--Advertisement--

अनुमति नहीं होने पर पुलिस ने हिंदू नेता के काफिले को शहर में नहीं आने दिया

हिंदूवादी नेता उपदेश राणा को स्थानीय प्रशासन ने बदनावर नगर में प्रवेश नहीं करने दिया।

Danik Bhaskar | Jan 15, 2018, 06:24 AM IST

बदनावर(इंदौर) . हिंदूवादी नेता उपदेश राणा को स्थानीय प्रशासन ने बदनावर नगर में प्रवेश नहीं करने दिया। राणा के आने की भनक लगते ही बड़ी चौपाटी के साथ नगर के विभिन्न मार्गों पर सुबह से ही पुलिस तैनात की गई थी। कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए बाहर से भी फोर्स बुलाया था। रविवार को राणा यहां गोसेवकों द्वारा आयोजित गोकथा की आरती में शामिल होने आए थे। उनका प्राचीन बैजनाथ महादेव मंदिर में दर्शन का कार्यक्रम भी था। किंतु प्रशासन ने उन्हें बदनावर में प्रवेश नहीं करने दिया।

- वे इंदौर मार्ग से जैसे ही बड़ी चौपाटी पहुंचे, वहां पहले से ही तैनात पुलिस ने नगर में जाने से रोक दिया। इस दौरान काफी देर तक राणा व पुलिस के बीच गरमागरमी भी हुई। बाद में वे समर्थकों के साथ रतलाम रोड पर मुलथान के पास एक होटल पर पहुंचे। जहां आगामी रणनीति बनाई। बाद में दोबारा कार्यक्रम में शामिल होने के लिए बदनावर आए, किंतु टीआई सुनील गुप्ता फोर्स के साथ चौपाटी पर मौजूद थे।

- उन्होंने राणा को प्रवेश करने से रोक दिया। तब उन्होंने कहा कि मुझे केवल बैजनाथ महादेव मंदिर के दर्शन करवा दीजिए। किंतु पुलिस इसके लिए भी तैयार नहीं हुई। इस बीच समर्थकों ने एसपी व एडिशनल एसपी से भी चर्चा की। उन्होंने भी अनुमति देने से मना कर दिया।

बामनसुता जाकर टीआई ने दी समझाइश
- अनुमति नहीं मिलने पर राणा नाराज होकर बड़नगर की ओर रवाना हो गए। किंतु करीब 5 किमी दूर ग्राम बामनसुता के पास पुनः उनका काफिला रुक गया और बदनावर आने के लिए दोबारा तैयारी करने लगे। इसकी भनक लगते ही पुलिस बल के साथ टीआई मौके पर पहुंचे व उन्हें समझाइश दी।

राणा का प्रताड़ित करने का आरोप
- चौपाटी पर मीडियाकर्मियों से चर्चा में राणा ने कहा कि मेरा बदनावर आने का कार्यक्रम पहले से तय था। किंतु प्रशासन ने मुझे प्रवेश से रोक दिया। मेरे साथ बड़े अपराधी की तरह व्यवहार कर प्रताड़ित किया जा रहा है।