--Advertisement--

20 सेकंड में भरभराकर गिरी होटल, टॉर्च की रोशनी में ऐसे दबे हुई लाशों को निकाला

जर्जर हो चुकी होटल में अंदर ही अंदर रिपेयरिंग का काम चल रहा था,यहां अवैध गतिविधियां भी संचालित होने की जानकारी

Dainik Bhaskar

Apr 01, 2018, 03:35 AM IST
लोगों को ऐसे निकाला गया। लोगों को ऐसे निकाला गया।

इंदौर. सरवटे बस स्टैंड में एमएस होटल की 80 साल पुरानी इमारत 20 सेकंड में ढह गई थी। धूल के गुबार और अंधेरे में लोग जान बचाने को इधर-उधर भागते रहे। वहीं, इस घटना में जहां होटल मालिक की लापरवाही सामने आ रही है, वहीं निगम प्रशासन भी कम जिम्मेदार नहीं है। नगर निगम ने इस होटल को जर्जर घोषित कर रखा था, लेकिन इसे न तो गिराया और न न तब ध्यान दिया, जब इस पर दो मंजिल और बना दी गई। इसमें चौथी मंजिल का भी काम चल रहा था। इसके अलावा होटल के जिस बुजुर्ग मैनेजर की मौत हुई है, उसकी पत्नी और बेटी का आरोप है कि अंदर रिपेयरिंग का काम भी चल रहा था। भीड़ इतनी कि भांजना पड़ीं लाठियां...

- आठ दिन पहले होटल की छत भी गिर गई थी। वहीं, होटल के आसपास रहने वाले लोगों का कहना था कि यह इमारत करीब 60 साल पुरानी थी।

- इस पर ही बिना पिलर के दो मंजिल और तान दी थी। दो-तीन बार इसकी शिकायत की जा चुकी थी।

- यह बात भी सामने आई कि मैनेजर से उनके बेटे ने हादसे से 10 मिनट पहले ही बात की थी। मैनेजर ने उससे बोला कि मैं होटल में हूं। बेटे ने कहा कि मैं मिलने आ रहा हूं, लेकिन उसके पहुंचने से पहले ही हादसा हो गया।

- इमारत के गिरते ही धूल-मिट्टी का गुबार चारों तरफ फैल गया। बिल्डिंग के आसपास खड़े लोगों को करीब 5-10 मिनट समझ ही नहीं आया कि अचानक यह क्या हो गया?

- घटना के बाद सोशल मीडिया पर घायलों को खून की मदद देने के लिए मैसेज भी चले। कई लोग एमवायएच में खून देने पहुंचे।

- एमवाय अस्पताल के ट्रामा सेंटर में देर रात तक घायलों के आने का सिलसिला चलता रहा।

- घटना के मैसेज व जानकारी मिलने के बाद परिजन भी घटना स्थल और एमवाय अस्पताल पहुंचे। परिजन अपनों की तलाश कर रहे थे।

- भीड़ के कारण पुलिस व राहत कार्य में जुटे लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। इन्हें खदेड़ने के लिए पुलिस को लाठियां भी भांजना पड़ीं।

- इमारत गिरते ही अफरा-तफरी मच गई। लोग जान बचाने के लिए गलियों में भागे, वहीं घायल मदद के लिए पुकार रहे थे।

लोग मुझे बचाने में लगे थे, उसे पहले मदद मिल जाती तो वह बच जाता

- होटल के पास में ही रिक्शा में बैठे महेश कोठे पिता राम लाल न्यू गांधी पैलेस और राजू व एक अन्य बुजुर्ग व्यक्ति रिक्शा में बैठकर बात कर रहे थे। तभी होटल की इमारत गिर गई।

- महेश ने बताया कि मुझसे ज्यादा चोट राजू को लगी थी। वह तड़प रहा था। सब मुझे बचाने में लगे थे। पहले उसे मदद मिल जाती तो उसका जीवन बच जाता।

