--Advertisement--

रुपए नहीं मिले तो चुराई पिस्टल, आरोपी बोला-कोई जलील करेगा तो चमका दूंगा

छुट्‌टी नहीं ली और वारदात वाली 19 जनवरी की रात 3 बजे घर जाकर हथियार छुपाए और 20 की सुबह 8 बजे फिर कैंटीन पर आ गया था।

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 07:32 AM IST
money is not paid, then stole pistol

देवास (इंदौर). दस दिन पहले जिला अदालत के मालखाना से पिस्टल और एयरगन सहित अन्य हथियार और बैंक से एलईडी मॉनीटर की चोरी करने वाला अदालत परिसर में संचालित चाय कैंटीन का 20 वर्षीय कर्मचारी निकला। उसने दो दोस्तों के साथ यह वारदात की थी। शक न हो इसलिए उसने घटना के बाद एक भी दिन छुट्‌टी नहीं ली और वारदात वाली 19 जनवरी की रात 3 बजे घर जाकर हथियार छुपाए और 20 की सुबह 8 बजे फिर कैंटीन पर आ गया था।

- पूछताछ में कहा कि उसे पता था कि मालखाना में जब्ती के रुपए और हथियार रखे जाते हैं। वारदात के दौरान जब मालखाना में नकदी रुपए नहीं मिले तो यह सोचकर पिस्टल, कट्‌टे चुरा लिए कि चाय, समोसे देने जाते समय कई बार कोर्ट परिसर में वकील, पक्षकार, कैंटीन मालिक, पुलिसवाले उससे तू-तुकारे से बात करते हैं, इन हथियार से अब उन्हें चमका देंगे।
- एसपी अंशुमानसिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में चोरी का खुलासा करते हुए कहा कि कोर्ट परिसर की वारदात से सनसनी फैल गई थी। हथियार चोरी गए थे इसके चलते तत्काल सिविल लाइंस पुलिस के अलावा क्राइम ब्रांच को भी निगरानी के लिए तैनात कर दिया था। चूंकि शक यही था कि कोर्ट परिसर का जानकार ही वारदात में शामिल है इसलिए सब पर नजर रखी और पूछताछ की।

- इसी दौरान यह पता चला कि कैंटीन भी है इस पर उसके कर्मचारियों से पूछताछ शुरू की। कैंटीन का कर्मचारी महेश बामनिया भील (20) निवासी हालमुकाम पटेल काॅलोनी-देवास एक बार में ही टूट गया।

- उसने प्राइवेट से 10वीं की तैयारी कर रहे राकेशराज बारेला (19) निवासी गर्ग स्टेट-देवास एवं अमित वर्मा (18) निवासी पटेल नगर-देवास के साथ वारदात करना कबूला। पुलिस ने इनके कब्जे से मालखाना से चोरी गई चार पिस्टल, 2 एयरगन, दो मोबाइल और बैंक ऑफ इंडिया की शाखा से चोरी किया एक एलईडी मॉनीटर बरामद किया है।

आरोपियों ने 10 दिन में एक बार भी मोबाइल नहीं किए थे चालू

- मालखाना से दो मोबाइल भी चोरी हुए थे इसलिए आरोपियों तक पहुंचने के लिए मोबाइल को भी सर्चिंग एप पर डाल रखा था लेकिन आरोपियों ने 10 दिन में एक बार भी चोरी किए गए मोबाइल को चालू नहीं किया।

- टीआई शैलेंद्र मुकाती ने बताया कैंटीन का कर्मचारी महेश व उसके दोनों साथी 19 जनवरी की शाम जब कोर्ट परिसर बंद हुआ तो वे बाहर नहीं आए और वहीं छुपकर छत जाकर रात तक बैठे रहे।

- इसके बाद मालखाना और बैंक ऑफ इंडिया में चोरी की। फिर छत के रास्ते दीवार फांदकर भाग गए। 20 जनवरी की सुबह 8 बजे महेश फिर कैंटीन पर रोज की तरह काम करने आ गया था।

5 मार्च को पेपर है आरोपी का

- वारदात में शामिल आरोपी राकेश प्राइवेट तैयारी कर 10वीं की परीक्षा देने वाला है। 5 मार्च को उसका पेपर है। अन्य आरोपी अमित कहता रहा कि मैं चोरी करने नहीं गया लेकिन पहचान के कारण उलझ गया हूं। पुलिस ने अमित के घर से दो पिस्टल बरामद किए हैं।

फुटेज में दिखे बड़े कान से मिला था पहला सुराग
- पुलिस सूत्रों के अनुसार 10 दिन में पुलिस कोर्ट परिसर के तमाम स्टाफ से पूछताछ कर चुकी थी लेकिन कोई सुराग नहीं था। पूछताछ में जोर दिया कि आखिरी और कौन यहां आता-जाता है। तब चाय वाले की बात निकली। क्राइम ब्रांच ने तुरंत कैंटीन में जाकर मालिक और उसके कर्मचारियों से पूछताछ शुरू की।

- इसमें से एक कर्मचारी महेश बामनिया जिसके कान सामान्य से हल्के बड़े हैं, यह देख पुलिस को शक हुआ। उसने बैंक ऑफ इंडिया के कैमरे के वीडियो फुटेज खंगाले तो देखा उसमें भी हुलिया मैच हो रहा था।

- इस पर आरोपी से पूछा कि कौन सी देवी-देवता की पूजा करते हो। उसने नाम बताया। दरअसल, फुटेज में यह भी दिख रहा था कि उसने दो बार टेबल पर रखी देवी की तस्वीर को छूकर प्रणाम किया था। जैसे ही पुलिस ने सख्ती तो वह कंपकंपाने लगा और वारदात कबूली। अपने दो साथियों के नाम भी बता दिए।

money is not paid, then stole pistol
X
money is not paid, then stole pistol
money is not paid, then stole pistol
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..