--Advertisement--

व्हील चेयर पर मरीज देखने जाते थे डॉ. जीसी सिपाहा, 92 साल की उम्र में निधन

फेमस डॉक्टर और एमजीएम मेडिकल कॉलेज के पूर्व डीन व एमवायएच के पूर्व अधीक्षक डॉ. गिरीश चंद्र सिपाहा का मंगलवार को निधन हो

Danik Bhaskar | Jan 10, 2018, 06:52 AM IST

इंदौर . शहर के फेमस डॉक्टर और एमजीएम मेडिकल कॉलेज के पूर्व डीन व एमवायएच के पूर्व अधीक्षक डॉ. गिरीश चंद्र सिपाहा का मंगलवार को निधन हो गया। वे 92 वर्ष के थे और कुछ समय से अस्वस्थ थे। उनकी अंतिम यात्रा बुधवार सुबह साढ़े 10 बजे निवास 1/8 यशवंत निवास रोड से रामबाग मुक्तिधाम जाएगी। डॉ. सिपाहा 1985 में एमवायएच के मेडिसीन विभागाध्यक्ष पद से रिटायर होने के बाद समाजसेवा में जुट गए थे। उनके 208 रिसर्च पेपर प्रकाशित हो चुके हैं। वे किंग एडवर्ड मेडिकल कॉलेज की सेकंड बैच के पास आउट थे। इसके बाद वे लखनऊ चले गए और वहां से मेडिसीन में एमडी किया। इसके बाद उन्होंने छह देशों में हार्ट से संबंधित बीमारियों के इलाज पर ट्रेनिंग ली। वे आशीर्वाद नशा मुक्ति केंद्र के संयोजक भी रह चुके हैं। सालभर पहले तक वे रॉबर्ट नर्सिंग होम से जुड़े रहे। उनके पिता डॉ. बिहारीलाल सिपाहा भी ख्यात डॉक्टरों में से थे। उनके बेटे डॉ. अचल सिपाहा भी ख्यात डॉक्टर हैं।

जब उन्होंने मेरा प्रिस्क्रिप्शन बदलवाया
- एक रोगी का इलाज करते हुए मैंने प्रिस्क्रिप्शन लिखा था। वह डॉ. सिपाहा के पास पहुंचा तो उन्होंने मुझे बुलाया और कहा कि यह करेक्ट नहीं है। इसकी जगह दूसरी ड्रग लिखना चाहिए।

हर 26 जनवरी पर जाते थे मेडिकल कॉलेज
- डॉ. सिपाहा जीवन के उत्तरार्द्ध में अशक्त हो जाने के बावजूद रॉबर्ट नर्सिंग होम में कार से उतरकर और व्हील चेयर पर बैठकर मरीजों को देखने आते थे। मेडिकल कॉलेज में हर 26 जनवरी पर व्हील चेयर से आकर शामिल होते थे।

वे बताते थे किस तरह खुशी से जीना चाहिए
- डॉ. सिपाहा मेरे शिक्षक थे। शिक्षक इस अर्थ में ही नहीं कि उन्होंने मुझे पढ़ाया। शिक्षक इस अर्थ में भी थे कि वे ज़िंदगी के सबक भी सिखाते थे।

20 साल पहले

- तस्वीर एमजीएम मेडिकल कॉलेज में 1998 में रीयूनियन कार्यक्रम का है। इसमें डॉ. अरुण अग्रवाल, डॉ. प्रकाश छजलानी और डॉ. एसके बंडी हैं। ये सभी डॉ. सिपाहा के स्टूडेंट्स हैं।