Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» Dps School Bus Road Accident Funeral Talk To Father Before Death

जहां खेलता था मासूम वहीं सजाई गई उसकी अर्थी, मौत से पहले पिता से की ये बात

विदिशा बाइपास पर शुक्रवार को हुए हादसे में चारों बच्चों श्रुति, कृति, स्वास्तिक और हरमीत कौर की एकसाथ अंतिम संस्कार हुआ।

Bhaskar News | Last Modified - Jan 07, 2018, 11:09 PM IST

  • जहां खेलता था मासूम वहीं सजाई गई उसकी अर्थी, मौत से पहले पिता से की ये बात
    +3और स्लाइड देखें
    स्वस्तिक की डेडबॉडी लाए तो सबकी आंखें भर आईं।

    इंदौर.विदिशा बाइपास पर शुक्रवार को हुए हादसे में चारों बच्चों श्रुति, कृति, स्वास्तिक और हरमीत कौर की एकसाथ अंतिम संस्कार हुआ। बच्चों की अंतिम यात्रा में मानो पूरा शहर उमड़ पड़ा। हादसे का शिकार हुए स्वास्तिक की अर्थी सजाई जा रही थी तो किसी को यकीन नहीं हो रहा था कि वो नहीं दिखेगा। मां और बहन तो डेडबॉडी देख रोने लगीं। अपने बेटे को विदा करने मां और बहन आधा किलोमीटर पैदल चलकर विदाई देने पहुंचे। जहां खेलता था वहीं उसकी अर्थी सजाई गई...

    - खातीवाला टैंक के श्रीजी टॉवर में स्वस्तिक दोस्तों के साथ जहां खेलता था आज वहीं उसकी अर्थी सजाई जा रही थी। किसी को यकीन नहीं हो रहा था कि स्वस्तिक अब उन्हें कभी खेलता नहीं दिखेगा।

    - पिता, स्वस्तिक की डेडबॉडी लाए तो सबकी आंखें भर आईं। मां और बहन फूट-फूटकर रोने लगीं। फिर बेटे का शव अर्थी पर रख पिता हाथ में मटकी लेकर आगे चल रहे थे। घर से करीब आधा किमी दूर तक मां मंजुला और बहन श्रेया, स्वस्तिक को अंतिम विदाई देने पहुंचे।

    - मुखाग्नि देने के पहले पिता स्वस्तिक का चेहरा निहारते रहे। जैसे-तैसे खुद को संभाल उन्होंने बेटे को मुखाग्नि दी। रुंधे गले से बोले इस सेशन के बाद परिवार को उनके साथ उड़ीसा ले जाने वाले थे।

    - स्वस्तिक रोजाना उनसे वाट्सएप पर बात करता था। हादसे से एक दिन पहले भी बेटे ने वाट्सएप पर बात की थी। वह कम्प्यूटर इंजीनियर बनना चाहता था।

  • जहां खेलता था मासूम वहीं सजाई गई उसकी अर्थी, मौत से पहले पिता से की ये बात
    +3और स्लाइड देखें
    मुखाग्नि देने के पहले पिता स्वस्तिक का चेहरा निहारते रहे
  • जहां खेलता था मासूम वहीं सजाई गई उसकी अर्थी, मौत से पहले पिता से की ये बात
    +3और स्लाइड देखें
    घर से करीब आधा किमी दूर तक मां मंजुला और बहन श्रेया, स्वस्तिक को अंतिम विदाई देने पहुंचे।
  • जहां खेलता था मासूम वहीं सजाई गई उसकी अर्थी, मौत से पहले पिता से की ये बात
    +3और स्लाइड देखें
    पिता इमोशनल होकर बोलते रहे इस सेशन के बाद परिवार को उनके साथ उड़ीसा ले जाने वाले थे।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Indore News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Dps School Bus Road Accident Funeral Talk To Father Before Death
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×