Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» Man Save Lives Of Four Children During School Bus Accident

इंदौर हादसा : बच्चों को तड़पता देख शख्स ने रोकी कार, बचाई 4 बच्चों की जिंदगी

देवास वायपास पर बिचौली हप्सी ओवर ब्रिज पर एक स्कूल बस और ट्रक की टक्कर हो गई थी।

कार्तिक सागर समाधिया | Last Modified - Jan 07, 2018, 11:03 PM IST

    • शहर के इंडस्ट्रियलिस्ट अलोक मूंदड़ा अपने फैक्ट्री के काम से देवास जा रहे थे। उन्होंने मौके पर पहुंचकर एक टीचर की मदद से पांच बच्चों को समय पर हॉस्पिटल पहुंचाया

      इंदौर.शुक्रवार को शहर में देवास वायपास पर बिचौली हप्सी ओवर ब्रिज पर एक स्कूल बस और ट्रक की टक्कर हो गई थी। जिसमें ड्राइवर समेत चार बच्चों की मौत की खबर मिली। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि बस के अगले हिस्से के परखच्चे उड़ गए थे। जिस समय ये हादसा हुआ उसी वक्त दूसरे रास्ते से शहर के इंडस्ट्रियलिस्ट अलोक मूंदड़ा अपने फैक्ट्री के काम से देवास जा रहे थे। उन्होंने मौके पर पहुंचकर एक टीचर की मदद से पांच बच्चों को समय पर हॉस्पिटल पहुंचाया जिसमें एक बच्ची ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।

      (Dainikbhaskar.com से बातचीत में आलोक ने बताया)

      - आलोक ने बताया कि उनकी देवास इंडस्ट्रियल एरिया में पाइप लाइन की फैक्ट्री है। वे इंदौर की अहिल्यापुरी कॉलोनी में अपनी फैमिली के साथ रहते हैं। शुक्रवार को भी वे देवास फैक्ट्री के काम से जा रहे थे।

      - तभी उन्होंने बायपास पर एक्सीडेंट में डेमेज हुई बस और लंबा जाम देखा। स्कूल बस देखते ही अपनी कार ब्रिज के नीचे रॉन्ग साइड ले जाकर मौके पर पहुंचे।

      - आलोक ने बताया कि उनकी बच्ची भी इसी स्कूल में पढ़ती है। जब मौके पहुंचे तो एक्सीडेंट देखकर हैरान रह गए। बस के परखच्चे उड़ चुके थे। बस में मासूम बच्चे फंसे हुए थे।

      - वहां स्कूल के एक टीचर मदद के लिए चिल्ला रहे थे। लेकिन कुछ लोग वहां फैले डीजल में आग लगने का खतरा बताकर उन्हें रोक रहे थे।

      - आलोक के मुताबिक, उन्होंने टीचर और कुछ लोगों को साथ लेकर बच्चों को बस से निकालना शुरू किया। एक- एक कर पांच बच्चों को बाहर निकाला।

      - लंबा जाम होने से एम्बुलेंस का इंतजार करने की बजाए पांच बच्चों को उन्होंने अपनी कार में बैठाया, साथ ही बेजान पड़े ड्राइवर को कार की डिक्की में डालकर सीधे हॉस्पिटल पहुंचे।

      - उन्होंने बताया कि हॉस्पिटल पहुंचने के बाद जान पहचान के लोगो को रूट नंबर बताया और परिवार वालों तक ये खबर पहुंचाने को कहा।

      - ड्राइवर के साथ जिन बच्चों को हॉस्पिटल पहुंचाया था उनमें से एक बच्ची की मौत हो चुकी थी। उन्होंने बताया जब तक परिवार के लोग हॉस्पिटल नहीं पहुंचे थे वे वहीं पर खड़े रहे।

    • इंदौर हादसा : बच्चों को तड़पता देख शख्स ने रोकी कार, बचाई 4 बच्चों की जिंदगी
      +8और स्लाइड देखें
      इंडस्ट्रियलिस्ट अलोक मूंदड़ा की बेटी भी DPS में पढ़ती है।
    • इंदौर हादसा : बच्चों को तड़पता देख शख्स ने रोकी कार, बचाई 4 बच्चों की जिंदगी
      +8और स्लाइड देखें
      आलोक ने पांच लोगों को घायलों को अपनी कार में बैठाकर हॉस्पिटल पहुंचाया था।
    • इंदौर हादसा : बच्चों को तड़पता देख शख्स ने रोकी कार, बचाई 4 बच्चों की जिंदगी
      +8और स्लाइड देखें
      हादसे के दौरान बस के परखच्चे उड़ गए थे।
    • इंदौर हादसा : बच्चों को तड़पता देख शख्स ने रोकी कार, बचाई 4 बच्चों की जिंदगी
      +8और स्लाइड देखें
      बच्चों को तुरंत बॉम्बे हॉस्पिटल ले जाया गया।
    • इंदौर हादसा : बच्चों को तड़पता देख शख्स ने रोकी कार, बचाई 4 बच्चों की जिंदगी
      +8और स्लाइड देखें
      बच्चों के परिजन।
    • इंदौर हादसा : बच्चों को तड़पता देख शख्स ने रोकी कार, बचाई 4 बच्चों की जिंदगी
      +8और स्लाइड देखें
      खबर मिलने के बाद जो जैसा था सीधे हॉस्पिटल पहुंच रहा था।
    • इंदौर हादसा : बच्चों को तड़पता देख शख्स ने रोकी कार, बचाई 4 बच्चों की जिंदगी
      +8और स्लाइड देखें
      ड्राइवर समेत 4 मासूम बच्चों की मौत हो गई।
    • इंदौर हादसा : बच्चों को तड़पता देख शख्स ने रोकी कार, बचाई 4 बच्चों की जिंदगी
      +8और स्लाइड देखें
      हॉस्पिटल में परिजन।
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Indore News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
    Web Title: Man Save Lives Of Four Children During School Bus Accident
    (News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    More From News

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×