं।

- इससे फिटनेस के समय और स्थान की सही जानकारी सिस्टम में दर्ज नहीं हो पाती है। गड़बड़ी सामने आने के बाद अब विभाग तुरंत फोटो अपलोड करवाने की व्यवस्था लागू करने जा रहा है। अधिकारियों का कहना था बस का फिटनेस दोपहर साढ़े 12 बजे किया था, जबकि सिस्टम में 3 बजे अपलोड होना दिखाया गया।

- पुलिस अधिकारियों ने 3 बजे जब बस की लोकेशन जीपीएस से निकाली तो उस वक्त बस महू नाका के करीब थी। पड़ताल में सामने आया कि दोपहर तक देवास नाका पर वाहनों का फिटनेस टेस्ट होता है और शाम तक अधिकारी कार्यालय आकर उक्त टेस्ट के फोटो अपलोड करते हैं, इसलिए सिस्टम में फोटो अपलोड होने का समय ही फिटनेस टेस्ट का समय नजर आता है।

- आरटीओ जितेंद्र रघुवंशी ने बताया जल्द ही व्यवस्था लागू की जा रही है कि जिस समय अधिकारी टेस्ट लेते हुए फोटो खींचेंगे, उसी समय उन्हें सिस्टम पर अपलोड किया जाएगा। लोकेशन भी शेयर करना होगी। इससे वाहन के फिटनेस टेस्ट का सही समय और स्थान सिस्टम में दर्ज हो सकेगा।

X
DPS management sent principal to leave
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..