Hindi News »Madhya Pradesh News »Indore News »News» E-Way Bill Is Going To Be Mandatory For Transporting Goods

​एक मिनट में जनरेट हो जाएगा ई-वे बिल, मोबाइल पर भी मिलेगी सुविधा

Bhaskar News | Last Modified - Dec 04, 2017, 06:50 AM IST

50 हजार से अधिक कीमत की वस्तुओं के परिवहन के लिए ई-वे बिल अनिवार्य होने जा रहा है।
  • ​एक मिनट में जनरेट हो जाएगा ई-वे बिल, मोबाइल पर भी मिलेगी सुविधा

    इंदौर .50 हजार से अधिक कीमत की वस्तुओं के परिवहन के लिए ई-वे बिल अनिवार्य होने जा रहा है। व्यापारियों के लिए तो यह जरूरी है ही साथ ही 10 किमी से दूर किसी भी सामान के परिवहन पर यह बिल आम ग्राहक को भी लेना होगा। पहले चरण में कर्नाटक में इसे लागू किया है। इसी प्रारूप को मप्र ने भी अपना लिया है। इसके 20 दिसंबर से जनवरी 2018 के प्रथम सप्ताह में लागू होने की संभावना है। भास्कर पहली बार बता रहा है कि यह यह सिस्टम किस तरह काम करेगा और इसका प्रारूप क्या होगा।

    - व्यापारी को सिस्टम पर ई-वे बिल जनरेट करने में लगभग एक मिनट लगेगा वहीं अनरजिस्टर्ड डीलर को इस प्रक्रिया में डेढ़ से दो मिनट लगेंगे। व्यापारी इसे मोबाइल एप, कियोस्क से भी जनरेट कर सकेंगे। यदि वह मोबाइल नंबर पर एसएमएस के रूप में ई-वे बिल लेना चाहता है तो वह विकल्प भी सर्वर पर मौजूद रहेगा। वरिष्ठ कर सलाहकार आरएस गोयल ने कहा कि काउंसिल ने ई-वे बिल के लिए अलग से इन्फाॅर्मेशन टेक्नोलॉजी आधारित सिस्टम तैयार किया है, जो जीएसटीएन से अलग है।

    जानें एक नजर में किस तरह जनरेट होगा ई-वे बिल

    रजिस्टर्ड व्यापारी जीएसटीएन से बना सकते हैं यूजर आईडी
    - डीलर को ई-वे बिल जनरेट करने के लिए सिस्टम पर जाना होगा और पहली बार उपयोग करने पर अपना जीएसटीएन व पासवर्ड डालना होगा इससे यूजर नेम व पासवर्ड जनरेट होगा। जिससे वह माल बेच रहा है, उसकी जानकारी डालेगा, पार्ट बी जिसमें वाहन की जानकारी देना है, वह खुद भर सकता है या ट्रांसपोर्टर माल परिवहन के समय ई-वे बिल जनरेट करेगा।

    अनरजिस्टर्ड व्यापारी पैन व आधार से बना सकते हैं
    इन्हें पैन नंबर व आधार कार्ड नंबर डालना होगा जिससे यूजर नेम व पासवर्ड जनरेट होगा। जिसका ओटीपी मोबाइल पर आएग इसको सिस्टम पर सत्यापित करने के बाद वह यूजर नेम व पासवर्ड का उपयोग कर सकेगा। इस प्रक्रिया को एक बार ही करना होगा। पैन व आधार दोनों सही होना जरूरी है।

    डीलर सेव कर सकता है खरीदार की जानकारी
    ई-वे बिल के तकनीकी प्रभारी डॉ. धर्मपाल शर्मा ने कहा कि इससे यह सुविधा होगी कि डीलर मस्टर तैयार कर सकेगा, यानि एक बार डीलर ने किसी को माल भेजा तो वह उसकी जानकारी सेव कर सकता है और अगली बार माल भेजने पर केवल दो शब्द टाइप करने पर डिटेल आ जाएगी, केवल माल की जानकारी भरकर बिल जनरेट होगा और मस्टर में वह हजारों ग्राहक जोड़ सकता है। 3

    उपभोक्ता को दुकानदार देगा ई-वे बिल
    - यदि आपने 50 हजार से अधिक कीमत की टीवी, फ्रिज या कोई महंगी वस्तु खरीदी है, अपनी गाड़ी से ले जा रहे हैं तो दुकानदार आपको भी ई-वे बिल देगा। यदि दुकान से घर की दूरी 10 किमी से कम है तो वाहन की जानकारी देने की जरूरत नहीं होगी, लेकिन अधिक है तो दुकानदार आपके वाहन का नंबर बिल में डाल देगा। बिना मोटर से चलने वाले वाहनों से परिवहन होने पर बिल नहीं रखने की छूट है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Indore News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: E-Way Bill Is Going To Be Mandatory For Transporting Goods
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×