Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» Professor Copies Will Take Home To Check

प्रोफेसर कॉपियां जांचने घर ले जाएंगे तो बताना होगा कितने दिन में लौटाएंगे?

कॉपियां जांचकर कितने दिन में लौटाएगा, इसकी समय सीमा भी बताना होगी।

Bhaskar News | Last Modified - Jan 08, 2018, 06:44 AM IST

  • प्रोफेसर कॉपियां जांचने घर ले जाएंगे तो बताना होगा कितने दिन में लौटाएंगे?

    इंदाैर.देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी, मूल्यांकन व्यवस्था को लेकर सख्ती करने जा रही है। अब कोई भी मूल्यांकनकर्ता कॉपियों के बंडल घर ले जाएगा तो वह कॉपियां जांचकर कितने दिन में लौटाएगा, इसकी समय सीमा भी बताना होगी। कुलपति प्रो. नरेंद्र कुमार धाकड़ ने बताया कि अभी मूल्यांकनकर्ता समय पर कॉपियां नहीं लौटाते। कई बार तो 40 कॉपियों का एक बंडल लौटाने में महीनाभर लगा देते हैं, जबकि सामान्य तौर पर 10 बंडल 10 दिन में उससे भी कम समय में लाैटा दिए जाते हैं।

    - खास कर बीबीए, बीएड और लॉ की कॉपियों में देरी होती है। अब इन परीक्षाओं के मूल्यांकन में ध्यान रखा जाएगा कि हर हाल में समय सीमा का पालन किया जाए। मूल्यांकनकर्ताओं के कॉपियां ले जाते समय संबंधित विषय या कोर्स के ओएसडी की जिम्मेदारी होगी कि वह तय समय में सारी कॉपियां मंगवाएं।


    रिजल्ट के लिए 45 दिन की मियाद तय
    - यूनिवर्सिटी ने तय किया है कि कोई भी रिजल्ट 45 दिन में देना है। वैसे 30 दिन में रिजल्ट घोषित करने का टारगेट तय किया गया है। खासकर वार्षिक परीक्षाओं में इस बात का सबसे ज्यादा ध्यान रखा जाएगा। अभी स्थिति यह है कि मूल्यांकनकर्ता कम होने और देर से कॉपियां लौटाने सहित अन्य वजह से रिजल्ट दो से साढ़े चार माह में आ पा रहे हैं।

    जनवरी-फरवरी के लिए यूनिवर्सिटी ने तैयार किया आठ प्रमुख परीक्षाओं का शेड्यूल


    - देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी ने लंबे समय से अटकी पांच प्रमुख परीक्षाओं की तैयारी शुरू हो गई। एलएलबी तीसरे और पांचवें सेमेस्टर की परीक्षाएं इसी महीने के आखिरी सप्ताह में होगी। 15 जनवरी के बाद परीक्षा फॉर्म जमा होंगे। हालांकि इसी कोर्स के दूसरे और चौथे सेमेस्टर का रिजल्ट अभी नहीं आया है।

    - प्रबंधन का कहना है 12 जनवरी तक दोनों रिजल्ट घोषित कर दिए जाएंगे। इधर, यूनिवर्सिटी प्रशासन ने बीएड और एमएड का बेहद लेट चल रहा शेड्यूल भी समय पर लाने में जुट गया है। सबसे ज्यादा परेशानी एमएड और बीएड के छात्रों की है।

    - एमएड में 2016-17 सत्र में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों की पहले सेमेस्टर की परीक्षा अब जाकर फरवरी में होगी। वहीं 2015-16 में प्रवेश लेने वाले छात्रों की भी दूसरे सेमेस्टर की परीक्षा फरवरी में ही होगी। इधर, बीएड में 2016-17 सत्र में प्रवेश लिए छात्रों की दूसरे सेमेस्टर की परीक्षा भी साथ होगी। यूनिवर्सिटी इस देरी की वजह कहीं न कहीं तकनीकी कारणों को बता रही है।

    मेडिकल की बची हुई परीक्षाओं पर भी जोर

    इधर, यूनिवर्सिटी का जोर मेडिकल की बची हुई परीक्षाओं पर भी है। बीडीएस फाइनल और एमबीबीएस थर्ड ईयर पार्ट टू की परीक्षाएं फरवरी के पहले सप्ताह में शुरू होंगी। दरअसल मेडिकल की सारी परीक्षाएं अब मेडिकल यूनिवर्सिटी जबलपुर शिफ्ट हो गई हैं। इसलिए बची हुई परीक्षाएं समय पर पूरी करवाकर यूनिवर्सिटी सारे रिजल्ट तय समय पर घोषित करने में जुटी है। परीक्षा नियंत्रक प्रो. अशेष तिवारी ने कहा हम परीक्षाओं की पूरी प्लानिंग कर रहे हैं। सभी बची हुई परीक्षाएं जनवरी-फरवरी में कराई जाएंगी। एमएड-बीएड और एलएलबी की परीक्षाओं पर खास ध्यान है। इसके अलावा मेडिकल की भी दो परीक्षाएं हैं जो इसी माह के अंतिम सप्ताह से फरवरी के पहले सप्ताह के बीच आरंभ होंगी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×