--Advertisement--

सस्ता-महंगा - डेबिट कार्ड व भीम एप से पेमेंट करना सस्ता,

आज से होने वाले वो अहम बदलाव जो आपको सीधे प्रभावित करेंगे

Danik Bhaskar | Jan 01, 2018, 07:01 AM IST

रतलाम. 1 जनवरी से नए साल में कई बदलाव हो रहे हैं। कुछ हमारी बचत बढ़ाएंगे तो कुछ जेब पर भारी पड़ेंगे। डेबिट कार्ड और भीम एप से पेमेंट पर शुल्क में रियायत मिलेगी तो कार और बाइक खरीदना महंगा होगा। लघु बचत योजनाओं पर कम ब्याज मिलेगा। जयपुर एंड बीकानेर बैंक जो एसबीआई में विलय हुआ है उसके चेक आज से बाजार में नहीं चलेंगे। उर्वरक की सब्सिडी अब किसानों के बैंक अकाउंट में आएगी। 5. स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड

जयपुर के बैंक के चेक आज से नहीं चलेंगे

एसबीआई में विलय होने के बाद एसबीबीजे के चेक आज से मान्य नहीं होंगे। अप्रैल में इस बैंक का विलय हुआ था और शहर के 11 हजार ग्राहक एसबीआई के ग्राहक बन गए थे। चेक क्लियर के लिए ग्राहकों को 31 दिसंबर तक का समय दिया गया था। यह पूरा हो गया है।

आरडी, एनएससी में कम ब्याज
डाकघर की लघु बचत योजनाओं में ब्याज दरें घटा दी है। ब्याज 0.2% कम मिलेगा। जनवरी-मार्च तिमाही में एनएससी और पीपीएफ पर 7.6% ब्याज मिलेगा। किसान विकास पत्र पर ब्याज दर 7.3% और सुकन्या समृद्धि पर 8.1% होगी। 5 साल वाली सीनियर सिटीजंस सेविंग्स स्कीम पर 8.3% की ब्याज दर बरकरार रखी गई है।इन योजनाओं में 75 हजार अकाउंट है।

वाहन 25 हजार रुपए तक महंगे
कार और बाइक कंपनियां दाम बढ़ा रही हैं। मारुति ने अलग-अलग मॉडल के दाम 22,000 रुपए, फॉक्स वैगन ने 20,000 रुपए, टाटा मोटर्स और होंडा कार्स ने 25,000 रुपए और टोयोटा, स्कोडा और महिंद्रा ने 3% तक बढ़ाने का ऐलान किया है। हीरो मोटोकॉर्प ने बाइक के दाम में 400 रुपए बढ़ोतरी की बात कही है।

2000 रुपए के पेमेंट पर शुल्क नहीं
आज से डेबिट कार्ड, भीम एप, यूपीआई या आधार एनेबल्ड पेमेंट सिस्टम के जरिए बेफिक्र भुगतान कर सकते है। कारण 2,000 रुपए तक के पेमेंट पर कोई शुल्क नहीं लगना है। इस पर लगने वाले मर्चेंट डिस्काउंट रेट का भुगतान सरकार बैंकों को करेगी। अभी दुकानदार मर्चेंट डिस्काउंट रेट के रूप में लगने वाला शुल्क बैंकों को देते हैं। ज्यादातर दुकानदार यह रकम ग्राहकों से ही वसूलते हैं।

उर्वरक की सब्सिडी अकाउंट में आएगी
गैस सब्सिडी की तरह ही उर्वरक में डीबीटीएल लागू किया है। किसानों को उर्वरक सब्सिडी सीधे उनके बैंक खाते में मिलेगी। सब्सिडी का दुरुपयोग रोकने में मदद मिलेगी। जिले के तीन लाख से ज्यादा किसानों को उनके अकाउंट में सब्सिडी आएगी। सोसायटियों में पीओएस मशीनें भी लगाई है। इसके जरिए खाद दी जाएगी।