Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» Second Day Of Nurses Strike; Waiting For The Patient To Treat

नर्सों की हड़ताल का दूसरा दिन; इलाज के लिए मरीज करते रहे इंतजार

मांगों को लेकर की जा रही नर्सों की हड़ताल का मंगलवार को दूसरा दिन था।

Bhaskar News | Last Modified - Jan 17, 2018, 04:44 AM IST

  • नर्सों की हड़ताल का दूसरा दिन;  इलाज के लिए मरीज करते रहे इंतजार

    इंदौर .मांगों को लेकर की जा रही नर्सों की हड़ताल का मंगलवार को दूसरा दिन था। इसके बाद भी एमवाय अस्पताल प्रबंधन और एमजीएम मेडिकल कॉलेज के अधिकारियों ने वैकल्पिक इंतजाम ही नहीं किए। इस कारण कुछ जरूरी ऑपरेशन तक नहीं हो पाए। वहीं मरीज इलाज की आस में दिनभर इंतजार करते रहे। आखिरकार उन्हें कहा गया कि नर्सिंग स्टाफ नहीं है, बाद में आना।

    विदिशा की महिला छह दिन से भर्ती, कब होगा ऑपरेशन नहीं बताया
    - ढाई सौ किलोमीटर दूर विदिशा से आई 30 वर्षीय सीमा। 11 जनवरी से एमवाय में भर्ती है। मंगलवार को गठान का ऑपरेशन होना था। सुबह उसे ओटी में भी ले जाया गया, लेकिन जब नर्सें उपलब्ध नहीं हुईं तो ऑपरेशन टाल दिया गया। पति मनोहरलाल ने बताया कि छह दिन से काम छोड़कर इलाज के लिए आए हैं। अब कब ऑपरेशन होगा, अभी यह नहीं बताया।

    बर्न यूनिट में भर्ती महिला को कहा कहीं और ले जाएं

    - जलने के कारण सनावद से शोभा को सोमवार शाम 4 बजे परिजन एमवाय लेकर पहुंचे। बर्न यूनिट में भर्ती किया गया। पहले दिन पर्याप्त इलाज नहीं मिला। सुबह महिला के जेठ जगदीश को वार्ड के स्टाफ ने कह दिया कि नर्सों की हड़ताल है। मरीज को कहीं और ले जाओ।

    दो बजे तक इंतजार, फिर भी डायलिसिस नहीं हुआ
    - खजराना निवासी 65 वर्षीय मयुनिद्दीन के डायलिसिस के लिए परिजन डायलिसिस वार्ड के बाहर दोपहर दो बजे तक खड़े रहे। बेटे हिदायतुल्ला ने बताया स्टाफ ने कहा कि इमरजेंसी वालों का डायलिसिस करेंगे।

    - पीथमपुर की कुसुमबाई को भी यही कहकर मना कर दिया कि नर्सों की हड़ताल है। डायलिसिस वार्ड दोपहर तीन बजे ही बंद करना पड़ा, जबकि रोज रात आठ बजे तक खुला रहता है। ग्राम टवलाई (धार) के कैलाश का पैर हादसे में टूट गया। यहां भर्ती किया, इलाज नहीं मिला तो उन्हें दूसरे अस्पताल ले जाया गया। शासकीय कैंसर हॉस्पिटल में इंजेक्शन और कीमोथैरेपी वार्ड बंद रहा।

    हड़ताल अवैधानिक, आज कार्रवाई करेंगे

    - नर्सों की तीसरे व चौथे वेतनमान की मांग सही नहीं है। हड़ताल असंवैधानिक है। काम पर नहीं लौटे तो बुधवार को कार्रवाई करेंगे। सीनियर नर्स व नर्सिंग छात्राओं की ड्यूटी लगाई है। अगर व्यवस्थाएं प्रभावित हुई हैं तो एमवाय प्रशासन ही बता पाएगा।
    - डॉ. शरद थोरा, डीन, एमजीएम मेडिकल कॉलेज

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Indore News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Second Day Of Nurses Strike; Waiting For The Patient To Treat
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×