Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» Professor Will Be Able To Provide Services Even After Retiring In 5 Years

5 साल में रिटायर होने के बाद भी 5 साल और सेवाएं दे सकेंगे प्रोफेसर

यूनिवर्सिटी और कॉलेजों में नियमित प्रोफेसरों की कमी दूर करने के लिए यूजीसी ने महत्वपूर्ण कदम उठाया है।

Bhaskar News | Last Modified - Feb 12, 2018, 03:39 AM IST

इंदौर | यूनिवर्सिटी और कॉलेजों में नियमित प्रोफेसरों की कमी दूर करने के लिए यूजीसी ने महत्वपूर्ण कदम उठाया है। इसके तहत उसने यह अनुमति दे दी है कि 65 साल में प्रोफेसर के रिटायरमेंट के बाद भी 5 साल तक के लिए यूनिवर्सिटी की अनुमति से अनुबंध के आधार पर इनकी सेवाएं जारी रखी जा सकती हैं। हालांकि इसके लिए पहले प्रदेश सरकार को औपचारिक आदेश जारी करना होगा।यूजीसी ने अपनी तरफ से अनुमति दे दी है। पहले इसे यूनिवर्सिटी टीचिंग विभाग और फिर कॉलेजों में लागू किया जाएगा।


अब दस साल से ज्यादा कॉलेज प्राचार्य नहीं : नए नियम के तहत अब किसी भी कॉलेज में लगातार 10 साल से ज्यादा एक ही प्रोफेसर प्राचार्य नहीं रह सकेगा। वैसे तो 5 साल में ही बदलाव करना होगा, लेकिन कॉलेज विशेष परिस्थिति में दूसरा कार्यकाल दे सकेंगे। अब इसे अनिवार्य किया जाएगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×