--Advertisement--

जस्टिस शर्मा की हाई कोर्ट से विदाई, 30 को लेंगे स्थायी जज की शपथ, 1 जनवरी को होंगे रिटायर्ड

साल के पहले ही दिन 18 अतििरक्त जजों को दिलाई जाएगी शपथ।

Danik Bhaskar | Dec 22, 2017, 08:37 AM IST

इंदौर. हाई कोर्ट की इंदौर खंडपीठ से गुरुवार को जस्टिस वेदप्रकाश शर्मा को विदाई दी गई। शाम साढ़े चार बजे सभी जजेस ने उनकी कार को धक्का लगाकर विदाई की रस्म पूरी की। हालांकि वे स्थायी जज के रूप में 30 दिसंबर को जबलपुर में शपथ लेंगे। एक दिन स्थायी जज के रूप में रहने के बाद 1 जनवरी को रिटायर हो जाएंगे। उनके सहित 18 अतिरिक्त जज को चीफ जस्टिस शपथ दिलाएंगे।

- जस्टिस शर्मा ने हाल ही में प्रदेश के कैबिनेट मंत्री लालसिंह आर्य के खिलाफ चल रहे हत्याकांड के प्रकरण में रोक लगाई थी। भिंड कोर्ट के द्वारा निकाले गए गिरफ्तारी वारंट पर ना केवल रोक लगाई, बल्कि ट्रायल पर भी स्थगन दिया था। जज के रूप में संभवत: उनका सबसे छोटा कार्यकाल है।

- 60 वर्ष की उम्र में प्रिसिंपल रजिस्ट्रार के पद से रिटायर होने के बाद उन्हें हाई कोर्ट जज बनाया गया था। करीब 21 महीने का कार्यकाल उनका हाई कोर्ट जज के रूप में रहा। प्रशासनिक जज पीके जायसवाल के साथ लंबे समय तक वे डिविजन बेंच में भी रहे। विदाई समारोह में जस्टिस पीके जायसवाल, जस्टिस सतीशचंद्र शर्मा, जस्टिस रोहित आर्य, जस्टिस विवेक रुसिया, जस्टिस वीरेंदर सिंह मौजूद थे।

एसोसिएशन की मांग- इंदौर बेंच में 12 जजों की व्यवस्था की जाए
हाई कोर्ट बार एसोसिएशन ने हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस को पत्र लिखा है कि इंदौर खंडपीठ में 12 जजेस की व्यवस्था की जाए। अध्यक्ष अनिल ओझा, सचिव मनीष यादव के मुताबिक इंदौर खंडपीठ में जजेस के जितने पद स्वीकृत हैं, उतने भरे नहीं जाते हैं। हाल ही में जस्टिस आलोक वर्मा के रिटायर होने के बाद सेकंड डिविजन बेंच जजेस की कमी के कारण ही रेगुलर नहीं बन पा रही है। जजेस के खाली पदों को भरने के लिए भी कालेजियम के पास नाम भेजे जाएं।