--Advertisement--

मांडू को देख हिलेरी ने कहा- इतनी खूबसूरत टूरिस्ट प्लेस को प्रमोट क्यों नहीं किया गया

अमेरिका की पूर्व प्रथम महिला हिलेरी क्लिंटन ढाई घंटे के मांडू घूमने आईं।

Danik Bhaskar | Mar 12, 2018, 11:56 PM IST
अमेरिका की पूर्व प्रथम महिला हिलेरी क्लिंटन ढाई घंटे के मांडू घूमने आईं। अमेरिका की पूर्व प्रथम महिला हिलेरी क्लिंटन ढाई घंटे के मांडू घूमने आईं।

धार (मध्यप्रदेश). अमेरिका की पूर्व प्रथम महिला हिलेरी क्लिंटन ढाई घंटे के मांडू घूमने आईं। उन्हें ये जगह इतनी पसंद आई कि उन्होंने गाइड से पूछ लिया कि इतने खूबसूरत जगह को प्रमोट क्यों नहीं किया गया। गाइड ने कहा-शायद अब हो रहा है। हिलेरी दोपहर 12 से ढाई बजे तक मांडू में रही। इस दौरान उनके दौरे के लिए विशेष रूप से आई अमेरिकी सुरक्षा एजेंसी के 16 सदस्यों की टीम अलर्ट रही। महेश्वर से अहिल्या फोर्ट की स्पाॅट सर्विस की टीम भी पूरे समय साथ रही। लोकल पुलिस फोर्स ने सुरक्षा घेरा बनाए रखा और किसी को उनके नजदीक नहीं जाने दिया। प्रशासन के अफसर भी सत्कार में थे। हमाम और जकूजी जैसी व्यवस्था देख रह गईं हैरान...

- जहाज महल में भ्रमण के दौरान गाइड विश्वनाथ तिवारी ने हिलेरी को बताया कि साइफन सिस्टम, रेन वाटर हार्वेस्टिंग, पानी का शुद्धीकरण और टैरेस पुल जैसी तकनीक हम आज सोचते हैं, यह 10वीं शताब्दी में यहां महलों में अपना ली गई थी।

- उन्होंने जहाज महल परिसर में ही हमाम में गर्म-ठंडे पानी की अंडरग्राउंड लाइनें व जकूजी स्पा (शरीप पर भाप) जैसी व्यवस्था देखी तो हैरान रह गईं। पानी के सिस्टम के साथ होशंगशाह के मकबरे में साउंड सिस्टम बताया। यहां भी हिलेरी ने आवाज लगाने पर वापस आने वाली ध्वनि पर आश्चर्य जताया।


अमेरिकी पर्यटक बोला-शी इज गुड लेडी
- मांडू में हिलेरी के भ्रमण की सूचना पर अमेरिका से ही घूमने आए लुई सुरक्षा घेरे के बाहर रुक गए। हिलेरी को एक झलक देखने के लिए इंतजार करते रहे।

उन्होंने कहा-शी इज गुड लेडी,
- हिज हसबैंड नॉट। लुई के साथ मिनिस्ट्री ऑफ हॉलैंड के वकील लुकास भी थे।

गाइड-कैसा लगा मांडू, हिलेरी-यह विख्यात होना चाहिए

- गाइड तिवारी ने पूछा-आपको मांडू कैसा लगा। उन्होंने कहा-मैं एक ऐसी जगह आ रही थी, जो ज्यादा प्रचारित नहीं है। अंदेशा था कि न जाने कैसी जगह होगी लेकिन यहां शांत

और बड़ी सी साइट देख कर बहुत अच्छा लगा। यह स्थान तो विख्यात होना चाहिए।

हिलेरी ने पूछा- मांडू बसाने के लिए पहाड़ क्यों चुना

- हिलेरी ने गाइड विश्वनाथ तिवारी से पूछा कि महलों के निर्माण के लिए पहाड़ी इलाके के मांडू को क्यों चुना गया। गाइड तिवारी ने बताया मालवा पूरा समतल है और मांडू की समुद्र तल से ऊंचाई दो हजार फीट है। सुरक्षा के लिहाज से परमारों ने 10वीं शताब्दी में इस ऊंचे स्थान को चुना।

- ऊंचाई के कारण पानी की समस्या न हो, इसलिए भूमिगत जल की बजाय बरसाती पानी को सहेजने पर ज्यादा ध्यान दिया गया। हिलेरी के साथ आई एक महिला ने होशंगशाह के मकबरे में पूछा कि तीन गुंबद क्यों होते हैं। तिवारी ने इस्लामी मान्यताएं बताई तो उन्होंने कहा-इतनी जानकारी तो हमें इस्लामिक देश में भ्रमण के दौरान भी कभी किसी ने नहीं बताई।

उन्हें ये जगह इतनी पसंद आई कि उन्होंने गाइड से पूछ लिया कि इतने खूबसूरत जगह को प्रमोट क्यों नहीं किया गया। उन्हें ये जगह इतनी पसंद आई कि उन्होंने गाइड से पूछ लिया कि इतने खूबसूरत जगह को प्रमोट क्यों नहीं किया गया।
हिलेरी दोपहर 12 से ढाई बजे तक मांडू में रही। हिलेरी दोपहर 12 से ढाई बजे तक मांडू में रही।
रे के लिए विशेष रूप से आई अमेरिकी सुरक्षा एजेंसी के 16 सदस्यों की टीम अलर्ट रही। रे के लिए विशेष रूप से आई अमेरिकी सुरक्षा एजेंसी के 16 सदस्यों की टीम अलर्ट रही।
हेश्वर से अहिल्या फोर्ट की स्पाॅट सर्विस की टीम भी पूरे समय साथ रही। हेश्वर से अहिल्या फोर्ट की स्पाॅट सर्विस की टीम भी पूरे समय साथ रही।