Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» Tanmay Bakshi : Worlds Youngest IBM Watson Developer

5 साल की उम्र में कोडिंग को खेल समझता था,13 की उम्र में दुनिया मानती है लोहा

तन्मय बख्शी भारतीय मूल के ऐसे शख्श हैं जो आज केवल 13 साल की उम्र में तकनीक की दुनिया का चमकता सितारा हैं।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Dec 18, 2017, 08:32 PM IST

    • हम अक्सर उम्र को समझदारी से जोड़कर देखते हैं, लेकिन कुछ बच्चे इस धारणा को झुठलाकर इतनी बड़ी उपलब्धियां हासिल कर लेते हैं कि हम यह सोचने पर मज़बूर हो जाते हैं कि कहीं हमने अपने बाल यूं ही धूप में तो सफ़ेद नहीं किये। तन्मय बख्शी भारतीय मूल के ऐसे ही एक शख्श हैं जो आज केवल 13 साल की उम्र में तकनीक की दुनिया का चमकता सितारा हैं। तन्मय के परिवार ने 2004 में कनाडा का रुख़ किया और तबसे उनका परिवार ब्रैम्पटन शहर में रहता है। 9 साल की उम्र में iphone के लिए पहला एप बनाने वाले तन्मय 5 साल की उम्र से ही कोडिंग कर रहे हैं, जिसे वो बचपन में खेल समझते थे आज वह उनका जुनून है।

      मज़ेदार सफ़र
      अपने सॉफ्टवेयर इंजीनियर पिता और मां के लाड़ले तन्मय घर में सबसे छोटे हैं, हालांकि शुरूआती दौर में उन्होंने असफ़लता भी देखी लेकिन जल्द ही बड़ी कामयाबी उनके हाथ लगी। आज वे दुनिया के सबसे छोटी उम्र के IBM वॉटसन डेवलपर हैं, TedX सहित वे apple के मुख्यालय, अमेरिका, इंग्लैंड, न्यूज़ीलैंड और ऑस्ट्रेलिया आदि के कई शहरों में अपने keynotes देते आये हैं।

      पिछले साल दुनियाभर में छाए
      पिछले वर्ष बेंगलुरु में IBM डेवलपर कनेक्ट के दौरान 10 हज़ार कोडर्स के बीच अपने भाषण में तन्मय ने AskTanmay नामक विश्व के संभवतः पहले नैचरल लैंग्वेज क्वेश्चन आंसरिंग सिस्टम (NLQA) का खुलासा कर सबको चौंका दिया था। यह बिल्कुल रॉबर्ट जॉन डॉनी जूनियर अभिनित साइंस फ़न्तासी फिल्म आयरन मैन के जार्विस नामक दर्शकों के चहेते कंप्यूटर-रोबोट जैसा था जो मनुष्यों के सभी काम बेहतर ढंग से करने में सक्षम है, यहां तक कि उस दिन यह दुनियाभर में चर्चा का विषय रहा, तन्मय ट्विटर-फ़ेसबुक आदि पर ट्रेंड कर रहे थे।

      एक लाख लोगों को कोडिंग सिखाना है मिशन
      घर पर ही अपने पिता से कोडिंग सीखने वाले तन्मय आज यूट्यूब वीडियोज़ द्वारा लाखों लोगों को अल्गोरिथम और कोडिंग का ज्ञान दे रहे हैं। बकौल तन्मय, 1 लाख भावी कोडर्स को कोडिंग सिखाना और प्रेरित करना उनका मिशन है।

      10 जनवरी को आ रहे हैं भोपाल
      छोटी सी उम्र में बड़े इरादे रखने वाले तन्मय 10 जनवरी को शहर में entrepreneurship cell, राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्विद्यालय द्वारा आयोजित Keynote special with Tanmay Bakshi नामक कार्यक्रम में युवाओं के बीच होंगे। कार्यक्रम में वे IBM वॉटसन और कृतिम बुद्धिमत्ता (artificial intelligence) से जुड़ी तकनीकी बारीकियों और मशीन लर्निंग अल्गोरिथम के साथ-साथ अपने इस बेहतरीन सफ़र के अनुभवों को भी साझा करेंगे। ज्ञात हो कि IBM वॉटसन 500GBps की गति से काम कर सकने में सक्षम है जो लगभग 10 लाख किताबें प्रति सेकंड डेटा के बराबर है। इस दौरान कई गैर-तकनीकी मज़ेदार प्रतियोगिताओं और वर्कशॉप्स में प्रतिभागियों के साथ-साथ युवाओं को सीधे तन्मय से सवाल पूछने का मौका भी मिलेगा ।

    • 5 साल की उम्र में कोडिंग को खेल समझता था,13 की उम्र में दुनिया मानती है लोहा
      +3और स्लाइड देखें
    • 5 साल की उम्र में कोडिंग को खेल समझता था,13 की उम्र में दुनिया मानती है लोहा
      +3और स्लाइड देखें
    • 5 साल की उम्र में कोडिंग को खेल समझता था,13 की उम्र में दुनिया मानती है लोहा
      +3और स्लाइड देखें
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

    More From News

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×