Hindi News »Madhya Pradesh News »Indore News »News» My Daughter, The Last Time She Was Crying Like This

बेटी को आखिरी बार ऐसे दुलारती रही मां, रातभर डेडबॉडी पर फेरती रही हाथ

Bhaskar News | Last Modified - Jan 07, 2018, 08:21 PM IST

शनिवार का दिन इंदौर के लिए शायद सबसे दुखद रहा। बायपास पर शुक्रवार को हुए बस एक्सीडेंट में चारों बच्चों की अंतिम यात्रा ख
    • 6 साल की मासूम के श्रुति की डेडबॉडी को पोस्टमार्टम के बाद परिवार के लोग रात में घर ले आए थे । मां बेटी की डेडबॉडी पर रातभर हाथ फेरती रहीं।

      इंदौर. शनिवार का दिन इंदौर के लिए शायद सबसे दुखद रहा। बायपास पर शुक्रवार को हुए बस एक्सीडेंट में चारों बच्चों की अंतिम यात्रा खातीवाला इलाके से निकाली गई। इस दौरान हाजारों के संख्या में लोग मौजूद रहा। वहीं 6 साल की मासूम के श्रुति की डेडबॉडी को पोस्टमार्टम के बाद परिवार के लोग रात में घर ले आए थे । मां बेटी की डेडबॉडी पर रातभर हाथ फेरती रहीं। बेटी को ऐसे चुप देख फूट पड़े मां के आंसू....

      - 20 साल की मन्नत के बाद लुधियानी परिवार में आई साढ़े 6 साल की श्रुति के डेडबॉडी को पोस्टमार्टम के बाद परिवार के लोग रात में ही घर ले आए थे।

      - इकलौती बेटी को कफन में लिपटा देख मां राधा मानो पत्थर सी हो गई। न तो उनकी आवाज निकली और न ही आंसू। परिवार ने झकझोरा तो वह डेडबॉडी से लिपटकर रोने लगी।

      - हालत गंभीर हुई तो रात में ही डॉक्टर बुलाकर उनका इलाज करवाया। रातभर वह बेटी के डेडबॉडी पर हाथ फेरती रहीं।

      - सुबह जब बेटी को अंतिम संस्कार के लिए ले जाने की बारी आई तो पूरे परिवार की लाड़ली रही श्रुति के लिए एक विशेष कार को फूलों से सजाया गया।

      - चाचा मोहन लुधियानी ने बताया बेटी के जाने से हमारा पूरा परिवार सूना हो गया है। वही अकेली लड़की पूरे परिवार में थी।

      - स्कूल से आने के बाद या छुट्टी के दिन उसे कार में घूमने का शौक था, इसीलिए कार से ही उसकी अंतिम यात्रा निकाली।

      - श्रुति की मां के साथ सत्संग करने वाली रेखा दरियानी ने बताया 20 साल की मन्नत के बाद हुई बेटी को एक झटके में अचानक खो देने से मां सदमे में है।

      ऐसे हुआ हादसा...

      - शुक्रवार को डीपीएस (दिल्ली पब्लिक स्कूल) में छुट्‌टी के बाद बस 12 बच्चों को घर छोड़ने जा रही थी। बायपास पर बस का स्टयरिंग फेल होने से चालक का संतुलन बस पर से हट गया।

      - बस डिवायडर फादते हुए गलत दिशा में घुस गई और सामने से आ रहे ट्रक से टकरा गई। हादसे में बस चालक स्टेयरिंग पर फंस गया जससे उसने वहीं पर दम तोड़ दिया।

      - हादसे के बाद आसपास गुजर रहे लोगों ने पुलिस और एम्बुलेंस को सूचना दी। बच्चों की फैमिली को जैसे ही इस हादसे की जानकारी मिली जो जिस हाल में था वैसे ही घटनास्थल की ओर दौड़ पड़ा।

    • बेटी को आखिरी बार ऐसे दुलारती रही मां, रातभर डेडबॉडी पर फेरती रही हाथ
      +5और स्लाइड देखें
      20 साल की मन्नत के बाद लुधियानी परिवार जन्म हुआ था श्रुति का।
    • बेटी को आखिरी बार ऐसे दुलारती रही मां, रातभर डेडबॉडी पर फेरती रही हाथ
      +5और स्लाइड देखें
      इकलौती बेटी को कफन में लिपटा देख मां के आंसू नहीं थम रहे थे।
    • बेटी को आखिरी बार ऐसे दुलारती रही मां, रातभर डेडबॉडी पर फेरती रही हाथ
      +5और स्लाइड देखें
      स्कूल से आने के बाद या छुट्टी के दिन उसे कार में घूमने का शौक था, इसीलिए कार से ही उसकी अंतिम यात्रा निकाली।
    • बेटी को आखिरी बार ऐसे दुलारती रही मां, रातभर डेडबॉडी पर फेरती रही हाथ
      +5और स्लाइड देखें
      पिता ने बेटी को अपने हाथों से मुखाग्नि दी।
    • बेटी को आखिरी बार ऐसे दुलारती रही मां, रातभर डेडबॉडी पर फेरती रही हाथ
      +5और स्लाइड देखें
      हजारों लोग मासूमों की अंतिम यात्रा में उमड़ पड़े।
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Indore News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
    Web Title: My Daughter, The Last Time She Was Crying Like This
    (News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    Stories You May be Interested in

        रिजल्ट शेयर करें:

        More From News

          Trending

          Live Hindi News

          0
          ×