--Advertisement--

जेसीबी से खंडित हुई लक्ष्मी माता की मूर्ति, बिजासन मंदिर में हंगामा

अतिक्रमण हटाने में लगी जेसीबी के धक्के से यहां स्थित प्राचीन लक्ष्मी माता की मूर्ति के खंडित होने की बात सामने आई है।

Danik Bhaskar | Mar 14, 2018, 01:25 PM IST
जेसीबी ने रोका काम। जेसीबी ने रोका काम।

इंदौर। बिजासन माता मंदिर में अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई में बुधवार को हंगामें की स्थिति बन गई। अतिक्रमण हटाने में लगी जेसीबी के धक्के से यहां स्थित प्राचीन लक्ष्मीजी की मूर्ति के खंडित होने की बात सामने आई है। इस बात से नाराज पुजारियों के साथ ही अन्य लोगों ने जेसीबी पर पथराव करते हुए अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई को रोक दिया है। मामले की जानकारी मिलते ही हिन्दु संगठन से जुड़े कई लोग बिजासन माता मंदिर पहुंचे।

- बिजासन माता मंदिर के पुजारी हेमंत गुरु ने बताया कि बुधवार को नगर निगम द्वारा सुबह से ही यहां अतिक्रमण हटाने की कार्रवई की जा रही थी। कुछ दुकानें हटाने के बाद निगम का दल परिसर में ही स्थित प्राचीन लक्ष्मीजी के पास बनी दुकानें हटाने पहुंचा।

- प्राचीन लक्ष्मी माता मंदिर के पास की दुकानें हटाने से पहले वहां के पुजारियों ने नगर निगम के दल को सावधानी बरतने को कहा था। निगम के दल को पहले ही बता दिया गया था कि मंदिर में लक्ष्मीजी की प्रचीन प्रतिमा स्थापित है। जेसीबी के धक्के से प्रतिमा को नुकसान ना पहुंचे, इस बात का ध्यान रखा जाए।

- पुजारियों का आरोप है कि जेसीबी चालक के साथ ही निगम कर्मचारियों ने लापरवाहीपूर्वक काम करते हुए मंदिर को नुकसान पहुंचाया है। जेसीबी के धक्के से मंदिर में स्थापित आठ किलो वजन की प्राचीन लक्ष्मीजी की मूर्ति को नुकसान पहुंचा और उसके खंडित होने की बात वहां के पुजारियों द्वारा बताई जा रही है।

- मूर्ति के खंडित होने की बात पता चलते ही वहां उपस्थित पुजारियों और लोगों ने कार्रवाई का विरोध शुरू कर दिया। कुछ लोगों ने जेसीबी के साथ ही निगम कर्मचारियों पर पथराव किए। लोगों के आक्रोश को देखते हुए जेसीबी के साथ ही निगम कर्मचारियों ने काम बंद कर दिया और अपने अमले के साथ वहां से रवाना हो गए।

- घटना की जानकारी जैसे ही हिन्दु संगठन के लोगों को लगी वे बड़ी संख्या में बिजासन माता मंदिर पहुंच गए और निगम-प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। नारेबाजी और लागों के विरोध को देखते हुए पुलिस बल भी मंदिर पहुंचा।

- गौरतलब है कि बिजासन माता मंदीर को भव्य व सुंदर स्वरूप देने के लिए प्रशासन और नगर निगम द्वारा मंदिर परिसर से पुजारियों के मकान और दुकानें हटाने की कार्रवाई मंगलवार से शुरू की थी। प्रशासन की योजना इस मंदिर को खजराना और रणजीत हनुमान मंदिर की तरह संवारने की है।

- शहर के पश्चिम क्षेत्र में बिजासन माता मंदिर सबसे बड़ा धार्मिक स्थल है। इस मंदिर के विकास का बीड़ा प्रशासन और नगर निगम ने उठाया है। इसके तहत मंदिर परिसर में बने पुजारियों के 12 मकानों को हटाया जा रहा है।

- बिजासन माता मंदिर परिसर में बने पुजारियों के 12 मकानों में से नौ को पहले ही शिफ्ट किया जा चुका है, लेकिन तीन पुजारी मंदिर परिसर से हटने को तैयार नहीं थे। जिसे हटाने के लिए मंगलवार से कार्रवाई प्रारंभ की गई थी।

लक्ष्मी माता की मूर्ति। लक्ष्मी माता की मूर्ति।
माता की इस मूर्ति के खंडित होने की बात बताई जा रही है। माता की इस मूर्ति के खंडित होने की बात बताई जा रही है।
लक्ष्मी माता की मूर्ति। लक्ष्मी माता की मूर्ति।
लक्ष्मी माता की मूर्ति। लक्ष्मी माता की मूर्ति।