--Advertisement--

धर्म विशेष के खिलाफ विवादित पोस्टर, 3 नाबालिग सहित 7 आरोपियों पर देशद्रोह का केस दर्ज

सात आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने देशद्रोह व धार्मिक भावनाएं भड़काने का केस दर्ज किया है।

Dainik Bhaskar

Dec 04, 2017, 07:04 AM IST
minor including anti-religion special cases filed for treason

खंडवा (इंदौर). ईद मिलादुन्नबी के जुलूस के दौरान धर्म विशेष के खिलाफ भड़काऊ पोस्टर लगाने, मैटर तैयार कराने व जुलूस में लेकर घूमने पर सात आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने देशद्रोह व धार्मिक भावनाएं भड़काने का केस दर्ज किया है। उन्हें गिरफ्तार भी कर लिया है। आरोपियों में तीन नाबालिग हैं। यह पोस्टर जलेबी चौक पर कृष्णा बेकरी के सामने लगाया था। शहर में शनिवार 2 दिसंबर को निकले जुलूस में धर्म विशेष के खिलाफ भड़काऊ पोस्टर भी था, जिस पर पुलिस की नजर नहीं गई। जबकि जुलूस में पुलिस के दो ड्रोन, 15 वीडियो कैमरे चल रहे थे।

- कंट्रोल रूम में सीसीटीवी कैमरों से भी नजर रखी जा रही थी। दूसरे दिन रविवार को इस पोस्टर की जानकारी अफसरों को दी गई। यह पोस्टर सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। इसकी खबर प्रदेश शासन तक पहुंची। इसके बाद पुलिस व प्रशासन हरकत में आया।

- इमलीपुरा, जलेबी चौक से संदिग्धों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया। रविवार 3 दिसंबर की रात पुलिस ने मामले का खुलासा किया। पुलिस ने बताया रेहान पिता नईम खान (20) निवासी इमलीपुरा, शाहरूख पिता अब्बास (18) निवासी गुलमोहर कालोनी व 5 साथियों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ देशद्रोह की धारा 124(ए) व धार्मिक भावनाएं भड़काने पर 153 (ए) के तहत प्रकरण दर्ज किया।

नईम ने तैयार किया, पंकज ने प्रिंट किया
- मामले में आरोपी नईम की खड़कपुरा स्थित धोबी गली में जनता प्रेस के नाम से ग्राफिक्स की दुकान है। उसी ने विवादित मैटर तैयार किया।

- कुम्हारबेड़ा स्थित पंकज ग्राफिक्स के प्रोपराइटर पंकज सोनी से प्रिंट करवाया।

- एसपी नवनीत भसीन ने बताया पंकज ने बगैर देखे विवादित पोस्ट को प्रिंट किया जिसके लिए उस पर धारा 188 की कार्रवाई होगी।

यह है धारा 124 (ए)
- कोई भी आदमी यदि देश के खिलाफ लिखकर, बोलकर, संकेत देकर या फिर अभिव्यक्ति के जरिए विद्रोह करता है या फिर नफरत फैलाता है या ऐसी कोशिश करता है तब मामले में आईपीसी की धारा-124 (ए) के तहत केस बनता है। इस कानून के तहत दोषी पाए जाने पर अधिकतम उम्रकैद की सजा का प्रावधान है।

यह है धारा 153 (ए)
- आईपीसी की धारा 153 (ए) उन लोगों पर लगाई जाती है, जो धर्म, भाषा, नस्ल वगैरह के आधार पर लोगों में नफरत फैलाने की कोशिश करते हैं। धारा 153 (ए) के तहत 3 साल तक की कैद या जुर्माना या दोनों हो सकते हैं। अगर ये अपराध किसी धार्मिक स्थल पर किया जाए तो 5 साल तक की सजा और जुर्माना भी हो सकता है।

गृहमंत्री ने किया ट्वीट, कहा-जहर बोने वालों पर होगी कठोर कार्रवाई
- शहर के विवादित पोस्टर के वायरल होने के बाद इस पर गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने भी ट्वीट किया। उन्होंने पोस्टर ट्वीट करते हुए कहा खंडवा में वैमनस्य फैलाने वाले इस पोस्टर के मामले में अपराध कायम कर लिया है। संदेही से पूछताछ की जा रही है। आरोपियों की खाेज जारी है।

- मध्यप्रदेश में जहर बोने के हर प्रयास पर सरकार कठोर कार्रवाई करेगी। उन्होंने यह ट्वीट रविवार शाम 4.47 बजे किया। इस ट्वीट को 120 बार ट्वीट किया। इसे 286 लोगों ने लाइक किया।

जुलूस में थानेदार से धक्का-मुक्की, चार पर केस दर्ज
ईद के जुलूस में शनिवार दोपहर 12 बजे जावेद निवासी जलेबी चौक व उसके अन्य तीन साथियों ने ड्यूटी कर रहे देशगांव चौकी के एसआई टीसी शिंदे से धक्का मुक्की कर शासकीय कार्य में बाधा पहुंचाई। मोघट पुलिस ने जावेद व उसके तीन साथियों के खिलाफ धारा 153 सहित अन्य धाराओं में केस दर्ज किया।

प्रिंटिंग प्रेस वालों को चेताया
- कलेक्टर अभिषेक सिंह व एसपी नवनीत भसीन ने रविवार रात 10 बजे शहर के प्रिंटिंग प्रेस संचालकों की बैठक ली। जिसमें उन्होंने चेतावनी दी कि आगे से कोई ऐसा करता है तो उसके खिलाफ 188 की कार्रवाई होगी। अगर आपके पास कोई ऐसा विवादित मैटर लेकर आता है तो आप उसका नाम, मोबाइल नंबर, पता लें और पुलिस को सूचना दें। कोई मैटर छापकर देते हैं तो उसका पक्का बिल भी दें।

हिंदू संगठन अाज पैदल मार्च के बाद देंगे ज्ञापन
शहर में लगे विवादित पोस्टर और अन्य मामलों पर सभी हिंदू संगठनों के कार्यकर्ता 4 दिसंबर सोमवार को शहर में मार्च निकालकर कलेक्टर को ज्ञापन देंगे। जानकारी के मुताबिक लोग घंटाघर पर एकत्रित होंगे। दोपहर 12 बजे कलेक्टोरेट तक पैदल मार्च करेंगे। अफसरों के सामने अपनी बात रखेंगे।

आरोपी और धाराएं बढ़ेंगी
- मामले में 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। जिसमें 3 आरोपी नाबालिग हैं। प्रिंट करने वाले युवकों के खिलाफ 188 का केस दर्ज होगा। आरोपियों की संख्या और धाराएं भी बढ़ेंगी। - नवनीत भसीन, एसपी

minor including anti-religion special cases filed for treason
X
minor including anti-religion special cases filed for treason
minor including anti-religion special cases filed for treason
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..