- बातचीत के दौरान एक सवारी भी आई थी, लेकिन दोनों ही उसे नहीं ले गए।

कार के एटीएम से टकराने की बात गलत

- हादसे के बाद अफवाह भी फैली की कार एटीएम से टकराई थी, जिसके बाद इमारत धराशायी हुई। हालांकि कार मालिक अशोक अरोरा ने बताया कि ड्राइवर राजेश मिश्रा के साथ गाड़ी पार्क कर घर तक किसी काम से चले गए थे। वापस आए तो गाड़ी मलबे में दबी हुई थी। गाड़ी एटीएम से नहीं टकराई।

शनिवार होने के कारण ज्यादा भीड़ थी

- सरवटे बस स्टैंड के समीप का यह हिस्सा भीड़-भाड़ वाला इलाका माना जाता है। क्षेत्र में 15 से ज्यादा होटल और रेस्टारेंट हैं।
- शनिवार का दिन होने और रविवार की छुट्टी के चलते ज्यादा भीड़ थी। भारी संख्या में लोगों की मौजूदगी थी।
- जिस वक्त हादसा हुआ 25 लोग होटल के नीचे ही खड़े थे। वहीं स्थित पान की दुकान पर भी लोग खड़े थे। जबकि आसपास रोड पर वाहनों की आवाजाही जारी थी। हादसे के दौरान रोड से गुजर रहे लोग घबरा गए। पान की दुकान पर खड़े लोग वहां से भाग गए।

हादसे के बाद एटीएम में रखा पैसा बचाने की भी कवायद

- देर रात पुलिस-प्रशासन और निगम की टीमें मलबा हटाने और दबे हुए लोगों की खोज करने में जुटी थीं, लेकिन इसके साथ ही पुलिस ने मलबे में दबी एटीएम मशीन और उसमें रखा पैसा भी निकालने की कवायद शुरू कर दी थी।

देर रात तक मलबा हटाती रही रेस्क्यू टीम

- होटल ढहने के बाद देर रात तक रेस्क्यू टीम मलबा हटाती रही। वहीं घटना की सूचना पाकर पुलिस प्रशासन के साथ शहर के दूर-दूर से लाेग पहुंच गए थे और वे भी बचाव कार्य में लगे रहे।

4 मंजिला बिल्डिंग 20 सेकंड में हुई थी धराशाही। 4 मंजिला बिल्डिंग 20 सेकंड में हुई थी धराशाही।
सरवटे बस स्टैंड के पास नसिया रोड पर यहां थी एमएस होटल। सरवटे बस स्टैंड के पास नसिया रोड पर यहां थी एमएस होटल।
मलबे में दबी हुई कार मलबे में दबी हुई कार
आसपास के रहवासी और दुकानदार मौके पर पहुंचे और बचाव कार्य में जुटे। आसपास के रहवासी और दुकानदार मौके पर पहुंचे और बचाव कार्य में जुटे।
मलबे में दबी कार मलबे में दबी कार
मलबे में दबा ऑटो मलबे में दबा ऑटो
होटल की चार मंजिला इमारत ढही, उसके पास की इमारत को प्रशासन, पुलिस व निगम ने इसे खाली करवाया। होटल की चार मंजिला इमारत ढही, उसके पास की इमारत को प्रशासन, पुलिस व निगम ने इसे खाली करवाया।
X
लोगों को ऐसे निकाला गया।लोगों को ऐसे निकाला गया।
4 मंजिला बिल्डिंग 20 सेकंड में हुई थी धराशाही।4 मंजिला बिल्डिंग 20 सेकंड में हुई थी धराशाही।
सरवटे बस स्टैंड के पास नसिया रोड पर यहां थी एमएस होटल।सरवटे बस स्टैंड के पास नसिया रोड पर यहां थी एमएस होटल।
मलबे में दबी हुई कारमलबे में दबी हुई कार
आसपास के रहवासी और दुकानदार मौके पर पहुंचे और बचाव कार्य में जुटे।आसपास के रहवासी और दुकानदार मौके पर पहुंचे और बचाव कार्य में जुटे।
मलबे में दबी कारमलबे में दबी कार
मलबे में दबा ऑटोमलबे में दबा ऑटो
होटल की चार मंजिला इमारत ढही, उसके पास की इमारत को प्रशासन, पुलिस व निगम ने इसे खाली करवाया।होटल की चार मंजिला इमारत ढही, उसके पास की इमारत को प्रशासन, पुलिस व निगम ने इसे खाली करवाया।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..